Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज50 साल बाद हाई स्कूल में हुई सरस्वती पूजा, मुस्लिम छात्रों के कारण गाँव...

50 साल बाद हाई स्कूल में हुई सरस्वती पूजा, मुस्लिम छात्रों के कारण गाँव में पैदा हो जाता था तनाव

इस विद्यालय में पहले अधिकतर मुस्लिम छात्र ही पढ़ते थे। उच्च विद्यालय का दर्जा मिलने के बाद हिदू बच्चे भी पढ़ने लगे। लेकिन, जब भी सरस्वती पूजा की बात होती थी तो गॉंव में तनाव की स्थिति पैदा हो जाती थी।

झारखंड के गिद्धौर में गुरुवार (जनवरी 30, 2109) को एक हाई स्कूल में लगभग 50 साल बाद धूमधाम से सरस्वती पूजा मनाई गई। इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद थी। बता दें कि मंझगांवातरी हाई स्कूल की स्थापना 1972 में प्राथमिक विद्यालय के तौर पर हुई थी। 2006 में इसे मध्य विद्यालय का दर्जा दिया गया। फिर 2010 में उच्च विद्यालय का दर्जा प्राप्त हुआ।

इस विद्यालय में सालों से सरस्वती पूजा को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद चल रहा था। स्कूल में पढ़ने वाले अधिकांश छात्र मुस्लिम थे। इस वजह से हिंदू छात्र सालों तक सरस्वती पूजा नहीं मना सके। दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक इस साल यहाँ धूमधाम से पूजा की गई।

इस मौके पर प्रखंड विकास पदाधिकारी पूनम कुजूर, मजिस्ट्रेट स्कूटिव अजय भगत, डीएसपी वचन देव कुजूर, थाना प्रभारी सुशील कुमार, पंचायती राज पदाधिकारी मोहम्मद नसीमउद्दीन अंसारी, प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी रूपेश महतो समेत जिला पुलिस बल के जवान तैनात थे।

जानकारी के मुताबिक इस विद्यालय में पहले अधिकतर मुस्लिम छात्र ही पढ़ते थे, लेकिन उत्क्रमित मध्य व उच्च विद्यालय बनने के साथ ही इस विद्यालय में हिदू समुदाय के बच्चे भी पढ़ने लगे। जिसके बाद विद्यालय में सरस्वती पूजा करने की माँग उठने लगी। मगर मुस्लिम बच्चों की बच्चों की वजह से कई वर्षों से सरस्वती पूजा को लेकर गाँव में तनाव की स्थिति भी उत्पन्न हो जाती थी और पूजा नहीं हो पाती थी।

इस बार विद्यालय के बच्चों ने सरस्वती पूजा मनाने को लेकर 28 जनवरी 2020 को ब्लॉक ऑफिस और स्थानीय पुलिस स्टेशन में आवेदन दिया। जिसके बाद प्रशासन ने सरस्वती पूजा के एक दिन पहले ही विद्यालय में पुलिस के जवान तैनात कर दिया। फिर गुरुवार के छात्रों ने विद्या की देवी माँ सरस्वती की प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की और पूजा संपन्न होने के बाद पूरे विधि-विधान के साथ प्रतिमा का विसर्जन किया गया।

ममता के बंगाल में सरस्वती पूजा को लेकर हिन्दू छात्रों को पीटा गया, शिक्षक ने टॉयलेट में छिपकर बचाई जान

अमेरिका की पहली हिन्दू सांसद तुलसी गबार्ड ने मनाई सरस्वती पूजा, कहा गर्व है हिन्दू होने पर

CUSAT के कुलपति को झुकना पड़ा: पहले कहा ‘हम सेक्युलर संस्थान हैं’, फिर सरस्वती पूजा करने की अनुमति प्रदान की

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe