Saturday, May 18, 2024
Homeदेश-समाजसूर्योदय और सूर्यास्त पर हनुमान चालीसा, 3 बार प्रतिदिन रामधुन: MP के इंदौर में...

सूर्योदय और सूर्यास्त पर हनुमान चालीसा, 3 बार प्रतिदिन रामधुन: MP के इंदौर में मंदिर के लाडस्पीकर से गूँजने लगा प्रभु का नाम

"इस पुराने मंदिर में सूर्योदय और सूर्यास्त के समय लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाया जा रहा है। मंदिर में लाउडस्पीकर पर दिन में तीन बार रामधुन बजाया जा रहा है।"

महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा (Hanuman chalisa) और मस्जिदों के लाउडस्पीकर पर जारी विवाद के बीच मध्य प्रदेश के इंदौर स्थित एक मंदिर से माइक के जरिए रोजाना पाँच बार प्रभु के नाम का गुणगान भी शुरू हो गया है। मिली जानकारी के अनुसार मंदिर के लाउडस्पीकर से दो बार हनुमान चालीसा और तीन बार रामधुन बजाया जा रहा है। हनुमान चालीसा का पाठ सूर्योदय और सूर्यास्त के समय हो रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, मंदिर में लाउडस्पीकर से हनुमान चालीसा का पाठ इंदौर के चंद्रभागा क्षेत्र के खेड़ापति हनुमान मंदिर में शुरू किया गया है। स्थानीय संगठन ‘हिंदवी स्वराज’ ने जल्द ही शहर के बाकी मंदिरों में भी लाउडस्पीकर से हनुमान चालीसा का पाठ करने की बात कही है। संगठन के प्रमुख और पेशे से वकील अमित पांडे ने सोमवार (25 अप्रैल 2022) को कहा, “इस पुराने मंदिर में सूर्योदय और सूर्यास्त के समय लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाया जा रहा है। मंदिर में लाउडस्पीकर पर दिन में तीन बार रामधुन बजाया जा रहा है।”

पांडे का कहना है कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर पर अजान के खिलाफ लंबे समय से आवाज उठाई जा रही है, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि पिछले तीन महीनों में कई वकीलों ने मौजूदा नियमों का हवाला देते हुए शहर के पुलिस स्टेशनों को मस्जिदों में उच्च डेसिबल स्तर पर लाउडस्पीकर बजाए जाने को लेकर लिखा है। तेज आवाज से बीमार, बच्चों और बुजुर्गों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस ओर भी प्रशासन का ध्यान दिलाया गया। लेकिन, न तो पुलिस ने और न ही जिला प्रशासन ने कोई उचित कदम उठाया।

पांडे ने बताया कि उनके संगठन ने शहर में ऐसे 25 मंदिरों की पहचान की है, जहाँ दिन में पाँच बार लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा और रामधुन बजाने की योजना बनाई जा रही है। इस बीच इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि शांति कायम रखना प्रशासन की जिम्मेदारी है। इस मसले को सुलझाने के लिए दोनों पक्षों से बातचीत की जाएगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -