ATS ने नागपुर से सैयद अली को दबोचा, कमलेश तिवारी मर्डर के पाकिस्तान और दुबई से जुड़ रहे तार

कमलेश तिवारी की हत्या की जानकारी पठान ने सैयद अली को दी थी। तिवारी के खिलाफ प्रदर्शन आयोजित कर चुके सैयद ने हिंदुत्ववादी नेता को धमकी भी दी थी। आज तिवारी के परिजन यूपी के सीएम से भी मिलेंगे।

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के सिलसिले में महाराष्ट्र आतंक निरोधी दस्ते (ATS) ने नागपुर से सैयद आसिम अली नाम को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि हत्या के मास्टरमाइंड राशिद पठान ने सैयद को फोन कर हत्या की सूचना दी थी। पठान सहित तीन लोगों को गुजरात एटीएस ने शनिवार को सूरत से इस मामले में गिरफ्तार किया था। सैयद से पूछताछ की जा रही है। पुलिस अधिकारी का कहना है कि तिवारी के विरोध में वह प्रदर्शन भी कर चुका है। उसने यूट्यूब वीडियो में उन्हें धमकी भी दी थी।

इस बीच, सोशल मीडिया पर कमलेश तिवारी का एक विडियो सामने आया है। दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो कुछ दिन पहले का है। इसमें कमलेश तिवारी दुबई और पाकिस्तान से धमकी भरे कॉल आने की बातें कह रहे हैं। जाँच से यह खुलासा हुआ कि राशिद पठान दुबई में रहता था। वो कुछ महीने पहले ही सूरत आया था। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि कमलेश को दुबई से मिलीं धमकियों का कनेक्शन राशिद से ही है।

साथ ही राशिद पठान का पाकिस्तानी कनेक्शन भी सामने आ रहा है। जानकारी के मुताबिक पठान दुबई में जिस कंपनी में काम करता था, उसका मालिक पाकिस्तानी है। इस बात का खुलासा होने के बाद एटीएस उसके पाकिस्तान कनेक्शन की जाँच में जुटी हुई है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यूपी के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह ने बताया है स्थानीय पुलिस गुजरात और महाराष्ट्र एटीएस से संपर्क में है। उनका कहना है कि सीसीटीवी फुटेज में दिखाई देने वाली महिला से भी पूछताछ हुई है। महिला की पहचान शहनाज बानो के रूप में हुई है। डीजीपी ने कहा कि मामले के सभी पहलुओं की जाँच की जा रही है।

आज कमलेश तिवारी के परिजन उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से भी मिलेंगे। वे मुलाकात के लिए सीतापुर से लखनऊ के लिए निकल चुके हैं। गौरतलब है कि इससे पहले गुजरात एटीएस ने सूरत के मौलाना मोहसिन शेख, फैजान पठान और राशिद पठान को हिरासत में लिया है। इस मामले में कुछ और लोगों को हिरासत लिया गया था लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,579फैंसलाइक करें
23,213फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: