Tuesday, January 18, 2022
Homeदेश-समाज'अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के...

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि मुल्क-ए-हिंदुस्तान में 2014 में भाजपा की सरकार आने के साथ ही पैगम्बर-ए-इस्लाम और अल्लाह के प्रति 'गुस्ताखियों' का दौर शुरू हुआ है। मौलवियों ने कहा कि वोटों के ध्रुवीकरण और हिन्दू-मुस्लिम को बाँटने के लिए ये सब हो रहा है।

देश भर में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के डासना स्थित शिव-शक्ति धाम के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ मुस्लिम कट्टरपंथियों का गुस्सा उबाल पर है। दिल्ली के AAP विधायक अमानतुल्लाह खान ने उन्हें धमकी दी। हरियाणा के पानीपत स्थित यमुनानगर में हिन्दू-मुस्लिम सामने आ गए थे। अब तहरीक फरोग-ए-इस्लाम ने एक बैठक कर महंत नरसिंहानंद को ‘साधुनुमा वहशी’ बताया।

दिल्ली में हुई इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कई मौलवी शामिल हुए, जो इस संस्था से जुड़े हुए थे। उन्होंने कहा, “वो चाहते हैं कि वे गुस्ताखी करते रहें और हम बर्दाश्त करते रहेंगे, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। हमने फैसला किया है कि हम अपने नबी की इज्जत और अजमत के लिए हर कुर्बानी देंगे। इसलिए, इस रमजान-ए-मुबारक में अपनी नबी की इज्जत को महफूज करने के लिए और उनके गुस्ताखों को सज़ा दिलाने के लिए जेल भरो आंदोलन चलाएँगे।”

बड़ी बात ये है कि इस मौलवियों ने कहा कि ऐसा कोई एक ‘गुस्ताख़’ नहीं है, बल्कि ‘गुस्ताखों’ की एक पूरी की पूरी सूची उनके पास है। इस दौरान उन्होंने उन ‘गुस्ताखों’ के बारे में कागजात भी दिखाए। मौलवियों ने कहा कि ये तो वो जेल में रहें, या फिर हम नहीं रहेंगे। कट्टरवादियों ने कहा कि उनके सिर पर जो गर्दनें हैं, वो उनके नबी की अजमत के लिए है। उन्होंने ऐलान किया कि देश भर के मुस्लिम इस ‘जेल भरो आंदोलन’ में हिस्सा लेंगे।

मौलवियों ने कहा कि मुल्क-ए-हिंदुस्तान में 2014 में भाजपा की सरकार आने के साथ ही पैगम्बर-ए-इस्लाम और अल्लाह के प्रति ‘गुस्ताखियों’ का दौर शुरू हुआ है। मौलवियों ने कहा कि वोटों के ध्रुवीकरण और हिन्दू-मुस्लिम को बाँटने के लिए ये सब हो रहा है। उन्होंने कहा कि वे सब कुछ बर्दाश्त कर सकते हैं, लेकिन नबी की इज्जत से खिलवाड़ नहीं। मौलवियों ने कहा, “अब या तो हम रहेंगे या फिर गुस्ताख।”

उन्होंने कहा कि अब मुस्लिमों का अंदाज कुछ भी हो, लेकिन सब साथ है। साथ ही कहा कि ‘जेल भरो आंदोलन’ के दौरान मुस्लिमों पर लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएगी। साथ ही कहा कि कोविड-19 का भी कोई ख्याल नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब बात नबी की हो तो किसका क्या फायदा-नुकसान है, ये नहीं देखा जाएगा। साथ ही NDA सरकार को ‘जंगलराज’ करार दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब 5 मिनट तक फ्लाइंग किस देते रहे थे भगवंत मान, बार-बार गिर रहे थे: AAP ने बनाया चेहरा तो बोले लोग – ‘उड़ते...

ट्विटर पर यूजर्स उन्हें 'पेगवंत मान' कहकर संबोधित कर रहे हैं और केजरीवाल के फैसले को गलत ठहरा रहे हैं।

भारत का कीमती ‘लाल सोना’, जिसके इर्दगिर्द घूमती है ‘पुष्पा’: 2021 में इसकी ₹508 Cr की लकड़ियाँ जब्त हुईं, चीन भी दीवाना

अल्लू अर्जुन की फिल्म 'पुष्पा' की कहानी 'रक्त चन्दन' की तस्करी के इर्दगिर्द घूमती है। आपको बताते हैं कि ये है क्या और क्यों इतना महँगा बिकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
151,996FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe