Sunday, July 25, 2021
Homeदेश-समाजमद्रास क्रिश्चियन कॉलेज के प्रोफेसर रवीन और टेनिसन यौन शोषण के दोषी करार

मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज के प्रोफेसर रवीन और टेनिसन यौन शोषण के दोषी करार

यह मामला पिछले महीने सामने आया जब एमसीसी में जूलॉजी विभाग के छात्रों ने प्रोफेसर रवीन पर अपनी डिपार्टमेंट ट्रिप के दौरान महिला छात्रों के साथ कर्नाटक में दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। छात्रों ने रवीन पर अनुचित तरीके से छूने, उनकी ड्रेसिंग के बारे में भद्दे कमेंट पास करने और उनकी निजता भंग करने का आरोप लगाया।

मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज में जूलॉजी के प्रोफेसर के खिलाफ यौन शोषण के आरोप सही पाए गए हैं। आरोपों की जाँच के लिए मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज (एमसीसी) द्वारा गठित आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) एक महत्वपूर्ण नतीजे पर पहुँची है। ICC ने अपनी रिपोर्ट में छात्राओं के यौन उत्पीड़न के आरोप में प्रोफेसर आर रवीन को दोषी पाया है और उनके सहयोगी सैमुअल टेनिसन को रवीन को प्रोत्साहित करने का दोषी माना गया है।

यह मामला पिछले महीने सामने आया जब एमसीसी में जूलॉजी विभाग के छात्रों ने प्रोफेसर रवीन पर अपनी डिपार्टमेंट ट्रिप के दौरान छात्राओं के साथ कर्नाटक में दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। छात्रों ने रवीन पर अनुचित तरीके से छूने, उनकी ड्रेसिंग के बारे में भद्दे कमेंट पास करने और उनकी निजता भंग करने का आरोप लगाया। यात्रा इस साल जनवरी में आयोजित की गई थी।

यात्रा के बाद, छात्रों ने सामूहिक और गोपनीय रूप से प्रोफेसर के खिलाफ उत्पीड़न की शिकायत उनके विभागाध्यक्ष (HoD) को सौंपी। हालाँकि, एचओडी की निष्क्रियता से पीड़ित, 50 छात्रों में से 36, जो कर्नाटक भ्रमण का हिस्सा थे, ने एक औपचारिक हस्ताक्षर के साथ अपनी शिकायत दर्ज कराई।

एचओडी ने छात्रों को घटना इस बारे में अनौपचारिक जाँच के लिए आमंत्रित किया था। हालाँकि, इस मीटिंग का कोई परिणाम नहीं निकला और हेड ने प्रोफेसर रवीन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बजाय केवल चेतावनी के साथ दोनों ‘दोषी’ प्रोफेसरों को छोड़ दिया। उनके अनुसार उन्होंने अपनी कार्रवाई को सही ठहराया क्योंकि दोनों के खिलाफ कोई पिछली शिकायत नहीं मिली थी।

प्रोफेसर रवीन द्वारा यौन उत्पीड़न का अन्य मामला तब सामने आया जब 1997-2000 के जूलॉजी विभाग के बैच के छात्र भी सामने आए और उन्होंने अपने समय में कॉलेज के भ्रमण के दौरान उत्पीड़न की घटनाओं को साझा करने की हिम्मत दिखाई। पुराने छात्रों के समय HoD ने आरोपित को 15 दिनों के लिए निलंबित कर दिया था। हालाँकि, निलंबन का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा गया क्योंकि यह निलंबन उनकी गर्मियों की छुट्टियों के दौरान हुआ था।

छात्रों के अनुसार जब उन्हें एहसास हुआ कि कॉलेज विभाग ने उनसे झूठ बोला था, तो वो विरोध करने लगे। यह तब की बात है जब ICC की स्थापना की गई थी और एक औपचारिक जाँच शुरू हुई। बाहरी सदस्य और वकील शीला जयप्रकाश की समिति ने कई दौर की जाँच की। इसके बाद, समिति ने 24 अप्रैल को रिपोर्ट जारी करने से पहले इस मुद्दे पर अपने निष्कर्षों को सुरक्षित रखा। उसी दिन इस रिपोर्ट की एक प्रति छात्रों और निदेशक मंडल को सौंप दी गई।

आईसीसी ने माना कि रवीन और टेनीसन यौन उत्पीड़न में शामिल हैं। “यह समिति की सर्वसम्मत निष्कर्ष है कि डॉ. रवीन और डॉ. टेनीसन ने अनफ्रेंडली कार्य/अध्ययन का माहौल बनाकर यौन उत्पीड़न किया, जिसके परिणामस्वरूप शिकायतकर्ताओं के खिलाफ लैंगिक भेदभाव हुआ।” रिपोर्ट में कहा गया है कि समिति दोनों प्रोफेसरों के खिलाफ उचित कार्रवाई के लिए इसे प्राचार्य को भेज रही है।

छात्रों ने समिति की रिपोर्ट, दृष्टिकोण और टिप्पणियों पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि वे अब इस रिपोर्ट के निष्कर्षों के अनुसार दोषी प्राध्यापकों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कॉलेज के प्राचार्य का इंतजार कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गाँधी की हत्या के बाद कॉन्ग्रेस ने करवाया था ब्राह्मणों का नरसंहार, पुलिस ने दर्ज नहीं किया एक भी केस’: इतिहासकार का खुलासा

लेखक व इतिहासकार विक्रम सम्पत ने कहा है कि महात्मा गाँधी की हत्या के बाद ब्राह्मण-विरोधी नरसंहार कॉन्ग्रेस नेताओं ने करवाया था। एक भी केस दर्ज नहीं किया गया था।

Tokyo Olympics: पुरुष नौकायन टीम सेमीफाइनल में, बैडमिंटन में पीवी सिंधु, टेबल टेनिस में मनिका बत्रा और सुतीर्थ मुखर्जी की जीत

टोक्यो ओलंपिक के तीसरे दिन भारत को बैडमिंटन, नौकायन और टेबल टेनिस में मिली जीत। टेबल टेनिस में दो महिला खिलाड़ी पहुंचीं दूसरे दौर में।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,128FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe