Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजढाई साल पहले बलिदान हुए जवान की पत्नी ज्योति बनीं सेना में लेफ्टिनेंट... जानिए...

ढाई साल पहले बलिदान हुए जवान की पत्नी ज्योति बनीं सेना में लेफ्टिनेंट… जानिए संघर्ष और देशप्रेम की कहानी

बलिदान दीपक 40 दिन तक अस्पताल में रहे थे और उनका इलाज पुणे के पैराप्लेजिक रिहैब सेंटर में चला था। साल 2018 में जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में एक ऑपरेशन के दौरान आतंकियों की गोलियाँ दीपक के फेफड़े में लगी थीं।

आतंकवाद के विरुद्ध युद्ध में मई 2018 में कश्मीर के कुलगाम में बलिदान होने वाले नायक दीपक नैनवाल की पत्नी ज्योति अब भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट हैं। ज्योति शनिवार (20 नवम्बर 2021) को चेन्नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी से पास आउट हो गईं हैं। पति के बलिदान के बाद उन्होंने भी सेना में जाने का फैसला किया था। आखिरकार लगभग 3 वर्ष बाद उनकी मेहनत रंग लाई है।

रिपोर्ट के अनुसार, ज्योति नैनवाल और उनके पूरे परिवार के लिए यह बेहद भावनात्मक समय है। ज्योति ने सेना में वही शपथ ली, जो उनके वीरगति को प्राप्त पति ने कभी ली थी। उनके 2 बेटे भी उनके साथ सेना की वर्दी में नजर आए। वहीं, बेटी लावण्या चौथी क्लास की छात्रा है। बेटा रेयांश कक्षा एक में पढ़ रहा है। दोनों बच्चे अपने पिता और माँ की तरह फौजी बनना चाहते हैं। लेफ्टिनेंट ज्योति के अनुसार, पति के बलिदान होने से पहले उन्होंने नौकरी के लिए कभी सोचा भी नहीं था।

ज्योति ने बताया कि पति के घायल होने के उन्होंने देखा कि सेना अपने जवानों का कितना अच्छे से ध्यान रखती है। इसके लिए उन्होंने सेना की महार रेजिमेंट का धन्यवाद भी किया है। ज्योति ने टेस्ट पास कर के 11 माह की ट्रेनिंग तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई स्थित अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी में लिया था।

ज्योति नैनवाल की उम्र लगभग 33 वर्ष है। ज्योति एक सशक्त नारी के रूप में बताना चाहती हैं कि बच्चों को माँ के अलावा किसी और से प्रेरणा लेने की जरूरत ही न पड़े। ज्योति ने देश के दुश्मनों को ललकारते हुए कहा कि उनके मंसूबों को कभी पूरा नहीं होने दिया जाएगा। ज्योति के पति नायक दीपक नैनवाल मुख्यतः देहरादून के हर्रावाला स्थित सिद्धपुरम के निवासी थे।

बलिदान दीपक 40 दिन तक अस्पताल में रहे थे और उनका इलाज पुणे के पैराप्लेजिक रिहैब सेंटर में चला था। साल 2018 में जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में एक ऑपरेशन के दौरान आतंकियों की गोलियाँ दीपक के फेफड़े में लगी थीं। उनके शरीर के निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया था। आख़िरकार वे वीरगति को प्राप्त हो गए। दीपक की तीन पीढ़ियों ने देश की सेवा की है। शहीद दीपक के दादा सुरेश चंद नैनवाल स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। दीपक के पिता चक्रधर नैनवाल भी रिटायर्ड फौजी हैं। उन्होंने 1971 भारत-पाकिस्तान युद्ध के साथ कारगिल युद्ध में भी हिस्सा लिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -