Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजअनशन से रुपेश पांडेय की माँ की तबियत बिगड़ी, धरने पर बैठी महिलाओं ने...

अनशन से रुपेश पांडेय की माँ की तबियत बिगड़ी, धरने पर बैठी महिलाओं ने पूछा- यदि कोई मुस्लिम होता तो…: झारखंड पुलिस का मॉब लिंचिंग से इनकार

"हजारीबाग में मॉब लिंचिंग का शिकार हुए रूपेश पांडेय की माँ की तबियत बिगड़ रही है। पुत्र की हत्या के बाद न्याय की माँग को लेकर उन्होंने अन्न का त्याग कर दिया है। एक माँ पुत्र के वियोग में इंसाफ माँग रही है और इस सरकार के कान पर जूँ तक नहीं रेंग रहा है।"

झारखंड के हजारीबाग में 6 फरवरी, 2022 को हुए रुपेश पांडेय हत्याकांड के बाद धरने पर बैठी रुपेश की माँ ने अन्न त्याग दिया है। इसी के साथ उन्होंने न्याय न मिलने पर आत्मदाह की धमकी दी है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में उनकी हालत काफी ख़राब होती दिख रही है। यह वीडियो झारखंड के राँची से भाजपा सांसद संजय सेठ ने यह वीडियो शेयर किया है।

सांसद संजय सेठ ने लिखा, “हजारीबाग में मॉब लिंचिंग का शिकार हुए रूपेश पांडेय की माँ की तबियत बिगड़ रही है। पुत्र की हत्या के बाद न्याय की माँग को लेकर उन्होंने अन्न का त्याग कर दिया है। एक माँ पुत्र के वियोग में इंसाफ माँग रही है और इस सरकार के कान पर जूँ तक नहीं रेंग रहा है।”

रुपेश की माँ के साथ धरने पर बैठी अन्य महिलाएँ भी काफी आक्रोशित नजर आईं। वायरल वीडियो में एक महिला को कहते सुना गया, “यदि मुसलमान का इस तरह होता तो नेट बंद करता? कभी नहीं नेट बंद करता। जब हिन्दू पर हुआ तो सारा मीडिया वाला नेट बंद कर दिया। काहे बंद किया नेट? इसका जवाब दीजिए। हमें इसका फैसला दीजिए और मुसलमान के लड़के को फाँसी की सजा दीजिए। वो हमको पैसा क्या देगा? हम लोगों को भगवान ने अपना घर दिया है। जैसे लड़का मारा वैसे लड़का चाहिए नहीं तो फाँसी चाहिए।” पीछे से अन्य महिलाओं की आवाज आ रही थी कि ये सरकार की बदमाशी है।

सोरेन सरकार का प्रतिनिधि मंडल आज मिलेगा रुपेश पांडेय के परिवार से

हेमंत सोरेन सरकार का प्रतिनिधि मंडल आज 14 फरवरी, 2022 (सोमवार) को मृतक रुपेश पांडेय के परिवार से मिलेगा। ऑपइंडिया से बात करते हुए गिरडीह के JMM पार्टी से विधायक सुदिव्य कुमार ने इसकी पुष्टि की। सुदिव्य कुमार ने बताया, “मैं आज रुपेश पांडेय के घर जा रहा हूँ। मेरे साथ मंत्री सत्यानंद भोगता, मंत्री मिथलेश ठाकुर और मंत्री बादल पत्रलेख भी रुपेश के घर जा रहे। हम पीड़ित परिवार से संवेदना व्यक्त करने जा रहे हैं। हम उनको आश्वस्त करने जा रहे है कि सरकार पूरी मजबूती और दृढ़ता के साथ उनके संग खड़ी है। जो भी दोषी हैं उनको कानून के दायरे में लाना है। साथ ही उन्हें उपयुक्त सजा दिलानी है।”

पीड़ित परिवार से मिलेंगे भाजपा नेता कपिल मिश्रा

दिल्ली भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने रुपेश के घर जाने की घोषणा की है। उन्होंने ट्वीट किया, “मैं 16 फ़रवरी को रुपेश पांडेय जी के परिवार से मिलने झारखंड जा रहा हूँ। रुपेश के परिवार को न अकेला पड़ने देंगे और न ही कमजोर। न्याय सुनिश्चित करना ही होगा।” इसी के साथ उन्होंने #JusticeForRupeshPandey का हैशटैग भी लगाया है।

पुलिस ने रुपेश की हत्या को मॉबलिंचिंग मानने से किया इनकार

झारखंड पुलिस अधीक्षक IPS मनोज रतन चौथे ने रूपेश की हत्या को मॉबलिंचिंग मानने से इनकार कर दिया है। उनके अनुसार, “अभी तक हुई जाँच में यह घटना मॉबलिंचिंग नहीं कही जा सकती है। अब तक की जाँच में यह सामने आया है कि रुपेश की हत्या 4-5 लोगों द्वारा की गई है। इन्हे 27 या 40-50 लोगों ने मिल कर नहीं मारा है। यदि उनकी डायरेक्ट या इनडायरेक्ट रूप से कोई भी संलिप्तता है तो उन पर भी निश्चित रूप से कार्रवाई होगी। जिन लोगों द्वारा बलवा किया गया और कानून को हाथ में लिया गया उन पर भी हम कार्रवाई करेंगे।”

उन्होंने आगे बताया, “रुपेश पांडेय की हत्या में शामिल अब तक 5 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। कानूनी कार्रवाई चल रही है। इस केस का स्पीडी ट्रायल चला कर हम दोषियों को जल्द से जल्द सज़ा दिलाने का प्रयास करेंगे। मैं लोगों से अपील करता हूँ कि आप कानून अपने हाथ में न लें। किसी भी अफवाह की पुष्टि नजदीकी थाने से करें। हमने वीडियो फुटेज जुटाई है। जो भी किसी भी प्रकार की गैरकानूनी हरकत में दिखेंगे उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करेंगे।”

झारखंड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने घटना को बताया मॉब लिंचिंग

झारखंड भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने रुपेश पांडेय की हत्या को ‘विशुद्ध मॉब लिंचिंग’ बताया है। उन्होंने बताया, “झारखंड के लाल की हत्या मॉब लिंचिंग में की गई है। इस पर सरकार की चुप्पी शर्मनाक है। वामपंथी और मानवाधिकार वाले चुप क्यों है? 17 फरवरी को पूरे प्रदेश में भाजपा कार्यकर्ता इस घटना के विरोध में सरकार का पुतला फूँकेंगे।”

हजारीबाग के बरही में हनुमान मूर्ति को नुकसान पहुँचने के बाद फिर फैला तनाव

जिस बरही थानाक्षेत्र में रुपेश पांडेय की हत्या हुई थी उसी क्षेत्र में आने वाले एक मंदिर में हनुमान मूर्ति को क्षति पहुँचने के बाद फिर से तनाव फ़ैल गया। यह घटना 12-13 फरवरी रात की है। यह मंदिर बरही के तिलैया रोड पर यूनाइटेड बैंक के पास है। मूर्ति टूटते ही कई लोग सड़कों पर निकल गए और विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझा बुझा कर किसी तरह से शांत कराया और मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।”

हजारीबाग के पुलिस अधीक्षक ने इस घटना में भी धारा 144 का उल्लंघन करके सड़कों पर उतरने वाले लोगों पर केस दर्ज कर कार्रवाई करने की बात कही है। साथ ही उन्होंने किसी भी प्रकार की अफवाह सोशल मीडिया पर न उड़ाने की अपील की है।

रुपेश को न्याय दिलाने के लिए बिहार में भी प्रदर्शन

रुपेश के हत्यारों को फाँसी दिलाने की माँग अब झारखंड के बाहर भी जोर पकड़ने लगी है। बिहार के सेमारियाँ (भोजपुर) में हिन्दू युवा वाहिनी ने कैंडल मार्च निकाला। इस दौरान रूपेश की आत्मा की शांति के लिए मौन भी रखा गया।

ऑपइंडिया से बातचीत में स्थानीय सुमन सौरभ ने बताया, “कल रुपेश की माँ की तबियत बहुत अधिक बिगड़ जाने पर उनको पानी पिलाया गया है। लेकिन वो आज फिर से धरने पर बैठेंगी।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -