Wednesday, June 26, 2024
Homeदेश-समाजकश्मीर में भारतीय सेना के 3 जवान बलिदान! घने जंगल वाले इलाके में सुरक्षा...

कश्मीर में भारतीय सेना के 3 जवान बलिदान! घने जंगल वाले इलाके में सुरक्षा बलों ने आतंकियों से मुठभेड़, ड्रोन और हेलीकॉप्टर से रखी जा रही नज़र

इस मुठभेड़ में राष्ट्रीय राइफल के एक कैप्टन, स्पैशल फोर्स के एक कैप्टन और एक जवान शहीद हुए हैं। वहीं सेना के एक मेजर गंभीर रूप से घायल हैं जिन्हें तुरंत हेलीकॉप्टर के जरिए सेना के कमान अस्पताल उधमपुर ले जाया गया है।

जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में आतंकवादियों के साथ सुरक्षा बलों की मुठभेड़ में भारतीय सेना के दो अधिकारियों और एक जवान के बलिदान होने और एक मेजर के घायल होने की खबर है। वहीं मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को ढेर कर दिया है। घेराबंदी और तलाशी अभियान के दौरान धर्मसाल के बाजीमल इलाके में मुठभेड़ के दौरान यह हादसा हुआ। दरअसल, जंगली इलाका होने के चलते सुरक्षा बलों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सुरक्षाबलों ने मौके पर दो आतंकियों को घेर लिया है। बताया  जा रहा है कि धर्मसाल के बाजीमाल इलाके में सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस की संयुक्त घेराबंदी और तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ शुरू हो गई।  जो अभी भी जारी है। 

अभी भी जारी है मुठभेड़

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सुबह से जारी इस मुठभेड़ में भारतीय सेना के दो अधिकारी और एक जवान बलिदान हो गए हैं। इनमें राष्ट्रीय राइफल के एक कैप्टन, स्पैशल फोर्स के एक कैप्टन और एक जवान शहीद हुए हैं। वहीं सेना के एक मेजर गंभीर रूप से घायल हैं जिन्हें तुरंत हेलीकॉप्टर के जरिए सेना के कमान अस्पताल उधमपुर ले जाया गया है। जहाँ उनका इलाज चल रहा है। 

घने जंगलों में छिपे हैं आंतकी

दरअसल, राजौरी के कालाकोट थाने के अंतर्गत गाँव बाजी के जंगलों में दो से तीन आतंकियों के छिपे होने का इनपुट सुरक्षा बलों को मिला था। इस इनपुट के आधार पर भारतीय सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया। तलाशी के दौरान ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी जिस के बाद उस इलाके में मुठभेड़ शुरू हुई। 

ड्रोन और हेलीकॉप्टर से रखी जा रही नजर

इस ऑपरेशन में सुरक्षाबल ड्रोन और हेलीकॉप्टर की मदद से इलाके में आतंकवादियों पर नजर रखे हुए हैं। लेकिन जंगल का इलाका होने की वजह से सुरक्षाबलों के लिए यह जगह बड़ी चुनौती है। दोनों ओर से गोलबारी हो रही है।  बता दें कि तीन दिन पहले राजौरी के बुद्धल गाँव में सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को मार गिराया था जिसके बाद लगातार तलाशी अभियान चल रहा था। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -