Sunday, September 26, 2021
Homeदेश-समाजरोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़,...

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

“I am sorry... आप पहले ही बता देते तो हम मामले को स्थगित कर सकते थे। आप कृपया जाइए और आराम करिए। मैं पानी की एक बूँद पिए बिना पूरे दिन उपवास रहने (रोजा) की क्षमता की प्रशंसा करता हूँ।“

शुक्रवार (16, अप्रैल) को सुप्रीम कोर्ट के जज डीवाई चंद्रचूड़ ने सुनवाई के दौरान एक वकील से कहा कि वो रमजान के दौरान बिना पानी की एक बूँद भी पिए पूरे दिन उपवास करने की उनकी क्षमता की प्रशंसा करते हैं। इसके बाद जस्टिस चंद्रचूड़ ने वकील को राहत देते हुए सुनवाई को स्थगित कर दिया।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 29 नवंबर 2019 के निर्णय के विरुद्ध दाखिल स्पेशल लीव पिटीशन (एसएलपी) पर सुनवाई कर रहे थी। उच्च न्यायालय के इस निर्णय में याचिककर्ता को हत्या का दोषी ठहराया गया था और उसे उम्रकैद की सजा दी गई थी।

याचिककर्ता के वकील ने पीठ से समय माँगते हुए कहा, “रमजान चल रहा है और कोविड-19 का संकट भी है। क्या आप कृपया रमजान के बाद इस मामले को सूचीबद्ध कर सकते हैं?”

लाइव लॉ के अनुसार वकील के इस निवेदन पर जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा, “आई एम सॉरी, आप पहले ही बता देते तो हम मामले को स्थगित कर सकते थे। आप कृपया जाइए और आराम करिए। मैं बिना पानी की एक बूँद भी पिए पूरे दिन उपवास रहने की क्षमता की प्रशंसा करता हूँ।“

इसके बाद जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया और एसएलपी पर आगामी सुनवाई के लिए 10 मई 2021 की तारीख को सूचीबद्ध कर दिया।

एकदम सरकारी आँकड़ा

सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग केस की बात करें तो यह 4 अप्रैल 2021 तक 67279 के आँकड़े तक पहुँच गई थी। एक रोचक बात और… सुप्रीम कोर्ट में रामलला विराजमान की तरफ से जो वकील पेश हुए थे, उनका नाम के पराशरण है। बहस से समय 92 साल के थे। तब पराशरण ने घंटों खड़े होकर बहस की थी। अदालत में जजों ने उनकी उम्र को देखते हुए उन्हें बैठ कर बहस करने की सहूलियत दी, लेकिन पराशरण ने कहा कि इंडियन बार की जो परंपरा है, वह उसी हिसाब से चलेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़कियों के कपड़े कैंची से काटे, राखी-गहने-चप्पल सब उतरवाए: राजस्थान में कुछ इस तरह हो रही REET की परीक्षा, रोते रहे अभ्यर्थी

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET 2021) की परीक्षा के दौरान सेंटरों पर लड़कियों के फुल बाजू के कपड़ों को कैंची से काट डालने का मामला सामने आया है।

11वीं से 14वीं शताब्दी की 157 मूर्तियाँ-कलाकृतियाँ, चोर ले गए थे अमेरिका… PM मोदी वापस लेकर लौटे

अमेरिका द्वारा भारत को सौंपी गई कलाकृतियों में सांस्कृतिक पुरावशेष, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म से संबंधित मूर्तियाँ शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,410FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe