Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाज'अब्बू और अम्मी को अल्लाह के पास जन्नत भेज दिया, अगला नंबर भाभी का...

‘अब्बू और अम्मी को अल्लाह के पास जन्नत भेज दिया, अगला नंबर भाभी का था’: कुतुबुद्दीन गिरफ्तार, कहा – अल्लाह का आदेश मेरी ड्यूटी

अम्मी-अब्बू की हत्या के बाद कुतुबुद्दीन अब अपनी भाभी को भी जन्नत पहुँचाना (मारना) चाहता था। उसने पुलिस को बताया कि उसकी भाभी को भी अल्लाह ने बुलावा भेजा है। कुतुबुद्दीन ने अल्लाह के आदेश को मानना अपनी ड्यूटी बताया।

राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में कुतुबुद्दीन ने अपने पिता की हत्या कर दी। मृतक का नाम इब्राहिम खान है, जिनकी उम्र 68 वर्ष थी। हत्यारोपित ने अपना अपराध कबूल लिया है। उसके अनुसार उसने अपने अब्बू को जन्नत भेजा है। आरोपित ने बताया कि उसके अब्बू इस दुनिया में खुश नहीं थे। साथ ही उसने इस काम का फरमान अल्लाह की तरफ से आया बताया। यह हत्या 29 अक्टूबर 2021 (शुक्रवार) जुमे के दिन की गई थी।

यह घटना खंडार थाना क्षेत्र की बहरावण्डा खुर्द चौकी इलाके के गाँव छान की है। रिपोर्ट के अनुसार आरोपित ने पुलिस के आगे और सनसनीखेज खुलासे किए। उसके अनुसार रमजान के महीने में वो अपनी 68 वर्षीया माँ हमीदन बानो को भी मार चुका है।

माँ की हत्या के पीछे भी उसने अल्लाह के फरमान पर जन्नत भेजने वाली थ्योरी बताई। माता-पिता दोनों की हत्या के लिए कुतुबुद्दीन ने एक डंडे का प्रयोग किया था। दोनों के सिर पर वार किए गए थे। परिवार के बाकी सदस्यों ने इस घटना को छिपा लिया था और पुलिस को सूचना नहीं दी गई थी।

पुलिस द्वारा कुतुबुद्दीन की गिरफ्तारी के कारण परिवार में इसी प्रकार से तीसरी संभावित हत्या को टाल दिया। आरोपित के अनुसार अब वह अपनी भाभी को भी जन्नत पहुँचाना चाहता था। उसने पुलिस को बताया कि उसकी भाभी को अब दुनिया में रहने की कोई जरूरत नहीं है। अल्लाह ने उन्हें भी बुलावा भेजा है। कुतुबुद्दीन ने अल्लाह के आदेश को मानना अपनी ड्यूटी बताया।

अपने माँ-बाप की हत्या कर चुके कुतुबुद्दीन का निकाह कुछ ही साल पहले हुआ था। थोड़े समय के बाद पत्नी ने उसके साथ रहने से मना कर दिया था। बाद में दोनों में तलाक हो गया था। हत्यारोपित की उम्र लगभग 40 वर्ष है। आरोपित का मानसिक बीमारी का कोई रिकॉर्ड नहीं है।

कुतुबुद्दीन पाँच वक्त का नमाज़ी बताया जा रहा है। अपने अब्बू की हत्या से पहले भी उसने नमाज़ पढ़ी थी। पुलिस के अनुसार यह हत्या दोपहर में तब की गई, जब मृतक इब्राहिम खान सो रहे थे। घटना के समय कुतुबुद्दीन का भाई अमीनुद्दीन बाजार गया था। हत्या के बाद आरोपित पिता की लाश के पास ही बैठा रहा। जब लोगों ने सवाल किए तब उसने अपने पिता को मार डालने की बात स्वयं कबूली।

कुतुबुद्दीन ने कहा कि उनके अब्बू काफी परेशान रहते थे। उनको अल्लाह के फरमान पर जन्नत भेज दिया हूँ। इस मामले की शिकायत पुलिस में हुई तो पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिवार वालों को सौंप दिया गया है। आरोपित को जेल भेज दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe