Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजहरामखोर का मतलब नॉटी है तो फिर नॉटी का मतलब क्या है? संजय राउत...

हरामखोर का मतलब नॉटी है तो फिर नॉटी का मतलब क्या है? संजय राउत से बॉम्बे HC ने पूछा

कोर्ट ने संजय राउत से उनकी विवादित टिप्पणी पर जवाब माँगा और पूछा कि शिवसेना नेता ने 'हरामखोर' शब्द किसके लिए कहा था। इस पर संजय के वकील ने कहा कि...

महाराष्ट्र सरकार और बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के बीच बढ़े विवाद पर आज (सितंबर 28, 2020) बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने इसी बीच संजय राउत से उनकी विवादित टिप्पणी पर जवाब माँगा और पूछा कि शिवसेना नेता ने ‘हरामखोर’ शब्द किसके लिए कहा था।

इससे पहले कोर्ट की ओर से इस टिप्पणी के ऊपर सबूत पेश करने को कहा गया था। इस पर कंगना के वकील ने अदालत में संजय राउत की रिकॉर्डिंग चलाई, जिस पर संजय राउत के वकील ने कहा कि उनके क्लायंट ने किसी का नाम नहीं लिया है। इसके बाद कोर्ट ने उनके इस बयान को रिकॉर्ड करने के बारे में पूछा। मगर, राउत की ओर से कल इस पर एफिडेविट फाइल करने की बात कही गई।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रही सुनवाई में बेंच ने कंगना को हरामखोर कहे जाने पर संजय राउत के भाषाई ज्ञान पर सवाल उठाया। कंगना के वकील ने जब कहा कि संजय राउत ने इंटरव्यू में हरामखोर का मतलब नॉटी बताया था, तो जस्टिस कथावाला ने कहा, “हमारे पास भी डिक्शनरी है, अगर इसका मतलब नॉटी है तो फिर नॉटी का मतलब क्या है।”

कंगना के वकील बिरेंद्र सराफ ने सुनवाई में कहा कि पूरे मामले में कंगना के साथ जो हुआ, वह गलत है। कंगना के वकील ने कहा कि इससे उनकी क्लायंट को 2 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। उन्होंने कोर्ट से किसी को भेजकर नुकसान का जायजा लेने का आग्रह भी किया।

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा, “मुझे संजय राउत की और बीएमसी के अफसर दी याचिका को देखने का मौका ही नहीं मिला तो कृपया मुझे उसका जवाब बाद में देने की अनुमति दी जाए।” उनकी बात को सुनने के बाद जस्टिस कथावाला ने बताया कि बीएमसी की फाइल्स अभी तक आई ही नहीं है।

गौरतलब है कि इससे पहले कोर्ट ने कंगना रनौत के वकील को बीएमसी की कार्रवाई से जुड़ी फाइल और संजय राउत के दोनों इंटरव्यू के क्लिप लाने को कहा था। वहीं, बीएमसी के वकील ने कहा था, “कंगना कहती हैं कि यह सब उनके 5 सितंबर वाले ट्वीट की वजह से हुआ तो वह ट्वीट क्या था, कोर्ट के सामने पेश किया जाए ताकि टाइमिंग का पता लग सके।”

इस पर कोर्ट को कंगना की ओर से कहा गया था कि उनकी ओर से 30 अगस्त से अब तक के सभी ट्वीट पेश कर दिए गए हैं। बाकी वह संजय राउत का पूरा इंटरव्यू नहीं ढूँढ पाए हैं। सिर्फ एक क्लिप ही है, जो पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है। वह पूरा विडियो ट्रेस करने के प्रयास कर रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe