Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजकर्नाटक में अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, 250 मस्जिदों को नोटिस: लाउडस्पीकर...

कर्नाटक में अब तेज आवाज में नहीं होगी अजान, 250 मस्जिदों को नोटिस: लाउडस्पीकर में लगानी होगी साउंड मापने वाली मशीन

बजरंग दल और श्रीराम सेना जैसे हिंदू संगठनों ने मस्जिदों में लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध लगाने की माँग की थी। संगठनों ने विभिन्न पुलिस अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर उनसे मस्जिदों से लाउडस्पीकर के दुरुपयोग की जाँच करने का अनुरोध किया था।

कर्नाटक (Karnataka) में ध्वनि प्रदूषण को लेकर पुलिस ने मस्जिदों एवं अन्य धार्मिक स्थलों सहित पब को नोटिस भेजा है, जिसमें निर्धारित डेसिबल स्तर के साथ ही लाउडस्पीकर का उपयोग करने के लिए कहा गया है। हिंदू संगठन मस्जिदों में लाउडस्पीकर को लेकर आपत्ति उठाते रहे हैं। इन संगठनों का कहना है कि लाउडस्पीकर के उपयोग और उसकी ऊँची आवाज के कारण आसपास रहने वाले लोगों को दिक्कत होती है।

सिर्फ बंगलुरु में ही 250 मस्जिदों को नोटिस भेजकर निर्धारित सीमा के तहत आवाज की सीमा रखने के लिए कहा गया है। इसके अलावा, 83 मंदिरों, 22 चर्चों और पब एवं बार सहित 59 व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को प्रतिबंधित घंटों के दौरान लाउडस्पीकर का उपयोग करने या 60 डेसिबल की ध्वनि स्तर की सीमा को पार करने के लिए नोटिस जारी किया है।

कर्नाटक के पुलिस महानिदेशक (DGP) प्रवीण सूद ने राज्य के सभी पुलिस कमिश्नर, पुलिस महानिरीक्षकों (IGP) और पुलिस अधीक्षकों (SP) को धार्मिक स्थानों, पब, नाइट क्लब और अन्य संस्थानों के अलावा समारोहों में ध्वनि प्रदूषण संबंधी नियमों के उल्लंघन की जाँच करने का निर्देश दिया है।

इस मुद्दे पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Chief Minister Basavaraj Bommai) ने कहा कि सरकार की नजर में सब बराबर हैं। उन्होंने कहा कि कर्नाटक सरकार मस्जिदों में लाउडस्पीकर की आवाज को नियंत्रित करने वाले उच्च न्यायालय के आदेश को लागू कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा, “यह उच्च न्यायालय का आदेश है। इसे बलपूर्वक लागू नहीं किया जा रहा है। पुलिस थानों से लेकर जिला स्तर तक संगठनों के साथ बैठक कर सब कुछ करना है।” उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि किसी भी समाज या संगठन को कर्नाटक में शांति और सद्भाव को बिगाड़ने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उन्होंने आगे कहा, “आप सभी जानते हैं… ये मुद्दे पुराने हैं। आदेश 2001 और 2002 में जारी किए गए थे। हमने कोई नया आदेश जारी नहीं किया है। हाईकोर्ट के आदेश में डेसिबल स्तर को बनाए रखने के बारे में भी स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया था। जिला स्तर पर डेसीबल मीटर खरीदने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।” 

इस नोटिस को लेकर बेंगलुरु के जामिया मस्जिद के प्रमुख इमाम मोहम्मद एम इमरान रशदी ने कहा, “हमने आवश्यकतानुसार ध्वनि को नियंत्रित करने वाले उपकरण की व्यवस्था कर ली है, जो है, ताकि कोई समस्या उत्पन्न न हो। हम नोटिस का पालन करेंगे। इसी तरह मंदिरों को भी पालन करना चाहिए।”

बता दें कि बजरंग दल और श्रीराम सेना जैसे हिंदू संगठनों ने मस्जिदों में लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध लगाने की माँग की थी। संगठनों ने विभिन्न पुलिस अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर उनसे मस्जिदों से लाउडस्पीकर के दुरुपयोग की जाँच करने का अनुरोध किया था। संगठनों का आरोप था कि इनकी आवाज अस्पतालों, महत्वपूर्ण सरकारी कार्यालयों, स्कूल और कॉलेज जैसे शांत क्षेत्रों में भी पहुँच रही है।

इससे पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे ने गुड़ी पड़वा (हिंदू नववर्ष) के मौके पर शिवाजी पार्क में आयोजित एक रैली में कहा था कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर इतनी तेज आवाज में क्यों बजाए जाते हैं? अगर इसे नहीं रोका गया तो मस्जिदों के बाहर स्पीकर पर अधिक तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाया जाएगा।

MNS प्रमुख की धमकी के बाद उन्हीं के पार्टी के कार्यकर्ता महेंद्र भानुशाली ने लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा चलाई। जैसे ही पुलिस को इसकी जानकारी मिली उसने तुरंत MNS कार्यकर्ता को अपने हिरासत में ले लिया। हालाँकि, बाद में चेतावनी देकर उन्हें छोड़ दिया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -