Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजमहाराष्ट्र में 50,000 लोगों का जुटान करने वाला था तबलीगी जमात, कोरोना संक्रमण से...

महाराष्ट्र में 50,000 लोगों का जुटान करने वाला था तबलीगी जमात, कोरोना संक्रमण से मंसूबों पर फिरा पानी

ठाणे के राबोडी पुलिस स्टेशन में लॉकडाउन का उलंघन करने पर एक समूह के 12 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है जो नमाज अदा करने के लिए इकट्ठे हुए थे। 15 बांग्लादेशी और 12 मलेशियाई नागरिकों के विरुद्ध भी एफआईआर दर्ज की गई है। ये निजामुद्दीन के मरकज में गए थे।

दिल्ली में नियम-कायदों को ताक पर रखकर कार्यक्रम आयोजित करने और निजामुद्दीन स्थित अपने मरकज में सैकड़ों लोगों को रखने वाले तबलीगी जमात के इरादे महाराष्ट्र में भी बड़ा जुटान करने के थे। उसने 12-13 मार्च को वसई सनसिटी में 50,000 लोगों को इकट्ठा करने की योजना बनाई थी। लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के दो मामले सामने आने के बाद महाराष्ट्र सरकार ने इस आयोजन की अनुमति से इनकार कर दिया था।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार राज्य सरकार ने प्रारंभ में 6 फरवरी को इस जलसे के लिए अपनी अनुमति दे दी थी। बाद में इस निर्णय को बदल दिया गया, क्योंकि संक्रमण के मामले सामने आने के बाद सतर्कता बरतने की जरूरत समझी गई। राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि जब तबलीगी जमात ने अपने जलसे को लेकर अड़ने की कोशिश की तो उन्होंने सख्त लहजे में क़ानूनी एक्शन लेने की चेतावनी दी।

कोंकण रेंज के इंस्पेक्टर जनरल निकट कौशिक ने कहा, “हमने 6 मार्च को अपनी अनुमति वापस ले ली और उन्हें इसके बाबत सूचना दे दी।” तबलीगी जमात के एक सदस्य ने बताया कि उनकी योजना महाराष्ट्र के पुणे, रत्नागिरी और रायगढ़ में ऐसे ही जलसों को आयोजित करने की थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार ठाणे के राबोडी पुलिस स्टेशन में लॉकडाउन का उलंघन करने पर एक समूह के 12 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है जो नमाज अदा करने के लिए इकट्ठे हुए थे। 15 बांग्लादेशी और 12 मलेशियाई नागरिकों के विरुद्ध भी एफआईआर दर्ज की गई है। ये निजामुद्दीन के मरकज में गए थे। राज्य के मंत्री जितेंद्र अहृवाड ने बताया कि फिलहाल इन सभी को अभी होम क्वारन्टाइन में रखा गया है।

287 में से उन 211 विदेशी नागरिकों के पासपोर्ट जब्त किए जा चुके हैं जो मार्च 13-15 के बीच तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। ये सारे विदेशी उत्तर प्रदेश की अलग-अलग मस्जिदों में छिपे हुए थे। इनके खिलाफ कुल 34 एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उन 960 विदेशी नागरिकों के वीजा को भी निरस्त कर दिया जिन्होंने नियमों की अवहेलना करते हुए तबलीगी की गतिविधियों में हिस्सा लिया था। यह भी रिपोर्ट्स में आ रहा है कि कल बृहस्पतिवार को एक दिन में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण के जो मामले सामने आए हैं, उनमें 60% मामले उनसे संबंधित हैं जो मरकज में शामिल हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को भूला देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती’: दादरी में CM योगी

सीएम ने कहा, "राजा मिहिर भोज नौंवी सदी के एक महान धर्मरक्षक थे। जो कौम अपने इतिहास व परंपराओं को विस्मृत कर देती है, वह अपने भूगोल की भी रक्षा नहीं कर पाती।''

‘साड़ी स्मार्ट ड्रेस नहीं’- दिल्ली के अकीला रेस्टोरेंट ने महिला को रोका: ‘ओछी मानसिकता’ पर भड़के लोग, वीडियो वायरल

अकीला रेस्टोरेंट के स्टाफ ने महिला से कहा कि चूँकि साड़ी स्मार्ट आउटफिट नहीं है इसलिए वो उसे पहनने वाले लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,748FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe