Tuesday, September 21, 2021
Homeदेश-समाजझारखंड में सेना के जवान को पुलिसकर्मियों ने घसीटा-पीटा, विरोध में स्थानीय लोगों ने...

झारखंड में सेना के जवान को पुलिसकर्मियों ने घसीटा-पीटा, विरोध में स्थानीय लोगों ने की नाकाबंदी: वीडियो वायरल होने पर तीन सस्पेंड

ये सब मजिस्ट्रेट सह प्रखंड विकास अधिकारी साकेत कुमार सिंह और सहायक उप निरीक्षक जवाहर राम और मुन्ना प्रसाद की मौजूदगी में हुआ। जवान ने अपनी पहचान बताई थी, बावजूद इसके ये सभी चुपचाप पुलिस को यादव पर हमला करते हुए देख रहे थे।

झारखंड के चतरा जिले में बुधवार (1 अगस्त 2021) को मास्क न पहनने पर भारतीय सेना के जवान पवन कुमार यादव को पुलिस द्वारा बेरहमी से पीटने का मामला प्रकाश में आय़ा है। खास बात यह है कि चेकिंग के दौरान न तो पुलिस वाले और न ही मास्क चेकिंग अभियान के वरिष्ठ अधिकारी ठीक से मास्क पहने हुए थे।

घटना का वीडियो वायरल होने के बाद चतरा के एसपी राकेश रंजन ने बुधवार देर रात तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया और दो को पुलिस लाइन भेज दिया। एसपी ने बताया, “तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है और दो पुलिसकर्मियों को पुलिस लाइन से जोड़ा गया है। लेकिन प्रारंभिक जाँच से पता चला है कि सेना के जवान की गलती थी, जिसने पहले ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को गालियाँ दीं थीं।”

घटना जिला मुख्यालय से करीब 45 किलोमीटर दूर मयूरहंद थाना क्षेत्र के कर्मा चौक की है। हजारीबाग के कटकमसांडी थाना क्षेत्र के अरबहुसाही गाँव के रहने वाले सेना के जवान अपनी बाइक से चौक से गुजर रहे थे। जवान ने मास्क नहीं पहन रखा था, इसलिए पुलिसवालों ने उसे रोका और हवलदार संजय बहादुर राणा ने जवान की बाइक की चाबी निकाल ली। इसी बात से जवान यादव नाराज हो गए। जवान ने पुलिस के इस व्यवहार का जोरदार विरोध करते हुए उन्हें ठीक से व्यवहार करने की चेतावनी दी।

इस बीच पुलिसकर्मियों ने सेना के जवान यादव को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया। खास बात यह है कि ये सब मजिस्ट्रेट सह प्रखंड विकास अधिकारी साकेत कुमार सिंह और सहायक उप निरीक्षक जवाहर राम और मुन्ना प्रसाद की मौजूदगी में हुआ। जवान ने अपनी पहचान बताई थी, बावजूद इसके ये सभी चुपचाप पुलिस को यादव पर हमला करते हुए देख रहे थे। उल्लेखनीय है कि यादव जोधपुर में जीडी जवान के रूप में तैनात हैं।

भारी हंगामे के बीच जवान को थाने ले जाया गया। स्थानीय निवासियों ने पुलिस द्वारा सेना के जवान को घसीटने और पीटने का विरोध करते हुए इटखोरी-जिहू मार्ग को जाम कर दिया। मामले में चतरा एसपी द्वारा तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित करने और दो पुलिसकर्मियों को पुलिस लाइन से जोड़ने के बाद बुधवार देर रात इस नाकाबंदी को हटाया जा सका।

इस घटना की ओर किसी का ध्यान नहीं गया और न ही किसी ने इसकी रिपोर्टिंग हुई। लेकिन, किसी ने पुलिसकर्मियों की इस करतूत को शूट करने के बाद इसे सोशल साइट्स पर अपलोड कर दिया, जो कुछ ही समय में वायरल हो गया। इस मामले में स्थानीय भाजपा सांसद सुनील कुमार सिंह ने चतरा के एसपी राकेश रंजन से बात की। चतरा जिले के एसपी ने डीएसपी (मुख्यालय) केदार राम को रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया। रिपोर्ट के आधार पर चतरा एसपी ने पाँच पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की है।

हालाँकि, इस मामले में स्थानीय निवासी मोहम्मद सरफराज ने कहा कि चतरा के एसपी को अपने पुलिस वालों को अनुशासन और नागरिक भावना सिखाने की आवश्यकता है। सरफराज ने कहा, “यहाँ चतरा में एक पुलिस वाला भी IPS होने का घमंड दिखाता है। वे मास्क और हेलमेट चेकिंग के नाम पर नागरिकों को गाली देते हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe