Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाज813 लोगों के संपर्क में आया इटली से लौटा कोरोना संक्रमित मरीज, माँ की...

813 लोगों के संपर्क में आया इटली से लौटा कोरोना संक्रमित मरीज, माँ की मृत्यु भी कोरोना वायरस के ही कारण!

बताया जा रहा है कि वहाँ हर कोई डरा हुआ है। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय द्वारा उपलब्ध कराए गए डेटा के अनुसार, वायरस होने और इसके पता लगाने के बीच व्यक्ति 813 लोगों के संपर्क में था। इसमें से 40 लोग दिल्ली के और 773 बाहर के शहर के हैं।

हाल ही में इटली से लौटे 46 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया। उक्त व्यक्ति 20 फरवरी को भारत लौटा था। उसने इस बीच एयरपोर्ट से लेकर दिल्ली के जनकपुरी वाले रूट पर सफर किया और करीब 813 लोगों के संपर्क में आया। भारत में ये संख्या किसी भी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों की संख्या में अब तक सबसे अधिक है।

गौरतलब है कि इससे पहले इसी व्यक्ति की माँ की मृत्यु कोरोना वायरस के कारण अस्पताल में बीते शुक्रवार को हुई थी। जानकारी के मुताबिक मृतक महिला राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती थी। संक्रमित महिला का इलाज दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में चल रहा था, जहाँ शुक्रवार (मार्च 13, 2020) को उसने दम तोड़ दिया था। महिला को डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर की भी समस्या थी। 

जानकारी के अनुसार 46 वर्षीय व्यक्ति हाल ही में यूरोप और इटली से बिजनेस टूर करके भारत आया था। इस दौरान जब वो एयरपोर्ट पर उतरा तो वह कई लोगों के संपर्क में आया। एयरपोर्ट पर उसे थर्मल सेंसर से चेक किया गया। लेकिन वहाँ जब उसका तापमान नॉर्मल आया तो उसे आगे निकास द्वार से जाने को कह दिया गया। उसने परिजनों के अनुसार, “वह अपने 6 सहकर्मियों के साथ सफर कर रहा था और सबके टेस्ट नेगेटिव थे। उसपर भी कोई संकेत नहीं पता चले थे, जब तक उसे बुखार नहीं हुआ।”

रिपोर्ट्स के अनुसार, संक्रमित व्यक्ति की रिपोर्ट आने से पहले वह अपनी पत्नी और दो बच्चों के संपर्क में आया था। जबकि उसकी माँ उसके छोटे भाई के साथ उसी इलाके में लेकिन दूसरे घर में रहती थी, जिन्होंने बीमार होने से कुछ दिन पहले अपने बेटे से मुलाकात की थी।

अब हालाँकि, व्यक्ति के परिजनों के अनुसार, परिवार के अन्य सदस्य भी जाँच में नेगेटिव पाए गए हैं। लेकिन जहाँ वो शख्स रहता था, उस घर को बंद कर दिया गया है और बताया जा रहा है कि वहाँ हर कोई डरा हुआ है। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय द्वारा उपलब्ध कराए गए डेटा के अनुसार, वायरस होने और इसके पता लगाने के बीच व्यक्ति 813 लोगों के संपर्क में था। इसमें से 40 लोग दिल्ली के और 773 बाहर के शहर के हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe