Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजबिहार पहुँचा कोरोना: कतर से लौटे सैफ की मौत, देश में अब तक 6...

बिहार पहुँचा कोरोना: कतर से लौटे सैफ की मौत, देश में अब तक 6 मौतें

आरएमआरआइ के निदेशक डॉ. प्रदीप दास ने शनिवार देर रात को ही बता दिया था कि वहाँ कोरोना के दो मामले मिले हैं। बिहार में विदेश से 520 लोगों के आने की बात पता चली है, जिससे आशंका जताई जा रही है कि कोरोना के और भी मरीज हो सकते हैं जिन्हें आइसोलेट कर के इलाज किए जाने की ज़रूरत है।

पूरे भारत में कोरोना वायरस के अब तक कुल 326 मामले सामने आ चुके हैं। महाराष्ट्र में रविवार (मार्च 22, 2020) को हुई एक व्यक्ति की मौत के बाद कुल मौत का आँकड़ा बढ़कर 5 हो गया था। अब बिहार से बड़ी ख़बर आ रही है, जहाँ कोरोना वायरस के संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत होने की बात कही जा रही है। 38 वर्षीय सैफ कतर से आया था। उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। पटना के राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्‍टीच्‍यूट (RMRI) में दो मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जिनमें से एक की मौत हो गई वहीं दूसरे का इलाज जारी है।

ये बड़ी ख़बर है क्योंकि अब तक बिहार में कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया था। मरीज की मौत होने के बाद उसके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की बात पता चली, क्योंकि उसे क्रोनिक किडनी रोग था। विदेश से लौटे सैफ को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था। अभी उसकी ऑटोस्पी रिपोर्ट आने के बाद अधिक जानकारी मिलेगी। उक्त मरीज पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान में किडनी का इलाज करा रहा था। वो मुंगेर का निवासी था। सवास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने उसके कोरोना इन्फेक्टेड होने की पुष्टि की और साथ ही मौत की भी जानकारी दी।

आरएमआरआइ के निदेशक डॉ. प्रदीप दास ने शनिवार देर रात को ही बता दिया था कि वहाँ कोरोना के दो मामले मिले हैं। बिहार में विदेश से 520 लोगों के आने की बात पता चली है, जिससे आशंका जताई जा रही है कि कोरोना के और भी मरीज हो सकते हैं, जिन्हें आइसोलेट कर के इलाज किए जाने की ज़रूरत है। एम्स के एक डॉक्टर ने ऑपइंडिया से बातचीत के दौरान बताया कि मरीज को शायद बीमारी के बारे में आशंका थी और वो क़तर से बिहार इलाज के लिए आया था।

दिल्‍ली में भारतीय चिकित्‍सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और राज्‍य के स्वास्थ्य मंत्री व प्रधान सचिव को बिहार में कोरोना के दो मामले मिलने और एक व्यक्ति की मौत होने की सूचना दे दी गई है। उस मरीज की दोनों किडनी काम नहीं कर रही थी, ऐसे में डॉक्टरों ने कहा कि उसकी मौत के लिए कोरोना कितना जिम्मेदार है, ये पूरी जाँच के बाद ही पता चलेगा। अभी भी अस्पतालों में 500 से अधिक लोग सर्विलांस पर रखे गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2020 में नक्सली हमलों की 665 घटनाएँ, 183 को उतार दिया मौत के घाट: वामपंथी आतंकवाद पर केंद्र ने जारी किए आँकड़े

केंद्र सरकार ने 2020 में हुई नक्सली घटनाओं को लेकर आँकड़े जारी किए हैं। 2020 में वामपंथी आतंकवाद की 665 घटनाएँ सामने आईं।

परमाणु बम जैसा खतरनाक है ‘Deepfake’, आपके जीवन में ला सकता है भूचाल: जानिए इससे जुड़ी हर बात

विशेषज्ञ इसे परमाणु बम की तरह ही खतरनाक मानते हैं, क्योंकि Deepfake की सहायता से किसी भी देश की राजनीति या पोर्न के माध्यम से किसी की ज़िन्दगी में भूचाल लाया जा सकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,426FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe