बिरयानी वाले परवेज ने 100km की स्पीड से चलाई जगुआर, बांग्लादेशी मोइनुन और फरहाना की कोलकाता में मौत

परवेज 100 किलोमीटर की अधिक स्पीड से गाड़ी चला रहा था। उसके के खिलाफ आईपीसी की धारा 279, 427 और 304 के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि...

कोलकाता में बिरयानी चेन रेस्तरां के मालिक के बेटे परवेज ने अपनी जगुआर से एक मर्सिडीज को टक्कर मार दी। इसमें दो बांग्लादेशी नागरिकों की मौत हो गई। पुलिस ने परवेज को गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक, शनिवार (अगस्त 17, 2019) की सुबह परवेज की तेज गति से आ रही जगुआर ने शेक्सपियर सरानी और लाउडन स्ट्रीट के क्रॉसिंग पर पुलिस बूथ के समीप खड़ी एक मर्सिडीज को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी कि मर्सिडीज पलट कर पुलिस बूथ से टकरा गई और इसकी चपेट में आकर दो बांग्लादेशी नागरिकों की मौत हो गई। इसके अलावा एक अन्य शख्स घायल हो गया।

दुर्घटना में मारे गए लोगों की पहचान बंग्लादेश के ढाका निवासी काजी मोहम्मद मोइनुन आलम और फरहाना इस्लाम तानिया के रूप में हुई है। इसके अलावा इनके एक अन्य शख्स की पहचान काजी सफी रहमतुल्लाह के रूप में हुई है, जिन्हें कोलकाता के अस्पताल में भर्ती किया गया है। शहर के बांग्लादेश के उप उच्चायोग के मुताबिक, काजी आँख के इलाज के लिए कोलकाता में थे और फरहान ढाका में सिटी बैंक के लिए काम करते थे।

पुलिस ने बताया कि जिस कार से टक्कर मारी गई थी, वो कोलकाता में एक प्रसिद्ध बिरयानी रेस्तरां चेन अर्सलान के मालिक के बेटे परवेज का है और रेस्तरां के नाम पर रजिस्टर्ड है। इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन 2017 में करवाया गया था। परवेज लंदन में अपनी पढ़ाई पूरी करके 2 साल पहले कोलकाता वापस आया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि आरोपित परवेज टक्कर मारकर भाग गया था, लेकिन अब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपित परवेज के खिलाफ आईपीसी की धारा 279, 427 और 304 के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि परवेज 100 किलोमीटर की अधिक स्पीड से गाड़ी चला रहा था।

फॉरेंसिक अधिकारी ने बताया कि दोनो गाड़ियों की जाँच करने के लिए वो डेटा रिकॉर्ड निकालने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, कोलकाता में बांग्लादेश उप उच्चायोग अब विदेश मंत्राालय और पश्चिम बंगाल सरकार के साथ समन्वय स्थापित कर रहा है ताकि शवों को वापस देश भेजने की व्यवस्था की जा सके।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राम मंदिर
"साल 1855 के दंगों में 75 मुस्लिम मारे गए थे और सभी को यहीं दफन किया गया था। ऐसे में क्या राम मंदिर की नींव मुस्लिमों की कब्र पर रखी जा सकती है? इसका फैसला ट्रस्ट के मैनेजमेंट को करना होगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: