Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजजम्मू-कश्मीर में 4G मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल, केंद्र सरकार ने लिया फैसला

जम्मू-कश्मीर में 4G मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल, केंद्र सरकार ने लिया फैसला

बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद 5 अगस्‍त, 2019 से इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी।

जम्मू-कश्मीर में करीब डेढ़ साल बाद 4G मोबाइल इंटरनेट सेवा फिर से बहाल कर दी गई है। प्रधान सचिव रोहित कंसल (बिजली और सूचना) ने बताया कि पूरे जम्मू-कश्मीर में 4जी इंटरनेट सेवा बहाल करने का फैसला लिया गया है।

बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद 5 अगस्‍त, 2019 से इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई के मद्देनज़र भारत सरकार ने यह फैसला लिया है। संसद ने पिछले साल 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 को रद्द कर जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिया था।

370 हटने के बाद कश्मीर में इंटरनेट सेवाएँ सस्‍पेंड कर दी गई थीं। केंद्र ने जम्मू-कश्मीर में हाई-स्पीड इंटरनेट प्रतिबंधित करने के पीछे कथित रूप से अलगाववादियों और पाकिस्तानी आतंकवादियों को वजह बताया था, जोकि किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते थे।

गौरतलब है कि 2जी इंटरनेट सेवा को 25 जनवरी 2020 को बहाल किया गया था। इसके बाद उधमपुर और गांदरबल में 16 अगस्त 2020 को हाई स्पीड इंटरनेट सेवा ‘ट्रायल बेसिस’ पर शुरू की गई थी, जिसे आज भी बरकरार रखा गया है। लेकिन बाकी जिलों में 2जी इंटरनेट सेवा ही जारी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पोस्टमॉर्टम से भी नहीं सुलझी दिल्ली में 9 साल की बच्ची की मौत का रहस्य: राहुल गाँधी पर पहचान सार्वजनिक करने का आरोप

दिल्ली के ओल्ड नांगल में 9 साल की बच्ची की संदेहास्पद हालत में मौत हो गई। आरोप है कि श्मशान घाट के भीतर रेप करने के बाद बच्ची को जला दिया गया।

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe