Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजलॉकडाउन के बीच बमबारी: वार्ड पार्षद शम्स इकबाल और आलम अंसारी के खिलाफ FIR...

लॉकडाउन के बीच बमबारी: वार्ड पार्षद शम्स इकबाल और आलम अंसारी के खिलाफ FIR दर्ज

वार्ड नंबर 134 के पार्षद शम्स इकबाल और वार्ड नंबर 137 के पार्षद रहमत आलम अंसारी के खिलाफ मारपीट और लॉकडाउन का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया गया है। इन पार्षदों के समर्थकों को एक-दूसरे पर बमबारी करते और...

एक तरफ जहाँ पूरा देश कोरोना वायरस के महामारी से जूझ रहा है, वहीं दूसरी तरफ सोमवार (मार्च 30, 2020) को कोलकाता में दो वार्ड पार्षदों के खिलाफ मापीट करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक शहर के वार्ड नंबर 134 और 137 की सड़कों पर पूरी रात तक भयंकर लड़ाई चली। जब मामला काफी आगे बढ़ गया तो फिर स्थानीय लोगों ने मजबूरन इसकी शिकायत पुलिस से की। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की।

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि वार्ड नंबर 134 के पार्षद शम्स इकबाल और वार्ड नंबर 137 के पार्षद रहमत आलम अंसारी के खिलाफ मारपीट और लॉकडाउन का उल्लंघन करने का मामला दर्ज किया गया है। इन पार्षदों के समर्थकों को एक-दूसरे पर बमबारी करते और यहाँ तक कि गाली-गलौज करते हुए भी देखा गया था।

पुलिस ने बताया कि हिंसा के सिलसिले में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है और स्थिति अब शांतिपूर्ण है। जब भी चुनाव का समय नजदीक होता है, अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र में हिंसा होते हुए पाया गया है। हालाँकि यह काफी चिंताजनक घटना है, क्योंकि ये ऐसे समय में हुआ है, जब पूरा देश कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए प्रयासरत है। देश में 47 नए केस सामने आने के बाद अभी तक कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1071 हो गई है, जबकि 29 लोगों की मौत हो चुकी है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (मार्च 24, 2020) को देशभर में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषणा की। लॉकडाउन का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से जहां हैं वहीं रहने की अपील की थी। पीएम मोदी ने कहा था कि इस खतरनाक वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं खोजा गया है। इसलिए लॉकडाउन और एक दूसरे से दूरी ही सबसे सफल उपाय है। इसके बावजूद कई लोग ऐसे हैं जो सब कुछ जानकर भी अनसुना कर रहे हैं। समाज के प्रत्येक व्यक्ति को इसे रोकने के लिए अपनी भागीदारी निभानी होगी। वरना वो समाज का नुकसान तो करेंगे ही, खुद को भी नहीं बचा पाएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe