Wednesday, July 6, 2022
Homeदेश-समाजमहिला मित्र के घर खाना, Oyo होटल में रात: पुलिस ने कहा- पत्रकार ने...

महिला मित्र के घर खाना, Oyo होटल में रात: पुलिस ने कहा- पत्रकार ने ‘पारिवारिक कारणों’ से गढ़ी लूट की कहानी

अतुल अग्रवाल ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी थी कि नोएडा में उनके साथ कुछ बदमाशों ने लूट और मारपीट की।

नोएडा पुलिस ने शुक्रवार (25 जून 2021) को बताया कि हिंदी खबर के प्रमुख और वरिष्ठ पत्रकार अतुल अग्रवाल ने ‘पारिवारिक कारणों’ से लूट की कहानी गढ़ी थी। अग्रवाल ने दावा किया था कि 19-20 मई की रात उत्तर प्रदेश के नोएडा एक्सटेंशन में उनके साथ मारपीट और लूटपाट की गई थी।

अतुल अग्रवाल ने आरोप लगाया था कि बंदूक की नोंक पर मारपीट और लूटपाट की गई। इसके बाद नोएडा पुलिस ने मामले की जाँच शुरू की। जाँच में पुलिस ने पाया कि अतुल अग्रवाल की कहानी मनगढ़ंत थी और जैसा उन्होंने आरोप लगाया था वैसा कुछ नहीं हुआ था।

पुलिस जाँच में पाया गया कि अग्रवाल 19 मई की शाम लगभग 7 बजे अपनी एक महिला मित्र के घर खाने के लिए गए थे। इसकी पुष्टि इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों से भी हुई है। महिला मित्र ने पुलिस को बताया कि जब अग्रवाल उनके यहाँ थे तो उनकी पत्नी का फोन आया था और उन्होंने उनसे तुरंत घर पहुँचने को कहा था। अग्रवाल रात 10:40 बजे घर वापस जाने के लिए जल्दबाजी में निकले।

इसके बाद रात के 1:20 बजे अग्रवाल ने अपनी महिला मित्र को फोन किया और बताया कि वह सड़कों पर घूम रहे हैं और रात बिताने के लिए ओयो रूम की तलाश कर रहे हैं। महिला ने पुलिस को बताया कि अग्रवाल ने उन्हें किसी भी प्रकार की लूट की सूचना नहीं दी थी। बाद में इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों से यह भी साबित हुआ कि अग्रवाल ने अपने बैंक खाते के माध्यम से ओयो रूम के लिए भुगतान किया था। होटल के सीसीटीवी कैमरों से भी उनके होटल में होने की पुष्टि हुई है।

नोएडा पुलिस बताया, “सभी सबूतों के आधार पर यह साबित होता है कि अतुल अग्रवाल के साथ कोई लूट की घटना नहीं हुई। लूट की यह फर्जी बात उनके द्वारा अपने व्यक्तिगत पारिवारिक कारणों से सोशल मीडिया पर फैलाई गई।”

हाल ही में पत्रकार अतुल अग्रवाल ने सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी थी कि पिछले महीने नोएडा में उनके साथ कुछ बदमाशों ने लूट और मारपीट की। अग्रवाल ने यह भी कहा था कि उन बदमाशों ने एटीएम से पैसे निकालने के लिए भी कहा लेकिन अग्रवाल के अनुसार उन्होंने पेटीएम के जरिए बदमाशों को पैसे देने की बात कही। अग्रवाल ने अपनी फेसबुक पोस्ट में यह भी बताया था कि बदमाशों ने उनका फोन लेकर उसे अनलॉक करवा लिया, लेकिन जब अग्रवाल ने बदमाशों को यह बताया कि वो पत्रकार हैं तब बदमाश उनका फोन कार की पिछली सीट पर फेंक कर चले गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe