Thursday, January 20, 2022
Homeदेश-समाजकरनाल महापंचायत में लाठी, लोहे की रॉड और तलवार... इन्हें अनाज मंडी से हटाएँ...

करनाल महापंचायत में लाठी, लोहे की रॉड और तलवार… इन्हें अनाज मंडी से हटाएँ किसान नेता: प्रशासन ने हिंसा को लेकर किया अलर्ट

प्रशासन ने महापंचायत को देखते हुए पहले से ही जिले में इटंरनेट सेवा बंद कर रखी है। अर्धसैनिक बलों की 10 कंपनियों सहित सुरक्षा बलों की 40 कंपनियां तैनात की गई है।

करनाल अनाज मंडी में मंगलवार (7 सितंबर 2021) को किसान महापंचायत के बीच शरारती तत्वों के घुसपैठ की आशंका जताई गई है। हिंसा को लेकर आगाह करते हुए पुलिस ने एक बयान जारी कर यह बात कही है। बयान में कहा गया है कि ऐसे तत्वों की मंशा ठीक नहीं है। यदि किसी भी परिस्थिति में कानून का उल्‍लंघन हुआ तो पुलिस और प्रशासन को सख्‍त कार्रवाई के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

आईजी करनाल के ट्विटर हैंडल से जारी बयान में कहा गया है कि रम्बा, निसिंग और अन्य इलाकों से कुछ शरारती तत्वों के जेली, लोहे की रॉड, तलवारें लेकर अनाज मंडी पहुँचने की सूचना है। इस संबंध में किसान नेताओं को जानकारी देकर ऐसे लोगों को महापंचायत से बाहर निकालने का आग्रह किया गया है। बयान के मुताबिक, “ऐसा प्रतीत होता है कि शरारती तत्व नेताओं की बात नहीं सुन रहे और सभा स्थल छोड़कर जाने को तैयार नहीं हैं।”

ट्वीट में इंटेलिजेंस रिपोर्ट का हवाला देकर यह बात कही गई है। साथ ही उपद्रवी तत्वों को सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। महापंचायत किसानों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में भारतीय किसान यूनियन की ओर से बुलाई गई है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने महापंचायत में आए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा है कि हम हिंसा में शामिल नहीं होंगे। जब तक हमारी माँगें पूरी नहीं होती शांतिपूर्ण तरीके से विरोध जारी रहेगा। उनके अनुसार महापंचायत में शामिल किसी व्यक्ति के पास यदि हथियार है तो वह किसान नहीं है।

गौरतलब है कि करनाल के बसताड़ा टोल प्‍लाजा पर 28 अगस्त लाठीचार्ज के विरोध में यह महापंचायत हो रही है। किसान नेताओं ने लघु सचिवालय के घेराव का भी ऐलान कर रखा है। प्रशासन की अपील के बाद बातचीत के लिए संयुक्‍त किसान मोर्चा की 11 सदस्‍यीय समिति लघु सचिवालय पहुॅंची है।

किसान नेताओं के पहुँचने के बाद वहाँ किलेबंदी कर दी गई है। प्रशासन की ओर अलर्ट जारी किए जाने की बाद सुरक्षा-व्यवस्था और बढ़ा दी गई है। प्रशासन ने महापंचायत को देखते हुए पहले से ही जिले में इटंरनेट सेवा बंद कर रखी है। कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद और पानीपत में भी इंटरनेट/एसएमएस सेवा 7 सितंबर तक के लिए निलंबित है। धारा 144 लागू कर केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की 10 कंपनियों सहित सुरक्षा बलों की 40 कंपनियां तैनात की गई हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भगवान विष्णु की पौराणिक कहानी से प्रेरित है अल्लू अर्जुन की नई हिंदी डब फिल्म, रिलीज को तैयार ‘Ala Vaikunthapurramuloo’

मेकर्स ने अल्लू अर्जुन की नई हिंदी डब फिल्म के टाइटल का मतलब बताया है, ताकि 'अला वैकुंठपुरमुलु' से अधिक से अधिक दर्शकों का जुड़ाव हो सके।

‘एक्सप्रेस प्रदेश’ बन रहा है यूपी, ग्रामीण इलाकों में भी 15000 Km सड़कें: CM योगी कुछ यूँ बदल रहे रोड इंफ्रास्ट्रक्चर

योगी सरकार ने ग्रामीण इलाकों में 5 वर्षों में 15,246 किलोमीटर सड़कों का निर्माण कराया। उत्तर प्रदेश में जल्द ही अब 6 एक्सप्रेसवे हो जाएँगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,276FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe