Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजRSS नेताओं की हत्या की साजिश में जुटा पाकिस्तान का ISI, ड्रोन के जरिए...

RSS नेताओं की हत्या की साजिश में जुटा पाकिस्तान का ISI, ड्रोन के जरिए यूपी में हथियार डिलीवरी का प्लान: जानिए क्या है K-2

संघ से जुड़े नेताओं पर हमले करने के पीछे सबसे बड़ी वजह यह भी हो सकती है कि इससे उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक माहौल खराब कर दंगे कराए जा सके।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के नेताओं को मारने की ISI की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। साजिश को अंजाम देने लिए पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ने पंजाब के अपराधियों को मिलाया गया है। हमले के लिए हथियारों को उत्तर प्रदेश ले जा कर डिलीवरी के आदेश भी मिले हैं। हथियारों को ड्रोन के जरिये भेजा जा रहा है। इसके पीछे सांप्रदायिक तनाव फैलाने की साजिश बताया जा रहा है।

Z न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक उन्हें यह जानकारी भारतीय सुरक्षा एजेंसियों से मिली है। पंजाब, UP और मणिपुर में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में इन अलर्ट के बाद RSS से जुड़े नेताओं की सुरक्षा बढ़ाई जा सकती है। से जुड़े जानकारों के मुताबिक संघ से जुड़े नेताओं पर हमले करने के पीछे सबसे बड़ी वजह यह भी हो सकती है कि इससे उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक माहौल खराब कर दंगे कराए जा सके। इस तैयारी का मुख्य उद्देश्य साम्प्रदायिक माहौल बना कर दंगे करवाना बताया जा रहा है।

यह रिपोर्ट मैक (मल्टी एजेंसी सेंटर) को भी भेजी गई है। जम्मू कश्मीर के बाद अब ISI पंजाब के कुछ अराजक तत्वों को अपने स्लीपर सेल बनाने में लगी हुई है। इस नेटवर्क में वह पैसे के बदले हथियार भी सप्लाई कर रही है। इस आतंकी प्लान को पाकिस्तान ने K-2 नाम दिया है। ISI की नजर खालिस्तान समर्थको पर है। वो इन्हें अपने एजेंट के रूप में प्रयोग करना चाहती है। इन्हें बाकायदा आतंकी समूहों में भर्ती करवाने की साजिश भी रची जा रही है।

इस समस्या से निबटने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय पंजाब में जॉइन्ट काउंटर ऑपरेशन सेंटर स्थापित करने पर गंभीरता से विचार कर रहा है। इस टीम में NIA, IB और रॉ के साथ पंजाब पुलिस के लोग भी होंगे। सुरक्षा एजेंसियों की मुख्य चिंता चुनावी समय में हो रहीं बड़ी सभाएं हैं। इसमें भीड़ के बीच आतंकी की पहचान करना और साथ में सुरक्षा को सुनिश्चित करने की रणनीति पर सुरक्षा एजेंसियाँ काम भी कर रहीं हैं।इसी सप्ताह BSF ने पंजाब से लगी पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फिरोजपुर में के पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?
[td_block_social_counter custom_title="हमसे जुड़ें" block_template_id="td_block_template_8" border_color="#fb5100" facebook="opindia.in" twitter="opindia_in" youtube="channel/UCWt3UbeNDgNd97-VREMtS4g" instagram="opindia_in" open_in_new_window="y" f_header_font_family="420"]

प्रचलित ख़बरें