Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज'फेक न्यूज़' फैलाने वाली पत्रकार राणा अय्यूब का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव, नवी मुंबई...

‘फेक न्यूज़’ फैलाने वाली पत्रकार राणा अय्यूब का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव, नवी मुंबई में तलाश रहीं बेड

विवादास्पद पत्रकार एवं फेक न्यूज़ पेडलर राणा अय्यूब ने ट्वीट में इस बात का दावा किया वह खुद को किसी अस्पताल में भर्ती कराने के लिए नवी मुंबई में एक बेड की तलाश कर रही है।

विवादास्पद पत्रकार एवं फेक न्यूज़ पेडलर राणा अय्यूब का कोरोना वायरस टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। उन्होंने इस बात की जानकारी बुधवार (9 सितंबर, 2020) को ट्वीटर के जरिए दी है। राणा ने ट्वीट किया कि बीती रात उनका ऑक्सीजन लेवल काफी डाउन हो गया, जिसके बाद उनका कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आया है।

उन्होंने अपने ट्वीट में इस बात का दावा किया वह खुद को किसी अस्पताल में भर्ती कराने के लिए नवी मुंबई में एक बेड की तलाश कर रही है।

गौरतलब है कि मार्च 2020 में चीन से पूरी दुनिया मे फैले कोरोना वायरस महामारी के समय राणा अय्यूब का कहना था कि नैतिक रूप से भ्रष्ट होने के कारण भारत में हर कोई अंदर से इतना ‘मरा’ है, कि एक वायरस इन्हें (भारतीयों को) क्या मार सकता है?

इतना ही नहीं अयूब को काफी बार महामारी के दौरान गलत सूचना और फर्जी खबरें फैलाते हुए पकड़ा गया है। महामारी के दौरान उन्होंने एक वीडियो साझा किया था। जिसमें उन्होंने फर्जी दावा किया था कि भुखमरी की वजह से श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक मजदूर की मौत हो गई, जबकि उसकी मौत स्वास्थ्य स्थिति के कारण हुई थी।

वहीं राणा तबलीग़ी जमातियों का भी महिमामंडन करते हुए नजर आई थी जब कोरोना वायरस के शुरुआती दौर में इन लोगों ने वायरस के प्रसार में हॉटस्पॉट का काम किया था। इसके अलावा उन्होंने प्रवासी मजदूरों की फर्जी तस्वीरों को फैलाने और लोगों को गुमराह करने का काम भी किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe