Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजभारत में 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 7 बातों में PM मोदी ने माँगा...

भारत में 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 7 बातों में PM मोदी ने माँगा देश की जनता का साथ

20 अप्रैल तक निरीक्षण किया जाएगा, फिर कुछ जरूरी गतिविधियों के लिए छूट दी जाएगी। नई गाइडलाइन बनाते हुए गरीबों का पूरा ध्यान रखा गया है।

21 दिन तक चले लॉकडाउन के बाद भारत सरकार ने आज देश की स्थिति को देखते हुए इस लॉकडाउन को 3 मई तक आगे बढ़ा दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज जनता को संबोधित करते हुए इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल तक निरीक्षण किया जाएगा, फिर कुछ जरूरी गतिविधियों के लिए छूट दी जाएगी। उन्होंने देश की जनता को न खुद लापरवाही करने की सलाह दी और न ही किसी और को करने देने की बात की। उन्होंने इस दौरान गरीब तबके को सेवा मुहैया कराने की बात की और कहा कि नए गाइडलाइन बनाते हुए भी उन्होंने गरीबों का पूरा ध्यान रखा है।

उन्होंने आश्वस्त किया कि इस समय केंद्र सरकार व राज्य सरकार पूरी कोशिशें कर रही हैं कि जनता को कोई परेशानी न हो। राशन, दूध,सब्जी की कोई दिक्कतें नहीं हैं और 600 से ज्यादा अस्पताल हैं जो सिर्फ़ कोरोना से लड़ने का काम कर रहे हैं। इसके अलावा एक लाख बेडों की व्यवस्था हो गई है। जहाँ पहले कोरोना जाँच की एक लैब थी, उनकी संख्या अब 220 हो गई है। उन्होंने कहा कि भारत में भले ही संसाधन कम है लेकिन उनका भारत के युवा वैज्ञानिकों से विशेष आग्रह है कि विश्व कल्याण के लिए, मानव कल्याण के लिए, आगे आएँ, कोरोना की वैक्सीन बनाने का बीड़ा उठाएँ। इस संबोधन में उन्होंने सबसे धैर्य व विश्वास बनाने की अपील की।

इसके साथ ही अपनी बात को खत्म करते हुए उन्होंने 7 बातों में उनका साथ देने की अपील की।

1.अपने घर के बुजुर्गों का खास ध्यान रखें, खासकर उनका जिन्हें पुरानी बीमारी हो।
2. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें। मास्क व घर में बने मास्क का उपयोग करें।
3.अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के निर्देशों का पालन करें।
4. कोरोना संक्रमण रोकने के लिए आयोग्य सेतु ऐप जरूर डाउनलोड करें। दूसरो को भी प्रेरित करें।
5. जितना हो सके, गरीब लोगों की देखरेख करें।
6. अपने व्यवसाय में, अपने उद्योग में, आपके साथ काम कर रहे लोगों के प्रति संवेदना रखें। उनका सहयोग करें, किसी को नौकरी से नहीं निकालें।
7. कोरोना योद्धाओं (डॉक्टक, नर्सों, सफाईकर्मी, सुरक्षाकर्मियों आदि) का सम्मान करें व उनका आदर करें।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लॉकडाउन के आखिरी दिन देश को संबोधित करने आए। उन्होंने भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण का असर रोकने के लिए जनता को आभार व्यक्त किया। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान लोगों को आई परेशानी के बारे में बात की। उन्होंने देश के नागरिकों को अनुशासित सिपाही बताया और कहा कि सब अपने कर्तव्य निभा रहे हैं। जिसके लिए वे सबको नमन करते हैं। उन्होंने बीआर अंबेडकर की जन्म जयंती के मौके पर सामूहिक शक्ति का प्रदर्शन को उन्हें दी गई सच्ची श्रद्धांजलि बताया। उन्होंने सभी देशवासियों की तरफ से बाबा साहेब को नमन किया। उन्होंने इस समय देश में होने वाले अलग-अलग त्यौहारों की बात की और कहा कि जिस संयम से लोग अपने घरों में रहकर त्यौहार मना रहे हैं- ये बेहद प्रेरक है।

उन्होंने अपनी बात की शुरुआत में कहा, “आज पूरे विश्व में कोरोना वैश्विक महामारी की जो स्थिति है, आप उसे भली-भाँति जानते हैं। अन्य देशों के मुकाबले, भारत ने कैसे अपने यहाँ संक्रमण को रोकने के प्रयास किए, आप इसके सहभागी भी रहे हैं और साक्षी भी। लॉकडाउन के इस समय में देश के लोग जिस तरह नियमों का पालन कर रहे हैं, जितने संयम से अपने घरों में रहकर त्योहार मना रहे हैं, वो बहुत प्रशंसनीय है।” 

इसके बाद उन्होंने लॉकडाउन के कारण जनता को हुई परेशानी की बात कही। उन्होंने बोला, “मैं जानता हूँ, आपको कितनी दिक्कतें आई हैं। किसी को खाने की परेशानी, किसी को आने-जाने की परेशानी, कोई घर-परिवार से दूर है। कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई, बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। आपकी तपस्या, आपके त्याग की वजह से भारत अब तक, कोरोना से होने वाले नुकसान को काफी हद तक टालने में सफल रहा है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,242FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe