Friday, August 6, 2021
Homeदेश-समाजजुमे की नमाज पर भड़काऊ और देश विरोधी तकरीर: अंजुमन-ए-इस्लामिया के अध्यक्ष परवेज शेख...

जुमे की नमाज पर भड़काऊ और देश विरोधी तकरीर: अंजुमन-ए-इस्लामिया के अध्यक्ष परवेज शेख पर FIR

पिछले दिनों दक्षिण कश्मीर के पुलवामा मुठभेड़ स्थल पर सात प्रदर्शनकारियों की मौत के विरोध में अंजुमन-ए-इस्लामिया भद्रवाह ने चिनाब घाटी में हड़ताल का आह्वान किया था। शेख ने इन मौतों को घिनौना कृत्य करार देते हुए निहत्थे नागरिकों के खिलाफ एक खूनी युद्ध की शुरुआत बताया था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शनिवार (जुलाई 25, 2020) को डोडा में अंजुमन-ए-इस्लामिया, भद्रवाह के अध्यक्ष परवेज अहमद शेख के खिलाफ FIR दर्ज की। परवेज पर शुक्रवार (जुलाई 24, 2020) को जुमे की नमाज के दौरान ‘भड़काऊ और देश विरोधी’ तकरीर का आरोप है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिला मजिस्ट्रेट के आदेशों की अवहेलना करने की वजह से भद्रवाह पुलिस स्टेशन में परवेज अहमद शेख के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उसके भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 124 ए,153 ए, 505 बी और 188 के तहत मामला दर्ज किया गया है। साथ ही महामारी रोग अधिनियम के तहत भी मामला दर्ज किया गया है।

डोडा पुलिस के जाँच अधिकारी ने कहा कि परवेज अहमद शेख ने जान-बूझकर भड़काऊ और देश विरोधी भाषण दिया था। इसका मकसद समाज में दरार, अशांति और असंतोष पैदा करना था। फिलहाल मामले की जाँच भद्रवाह पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा की जा रही है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों दक्षिण कश्मीर के पुलवामा मुठभेड़ स्थल पर सात प्रदर्शनकारियों की मौत के विरोध में अंजुमन-ए-इस्लामिया भद्रवाह ने चिनाब घाटी में हड़ताल का आह्वान किया था। शेख ने इन मौतों को घिनौना कृत्य करार देते हुए निहत्थे नागरिकों के खिलाफ एक खूनी युद्ध की शुरुआत बताया था। उसने अलगाववादी नेतृत्व के साथ एकजुटता दर्शाने के लिए हड़ताल की अपील की थी।

बता दें कि कि पुलवामा के सरनु गाँव में आतंकवादियों के साथ हो रही मुठभेड़ के दौरान आतंकवादियों को भागने में सहायता करने के लिए लोगों ने मुठभेड़स्थल के पास प्रदर्शन किया और सुरक्षाबलों पर पथराव किया। हिंसक भीड़ पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों द्वारा की गई कार्रवाई में सात प्रदर्शनकारी मारे गए था। मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए और एक सैनिक भी इस दौरान वीरगति को प्राप्त हो गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe