Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज'राहुल वोहरा को ऑक्सीजन की जगह खाली मास्क लगाकर चले गए': दिल्ली के राजीव...

‘राहुल वोहरा को ऑक्सीजन की जगह खाली मास्क लगाकर चले गए’: दिल्ली के राजीव गाँधी अस्पताल की लापरवाही उजागर, Video

"हर राहुल को इंसाफ मिले। मेरा राहुल चला गया, ये सबको पता है। पर कैसे गया, ये किसी को नहीं पता। राजीव गाँधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, ताहिरपुर दिल्ली। इस तरह से इलाज किया जाता है वहाँ। उम्मीद करती हूँ कि मेरे पति को इंसाफ मिलेगा। एक और राहुल इस दुनिया से नहीं जाना चाहिए।"

मशहूर यूट्यूबर और कंटेंट क्रिएटर राहुल वोहरा की 9 मई को कोरोना संक्रमण के कारण मौत के बाद अब उनकी पत्नी ज्योति ने एक वीडियो साझा किया है। इस वीडियो के साथ ज्योति तिवारी ने अपने पति राहुल वोहरा की मौत के लिए राजीव गाँधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल को जिम्मेदार ठहराया है। 

अपने पोस्ट में ज्योति ने लिखा, “हर राहुल को इंसाफ मिले। मेरा राहुल चला गया, ये सबको पता है। पर कैसे गया, ये किसी को नहीं पता। राजीव गाँधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, ताहिरपुर दिल्ली। इस तरह से इलाज किया जाता है वहाँ। उम्मीद करती हूँ कि मेरे पति को इंसाफ मिलेगा। एक और राहुल इस दुनिया से नहीं जाना चाहिए।”

ज्योति द्वारा शेयर की गई वीडियो में राहुल बेहद कमजोर दिख रहे हैं। साफ पता चलता है कि उन्हें साँस लेने में दिक्कत है। वे वीडियो में ऑक्सीजन मास्क दिखाते हुए कहते हैं, “आज इस मास्क की बहुत कीमत है, बिना इसके मरीज छटपटा जाता है, लेकिन इसमें कुछ नहीं आ रहा। कुछ भी नहीं आ रहा इसमें। अटेंडेट आई थी, मैंने उसको बोला लेकिन वो बस एक बोतल में पानी भरकर चले जाते हैं।”

राहुल ने वीडियो में कहा कि अटेंडेंट को आवाज लगाने पर वे एक-एक, डेढ़-डेढ़ घंटे बाद आते हैं। मास्क में ऑक्सीजन न आने पर मदद के लिए किसी अटेंडेंट को बोलो तो वह एक मिनट में आने का बोलकर गायब हो जाता है। उनको ये नहीं समझ आ रहा है कि पानी की बोतल में पानी कम रखना है और फ्लो बढ़ाना है।

बता दें कि राजीव गाँधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, ताहिरपुर का दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ साल 2019 में उद्घाटन किया था। ये अस्पताल दिल्ली सरकार चलाती थी।

अस्पताल से निराश होकर राहुल ने कुछ समय पहले खुद भी पोस्ट किया था। उन्होंने लिखा था कि वो कोविड पॉजिटिव हैं और एडमिट हैं। लेकिन 4 दिन से उनकी हालत में सुधार नहीं है। उन्होंने पोस्ट करके लोगों से पूछा था कि क्या कोई अस्पताल है जहाँ उन्हें ऑक्सीजन बेड मिल जाए।

दरअसल, जिस समय एक्टर ने यह पोस्ट किया उस समय उनका ऑक्सीजन लेवल लगातार गिर रहा था और उन्हें देखने वाला कोई नहीं था। राहुल ने पोस्ट में बताया था कि वो बहुत मजबूरी में अपना पोस्ट लिख रहे हैं, क्योंकि उनके घरवालों से कुछ नहीं संभल रहा।

इसके अलावा अपने आखिरी संदेश में राहुल ने लिखा था, “मुझे भी ट्रीटमेंट अच्छा मिल जाता तो मैं भी बच जाता। तुम्हारा राहुल वोहरा।” अपनी डिटेल्स देते हुए आखिर में उन्होंने कहा था, “जल्द जन्म लूँगा और अच्छा काम करूँगा। अब हिम्मत हार चुका हूँ।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe