Sunday, May 19, 2024
Homeदेश-समाजइस्लाम छोड़ने पर भीड़ का हमला, हत्या का किया प्रयास: केरल की मजहबी एकेडमी...

इस्लाम छोड़ने पर भीड़ का हमला, हत्या का किया प्रयास: केरल की मजहबी एकेडमी में हुआ था यौन शोषण, परिवार ने भी छोड़ा साथ

अली ने बताया, “वे मुझे कोल्लम समुद्र तट पर ले गए, जहाँ मेरे साथ मारपीट की गई। उन्होंने मेरा मोबाइल फोन तोड़ दिया और मेरे कपड़े फाड़ दिए।"

केरल के कोल्लम में इस्लाम छोड़ने पर एक 24 वर्षीय व्यक्ति पर इस्लामी कट्टरपंथी की भीड़ ने हमला कर दिया। ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, हाल ही में इस्लाम को छोड़ने वाले अस्कर अली (Aksar Ali) ने मुस्लिमों की एक भीड़ के खिलाफ कोल्लम पुलिस में हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कराया है। अली ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि उनके इस्लाम छोड़ने के बाद भीड़ ने उन पर हमला किया। इसके अलावा इस्लाम छोड़ने की वजह से उन्हें समुदाय के लोगों की तरफ से दी जाने वाली धमकियों का भी सामना करना पड़ रहा है।

मलप्पुरम के रहने वाले अस्कर अली ने मलप्पुरम की एक प्रमुख मजहबी एकेडमी से 12 साल का हुदावी धार्मिक कार्यक्रम पूरा किया है। रविवार (1 मई, 2022) को, वह ‘साइंटिफिक टेंपर, मानवतावाद और समाज में जाँच और सुधार की भावना’ को बढ़ावा देने वाले संगठन एसेंस ग्लोबल द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में इस्लामी अध्ययन के छात्र के रूप में अपने अनुभव पर एक भाषण देने के लिए कोल्लम गए थे।

अली ने अपनी शिकायत में कहा कि मलप्पुरम में लोगों के एक समूह ने उनका अपहरण करने की कोशिश की, ताकि वह उस कार्यक्रम को संबोधित न कर सकें। अली ने बताया, “वे मुझे कोल्लम समुद्र तट पर ले गए, जहाँ मेरे साथ मारपीट की गई। उन्होंने मेरा मोबाइल फोन तोड़ दिया और मेरे कपड़े फाड़ दिए। वे मुझे जबरन एक वाहन में ले गए और मुझे अंदर बंद करने की कोशिश की। जब स्थानीय लोगों ने शोर मचाया, तो पुलिस ने मुझे बचा लिया।”

बाद में, अली को पुलिस ने छोड़ दिया। इसके बाद अली ने पुलिस की मौजूदगी में सभा को संबोधित किया। यहाँ उन्होंने इस्लामी अध्ययन के छात्र के रूप में अपना अनुभव साझा किया। इस दौरान अस्कर अली ने यह भी आरोप लगाया कि उनकी पढ़ाई के दौरान उनका यौन उत्पीड़न किया गया।

अली के अनुसार, इस्लाम छोड़ने का उनका निर्णय उनके परिवार को रास नहीं आया। इस वजह से अली परिवार के साथ नहीं रहना चाहता। पुलिस ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अदालत ने उसे उसकी इच्छा के अनुसार रहने की अनुमति दी। कोल्लम पुलिस का कहना है कि अली ने अभी तक उनसे सुरक्षा की माँग नहीं की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -