Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजनहीं हुई PM मोदी की सुरक्षा में चूक, कार की तरफ आता युवक पहले...

नहीं हुई PM मोदी की सुरक्षा में चूक, कार की तरफ आता युवक पहले पकड़ा गया: कर्नाटक में रोड शो के वक्त हुई घटना पर पुलिस का बयान

पुलिस अधिकारी ने कहा, "जैसा कि मीडिया में रिपोर्ट किया जा रहा है, प्रधानमंत्री सुरक्षा में दावणगेरे में कोई चूक नहीं हुई। यह एक असफल प्रयास था। उसे फौरन मैं और एक एसपीजी ने पकड़कर सुरक्षित दूरी पर दिया था। जरूरी कार्रवाई की जा चुकी है।"

कर्नाटक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो के वक्त उनकी कार की तरफ भाग कर आए एक युवक की हरकत को पुलिस ने सुरक्षा चूक मानने से इनकार किया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आलोक कुमार ने कहा कि एक व्यक्ति बैरिकेडिंग तोड़ पीएम के पास आता दिखा तो उसे उन्होंने खुद रोका और एक एसपीजी कमांडो भी वहाँ आए।

पुलिस अधिकारी आलोक कुमार ने सुरक्षा चूक को लेकर आई रिपोर्ट को नकारा और युवक की हरकत को असफल प्रयास कहा। उन्होंने कहा, “जैसा कि मीडिया में रिपोर्ट किया जा रहा है, प्रधानमंत्री सुरक्षा में दावणगेरे में कोई चूक नहीं हुई। यह एक असफल प्रयास था। उसे फौरन मैं और एक एसपीजी ने पकड़कर सुरक्षित दूरी पर दिया था। जरूरी कार्रवाई की जा चुकी है।”

बता दें कि कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कर्नाटक दौरे के वक्त दावणगेरे में रोड शो के बीच एक युवक ने भागकर पीएम मोदी के पास जाने की कोशिश की थी। हालाँकि उसे पीएम के पास पहुँचने से पहले रोक लिया गया। ऐसे में मीडिया में खबरें आईं कि ये सुरक्षा चूक है।

‘रिपब्लिक’ ने सूत्रों के हवाले से कहा था कि सुरक्षा में सेंध लगाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास पहुँचने की कोशिश करने वाला युवक कोप्पल का रहने वाला है। पहले वह गमित कॉलेज परिसर में छिपा हुआ था। प्रधानमंत्री के रोड शो को देखने के बाद वह दौड़ता हुआ उनकी गाड़ी के पास जाने की कोशिश कर रहा था।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले इसी साल जनवरी में कर्नाटक के हुगली में भी प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया था। तब एक 6वीं क्लास का बच्चा हाथ में माला लेकर प्रधानमंत्री की ओर बढ़ रहा था। हालाँकि सुरक्षा में मुस्तैद एसपीजी के जवानों ने बच्चे को देख लिया और उससे माला लेते हुए वापस भेज दिया था। बच्चा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को माला पहनाना चाहता था। इस घटना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक बताया गया था। लेकिन कर्नाटक पुलिस ने इसे सुरक्षा में चूक मानने से इनकार कर दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

बिहार में निर्दलीय शंकर सिंह ने जदयू-राजद को हराया, बंगाल में 25 साल की मधुपूर्णा बनीं MLA, हिमाचल में CM सुक्खू की पत्नी जीतीं:...

उप-मुख्यमंत्री व भाजपा नेता विजय सिन्हा ने कहा कि शंकर सिंह भी हमलोग से ही जुड़े हुए उम्मीदवार थे। 'नॉर्थ बिहार लिबरेशन आर्मी' के थे मुखिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -