Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजदिल्ली पुलिस हवलदार मोहम्मद पंकज खान पर जमातियों को सीमा पार कराने के चलते...

दिल्ली पुलिस हवलदार मोहम्मद पंकज खान पर जमातियों को सीमा पार कराने के चलते कारण बताओ नोटिस

हवलदार मोहम्मद पंकज खान ने अपनी इस करतूत के फोटो बाकायदा अपने फेसबुक प्रोफाइल पर भी शेयर किए। अपने फेसबुक अकाउंट पर उसने यहाँ तक लिखा कि यदि किसी जमाती को बॉर्डर पार करना हो तो वह उससे फोन पर भी संपर्क कर सकता है।

दिल्ली पुलिस ने हेड कॉन्स्टेबल मोहम्मद पंकज खान के खिलाफ दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान मदरसा सदस्यों और जमातियों को अवैध रूप से सीमा पार करवाकर मेवात, हरियाणा पहुँचने में मदद करने के सम्बन्ध में जाँच शुरू कर दी है।

मोहम्मद पंकज खान ने फेसबुक पर लोगों को ‘सीमा पार’ करने में मदद करने की पेशकश करते हुए लिखा था कि बॉर्डर पार करने में दिक्कत हो तो संपर्क करें। रिपोर्ट्स के अनुसार पंकज खान ने इस काम के लिए अपने वाहन का इस्तेमाल किया, और राज्य की सीमा पार करने के लिए सीमा चौकी पर अपना पुलिस विभाग का पहचान पत्र दिखाया।

मोहम्मद पंकज के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। बताया जा रहा है कि अगर खान के खिलाफ लगाए गए सभी आरोप सही पाए जाते हैं तो खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी।

हवलदार मोहम्मद पंकज खान ने अपनी इस करतूत के फोटो बाकायदा अपने फेसबुक प्रोफाइल पर भी शेयर किए। अपने फेसबुक अकाउंट पर उसने यहाँ तक लिखा कि यदि किसी जमाती को बॉर्डर पार करना हो तो वह उससे फोन पर भी संपर्क कर सकता है। इसके बाद किसी व्यक्ति ने गत 04 अप्रैल को दिल्ली पुलिस आयुक्त को मेल कर हवलदार की करतूत के बारे में जानकारी दी।

फिलहाल हवलदार को आदेश के बाद क्वारंटाइन कर दिया गया है। जाँच के दौरान पता चला कि यह हवलदार मोहम्मद पंकज खान पहले भी संदिग्ध अपराधिक गतिविधियों में शामिल रह चुका है।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट में तैनात हवलदार मोहम्मद पंकज खान अकेल ऐसे शख्स नहीं हैं जिन्होंने अपनी वर्दी का गलत इस्तेमाल किया हो, इससे पहले भी दिल्ली पुलिस मुख्यालय में तैनात कॉन्स्टेबल इमरान भी जमातियों को सीमा पार करवाने में दोषी पाया गया था। इमरान दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी यूनिट में पदस्थापित था। बृहस्पतिवार (अप्रैल 2, 2020) को उसने अपनी कार में जमातियों को बिठा कर उन्हें यूपी पहुँचाया था। गाजियाबाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया था। रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद इमरान से यूपी पुलिस ने पूछताछ की थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इधर केरल का नाम बदलने की तैयारी में वामपंथी, उधर मुस्लिम संगठनों को चाहिए अलग राज्य: ‘मालाबार स्टेट’ की डिमांड को BJP ने बताया...

केरल राज्य को इन दिनों जहाँ 'केरलम' बनाने की माँग जोरों पर है तो वहीं इस बीच एक मुस्लिम नेता ने माँग की है कि मालाबार को एक अलग राज्य बनाया जाए।

ब्रिटानिया के लिए बंगाल की फैक्ट्री बनी बोझ, बंद करने का लिया फैसला: नैनो प्लांट पर विवाद के बाद टाटा ने भी छोड़ा था...

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता स्थित अपनी 77 वर्ष पुरानी फैक्ट्री को बंद करने का निर्णय लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -