Sunday, April 21, 2024
Homeदेश-समाजगरीब नवाज नगर में मास्क न पहनने पर हुए विवाद में मुंबई पुलिस पर...

गरीब नवाज नगर में मास्क न पहनने पर हुए विवाद में मुंबई पुलिस पर धारधार हथियार से हमला, 3 घायल

मुंबई के गरीब नवाज नगर इलाके में दो गुट आपस में फेस मास्क पहनने को लेकर भिड़े हुए थे। पर, जैसे ही पुलिस व राज्य रिजर्व पुलिस बल ने मौके पर पहुँचकर बीच बचाव करना शुरू किया, तो एक ग्रुप ने पुलिस पर ही धारदार हथियार से हमला कर दिया। पूरी घटना में 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

मुंबई पुलिस पर गुरुवार (मई 14, 2020) को धारधार हथियार से हमले का मामला सामने आया। घटना मध्य मुंबई के एंटप हिल इलाके के नजदीक गरीब नवाज नगर में घटी। यहाँ विवाद की शुरुआत मास्क नियम का पालन कराने को लेकर हुई।

खबरों के अनुसार, मुंबई के गरीब नवाज नगर इलाके में दो गुट आपस में फेस मास्क पहनने को लेकर भिड़े हुए थे। पर, जैसे ही पुलिस व राज्य रिजर्व पुलिस बल ने मौके पर पहुँचकर बीच बचाव करना शुरू किया, तो एक ग्रुप ने पुलिस पर ही धारदार हथियार से हमला कर दिया। पूरी घटना में 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

इस मामले पर मुंबई पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी प्रणय अशोक ने बताया कि घटना में 3 पुलिसकर्मी घायल हुए है। दोनों पक्षों के बीच फेसमास्क को लेकर विवाद शुरू हुआ। इसी कड़ी में पुलिसबल पर धारदार हथियार से हमला किया गया है। इस मामले में आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है। आगे जाँच के आधार पर कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि इस घटना से पहले कोरोना महामारी से बचाव हेतु नियमों का पालन कराने वाली पुलिस पर अलग-अलग राज्यों से हमले की कई घटना सामने आई हैं। पिछले महीने राजस्थान के टोंक के कसाई मोहल्ला में एक ऐसी ही घटना हुई थी। 

उस समय कोरोना प्रभावित अल्पसंख्यक इलाकों में गश्त करने गई पुलिस पर लाठी-डंडे और तलवार से निशाना बनाया गया था। इस दौरान भी तीन पुलिसकर्मी जख्मी हुए थे। हमला उस वक्त हुआ था, जब मेडिकल टीम कोरोना से जान गॅंवाने वाले एक शख्स के परिजनों को क्वारंटाइन करने पहुँची थी। इलाके के लोगों ने मेडिकल टीम को घेर लिया और पथराव किया था। इस घटना में डॉक्टर समेत कई स्वास्थ्यकर्मी घायल हुए थे। पुलिस ने 17 लोगों को गिरफ्तार किया था।

इसके अलावा पश्चिम बंगाल के हावड़ा में भी लॉकडाउन का पालन कराने गई पुलिस पर हमला हुआ था। इस वाकये में भी दो से तीन पुलिसकर्मी घायल हुए थे। इस घटना में पुलिस पर वार सिर्फ़ इसलिए हुआ था क्योंकि उन्होंने सड़क पर घूम रहे लोगों को घर जाने के लिए कह दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जब राष्ट्र में जगता है स्वाभिमान, तब उसे रोकना असंभव’: महावीर जयंती पर गूँजा ‘जैन समाज मोदी का परिवार’, मुनियों ने दिया ‘विजयी भव’...

"हम कभी दूसरे देशों को जीतने के लिए आक्रमण करने नहीं आए, हमने स्वयं में सुधार करके अपनी ​कमियों पर विजय पाई है। इसलिए मुश्किल से मुश्किल दौर आए और हर दौर में कोई न कोई ऋषि हमारे मार्गदर्शन के लिए प्रकट हुआ है।"

कलकत्ता हाई कोर्ट न होता तो ममता बनर्जी के बंगाल में रामनवमी की शोभा यात्रा भी न निकलती: इसी राज्य में ईद पर TMC...

हाई कोर्ट ने कहा कि ट्रैफिक के नाम पर शोभा यात्रा पर रोक लगाना सही नहीं, इसलिए शाम को 6 बजे से इस शोभा यात्रा को निकालने की अनुमति दी जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe