Sunday, April 14, 2024
Homeदेश-समाजलॉकडाउन के बीच बमबारी: वार्ड पार्षद शम्स इकबाल और आलम अंसारी के खिलाफ FIR...

लॉकडाउन के बीच बमबारी: वार्ड पार्षद शम्स इकबाल और आलम अंसारी के खिलाफ FIR दर्ज

वार्ड नंबर 134 के पार्षद शम्स इकबाल और वार्ड नंबर 137 के पार्षद रहमत आलम अंसारी के खिलाफ मारपीट और लॉकडाउन का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया गया है। इन पार्षदों के समर्थकों को एक-दूसरे पर बमबारी करते और...

एक तरफ जहाँ पूरा देश कोरोना वायरस के महामारी से जूझ रहा है, वहीं दूसरी तरफ सोमवार (मार्च 30, 2020) को कोलकाता में दो वार्ड पार्षदों के खिलाफ मापीट करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक शहर के वार्ड नंबर 134 और 137 की सड़कों पर पूरी रात तक भयंकर लड़ाई चली। जब मामला काफी आगे बढ़ गया तो फिर स्थानीय लोगों ने मजबूरन इसकी शिकायत पुलिस से की। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की।

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि वार्ड नंबर 134 के पार्षद शम्स इकबाल और वार्ड नंबर 137 के पार्षद रहमत आलम अंसारी के खिलाफ मारपीट और लॉकडाउन का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया गया है। इन पार्षदों के समर्थकों को एक-दूसरे पर बमबारी करते और यहाँ तक कि गाली-गलौज करते हुए भी देखा गया था।

पुलिस ने बताया कि हिंसा के सिलसिले में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है और स्थिति अब शांतिपूर्ण है। जब भी चुनाव का समय नजदीक होता है, अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र में हिंसा होते हुए पाया गया है। हालाँकि यह काफी चिंताजनक घटना है, क्योंकि ये ऐसे समय में हुआ है, जब पूरा देश कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए प्रयासरत है। देश में 47 नए केस सामने आने के बाद अभी तक कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1071 हो गई है, जबकि 29 लोगों की मौत हो चुकी है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (मार्च 24, 2020) को देशभर में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषणा की। लॉकडाउन का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से जहां हैं वहीं रहने की अपील की थी। पीएम मोदी ने कहा था कि इस खतरनाक वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं खोजा गया है। इसलिए लॉकडाउन और एक दूसरे से दूरी ही सबसे सफल उपाय है। इसके बावजूद कई लोग ऐसे हैं जो सब कुछ जानकर भी अनसुना कर रहे हैं। समाज के प्रत्येक व्यक्ति को इसे रोकने के लिए अपनी भागीदारी निभानी होगी। वरना वो समाज का नुकसान तो करेंगे ही, खुद को भी नहीं बचा पाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe