Saturday, June 15, 2024
Homeदेश-समाज'मौलवियों ने नाबालिगों से करवाई पत्थरबाजी' : जहाँगीरपुरी हिंसा में NCPCR की एंट्री, 7...

‘मौलवियों ने नाबालिगों से करवाई पत्थरबाजी’ : जहाँगीरपुरी हिंसा में NCPCR की एंट्री, 7 दिन के अंदर माँगी रिपोर्ट

NCPCR अध्यक्ष ने जहाँगीरपुरी हिंसा में बच्चों के इस्तेमाल पर कहा, "किसी भी अवैध गतिविधि में बच्चे का इस्तेमाल एक दंडात्मक, गैरजमानती अपराध हैं। उन्होंने इस बाबत पुलिस को पड़ताल करने के लिए कहा है। एक बार स्थिति कंट्रोल होगी तो वह खुद भी घटनास्थल का जायजा करने जाएँगे।"

दिल्ली के जहाँगीरपुरी में हुई हिंसा में बच्चों के नजर आने के बाद इस मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने संज्ञान लिया है। NCPCR ने इस बाबत डीसीपी को नोटिस जारी करके जाँच के निर्देश दिए हैं और संबंधित लोगों पर एफआईआर करने को कहा है। आयोग ने 7 दिन के भीतर इस मामले में रिपोर्ट माँगी है।

रिपब्लिक मीडिया के अनुसार, एनसीपीसीआर अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने बताया कि उन्हें लीगल राइट्स ऑर्गेनाइजेशन की ओर से शिकायत मिली थी। शिकायत में कहा गया कि हिंसक गतिविधि में बच्चों को लाया गया और उनसे शोभा यात्रा पर पत्थरबाजी करवाई गई। शिकायत मिलने के बाद आयोग ने इस सबंध में डीसीपपी को नोटिस जारी किया है और जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के प्रावधानों के अंतर्गत जाँच के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि किसी भी अवैध गतिविधि में बच्चे का इस्तेमाल एक दंडात्मक, गैरजमानती अपराध है। उन्होंने इस बाबत पुलिस को पड़ताल करने के लिए कहा है और बताया है कि एक बार स्थिति कंट्रोल होगी तो वह खुद भी घटनास्थल का जायजा करने जाएँगे।

बता दें कि NCPCR को ट्विटर पर लीगल राइट्स ऑब्जर्वेटरी से इस संबंध में शिकायत मिली थी। इसके अलावा विभिन्न समाचार रिपोर्टों के माध्यम से भी पता चला था कि हिंसा में कई नाबालिग बच्चों को पथराव के लिए इस्तेमाल किया गया। आयोग ने एक बयान में कहा, “शिकायतों के माध्यम से, यह भी आयोग के संज्ञान में लाया गया है कि मदरसों को चलाने वाले मौलवियों ने उक्त अवसर पर पथराव के लिए किशोरों का इस्तेमाल किया।”

जहाँगीरपुरी हिंसा

गौरतलब है कि दिल्ली के जहाँगीरपुरी में हनुमान जन्मोत्सव शोभा यात्रा पर कल हमला हुआ था। हमले में पुलिसकर्मियों तक को नहीं बख्शा गया था। कई गाड़ियों में जम कर तोड़फोड़ की गई। हनुमान जन्मोत्सव की शोभा यात्रा पर हमले के साथ शुरू हुई हिंसा की खबर पाकर जब पुलिस वहाँ पर पहुँची, तो पुलिस को भी नहीं छोड़ा गया। अफरा-तफरी के कई वीडियोज भी सामने आए।

हिंसा में अब तक 14 लोग गिरफ्तार हुए हैं और इनकी पेशी रोहिणी कोर्ट में हुई है। कोर्ट ने अंसार और असलम को पुलिस हिरासत में भेजा है बाकी 12 न्यायिक हिरासत में रहेंगे। कोर्ट में दिल्ली पुलिस ने अंसार और असलम को लेकर कहा कि ये लोग शोभा यात्रा के बारे में पहले से जानते थे और इसीलिए इन्होंने साजिश रची। पुलिस ने बताया कि उन्होंने सीसीटीवी देखकर इस केस के संबंधित आरोपितों को पकड़ा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कहीं दर्जनों परिवारों को करना पड़ा पलायन, कहीं सिर मर मार दी गोली… बंगाल में राजनीतिक हिंसा की जाँच के लिए BJP ने बनाई...

लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के एक दिन बाद 5 जून को पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों से चुनाव-पश्चात हिंसा की कई घटनाएँ सामने आईं।

‘हिन्दुओं गाड़ियों से रौंदो, बम से उड़ाओ, चाकू से उनके पेट चीरो’: ISIS की पत्रिका में हिंसक जिहाद का एलान, PM मोदी और राम...

आतंकी संगठन ISIS समर्थित वॉयस ऑफ़ खुरासान पत्रिका ने दुनिया भर के मुस्लिमों को भारत में हिन्दुओं के नरसंहार के लिए उकसाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -