Tuesday, August 16, 2022
Homeदेश-समाजकर्नाटक सरकार काशी विश्वनाथ मंदिर जाने वाले तीर्थयात्रियों को देगी ₹5000 का अनुदान, बजट...

कर्नाटक सरकार काशी विश्वनाथ मंदिर जाने वाले तीर्थयात्रियों को देगी ₹5000 का अनुदान, बजट में 30 हजार यात्रियों के लिए ‘काशी यात्रा’ का प्रावधान

कर्नाटक के मंत्री ने कहा कि काशी यात्रा का लाभ लेने वाले आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। इसके लिए उन्हें अपना आयु प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। इसके साथ ही इस योजना का लाभ कोई भी तीर्थयात्री अपने जीवन में सिर्फ एक बार ही ले सकता है।

कर्नाटक सरकार (Karnataka Government) ने सोमवार (27 जून 2022) को ‘काशी यात्रा’ परियोजना को मंजूरी दी। इसके तहत वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर जाने के इच्छुक 30,000 तीर्थयात्रियों को 5,000 रुपए प्रतिव्यक्ति नकद सहायता दी जाएगी। इसके लिए धार्मिक बंदोबस्ती विभाग के कमिश्नर को ‘काशी यात्रा’ के लिए स्वीकृत सात करोड़ रुपए का उपयोग करने के लिए अधिकृत किया है। 

राज्य के धार्मिक बंदोबस्ती और हज एवं वक्फ मंत्री शशिकला जोले ने कहा कि इस योजना का लाभ सिर्फ कर्नाटक के मूल निवासी ही उठा सकते हैं। मूल निवास का प्रमाण पत्र के रूप में मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड या राशन कार्ड आदि देना होगा।

मंत्री ने कहा कि काशी यात्रा का लाभ लेने वाले जो भी आवेदक होंगे, उनकी आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए। इसके लिए उन्हें अपना आयु प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा संचालित ‘काशी यात्रा’ का लाभ कोई भी तीर्थयात्री अपने जीवन में सिर्फ एक बार ही ले सकता है।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने 1 अप्रैल से 30 जून तक काशी विश्वनाथ मंदिर की यात्रा की थी और इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं, उन्हें अपने दर्शन टिकट या प्रतीक्षा सूची, ‘पूजा रसीद’ जैसे प्रमाण प्रस्तुत करने होंगे। उन्हें तय प्रारूप में इसे धार्मिक बंदोबस्ती विभाग के कमिश्नर के यहाँ जमा कराना होगा।

बता दें कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने 2022-23 के बजट में काशी यात्रा के लिए 5,000 रुपए का अनुदान देने की घोषणा की थी। काशी यात्रा अनुदान योजना 2022 के लाभ उन लोगों के लिए लाई गई है, जो काशी की यात्रा तो करना चाहते हैं, लेकिन आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण ऐसा नहीं कर पाते। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के शिवमोगा में लगे वीर सावरकर के पोस्टर तो काटा बवाल, प्रेम सिंह को चाकू घोंपा: धारा 144 लागू, अब्दुल, नदीम और जबीउल्लाह...

कर्नाटक में वीर सावरकर के पोस्टर पर हुए बवाल के बाद एक व्यक्ति को चाकू मारने की खबर आई है। पुलिस ने अब्दुल, नदीम, जबीउल्लाह को गिरफ्तार किया है।

‘पता नहीं 9 सितंबर को क्या होगा’: ‘लाल सिंह चड्ढा’ का हाल देख कर सहमे करण जौहर, ‘ब्रह्मास्त्र’ के डायरेक्टर को अभी से दे...

क्या करण जौहर को रिलीज से पहले ही 'ब्रह्मास्त्र' के फ्लॉप होने का डर सता रहा है? निर्देशक अयान मुखर्जी के नाम उनके सन्देश से तो यही झलकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
214,182FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe