Monday, July 4, 2022
Homeदेश-समाज'पापा ही घर में कमाने वाले थे...': राकेश पंडिता का शव देख फफक पड़े...

‘पापा ही घर में कमाने वाले थे…’: राकेश पंडिता का शव देख फफक पड़े परिजन, त्राल में आतंकियों ने कर दी थी हत्या

कश्मीर भाजपा के प्रवक्ता मंजूर भट्ट ने बताया था कि पंडिता घाटी में भाजपा के एक सक्रिय नेता थे और एक साजिश के तहत भाजपा नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है। भट्ट ने कहा कि आतंकी जितने भाजपा कार्यकर्ताओं को मारेंगे, उतने और खड़े हो जाएँगे।

बीजेपी नेता राकेश पंडिता का गुरुवार (3 जून 2021) को त्राल में अंतिम संस्कार किया गया। वे पुलवामा जिले के त्राल नगरपालिका अध्यक्ष थे। आतंकियों ने बुधवार को उनकी हत्या उस समय कर दी जब वे अपने एक दोस्त के घर आए हुए थे। हत्या की जिम्मेदारी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के विंग PAFF ने ली है। PAFF कुछ दिनों से कश्मीर घाटी में अपना प्रभाव बढ़ाने के प्रयास में है।

पंडिता का शव जैसे ही घर पहुँचा परिजन फफक पड़े। अंतिम संस्कार के बाद उनके बेटे ने कहा, “पापा ही हमारे घर में कमाने वाले थे। मेरी मम्मी हाउस वाइफ हैं और चाचा विकलांग। मैं सरकार से यही चाहता हूँ कि अगर ये साज़िश है तो पता किया जाए कि इसके पीछे कौन थे।”

इसी बीच जम्मू-कश्मीर भाजपा अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा कि राकेश पंडिता नब्बे के दशक से ही घाटी में आतंकवाद और अलगाववाद की चुनौती के बीच डटे हुए थे। रैना ने कहा कि इस हत्या ने एक बार फिर पाकिस्तान के मंसूबों को उजागर कर दिया है और घटना को अंजाम देने वाले आतंकी चुन-चुन कर मारे जाएँगे।

कश्मीर भाजपा के प्रवक्ता मंजूर भट्ट ने बताया था कि पंडिता घाटी में भाजपा के एक सक्रिय नेता थे और एक साजिश के तहत भाजपा नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है। भट्ट ने कहा कि आतंकी जितने भाजपा कार्यकर्ताओं को मारेंगे, उतने और खड़े हो जाएँगे।

घटना के बाद से ही पुलिस और सेना की टीमें इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रही है। पुलिस ने बताया कि पंडिता की सुरक्षा में दो पीएसओ तैनात थे। लेकिन वे बिना सुरक्षा के ही त्राल चले गए थे। गोली लगने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। हमले में एक महिला भी घायल हुई है जो पंडिता के दोस्त की बेटी बताई जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सावन में ज्ञानवापी शिवलिंग के जलाभिषेक की माँग, मुस्लिम पक्ष की दलीलें वर्शिप एक्ट पर टिकीं: अगली सुनवाई 12 जुलाई को

महिलाओं का दावा है कि ज्ञानवापी में 'प्लेसेज ऑफ वर्शिप (स्पेशल प्रॉविजंस) एक्ट, 1991' लागू नहीं होता, क्योंकि 1991 तक यहाँ श्रृंगार गौरी की पूजा होती थी।

‘बुरे वक्त में युसूफ की करते थे मदद, पत्नी के साथ उसके घर पर गए थे’: उमेश कोल्हे के भाई ने बताया – मेरे...

महाराष्ट्र के अमरवती में नूपुर शर्मा के समर्थन के चलते कत्ल हुए उमेश कोल्हे अपनी हत्या के साजिशकर्ता इरफ़ान युसूफ की अक्सर करते थे मदद

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,389FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe