Thursday, May 26, 2022
Homeदेश-समाज'मानव भक्षक तेंदुए...': अहमदाबाद बम ब्लास्ट में कोर्ट की सख्त टिप्पणी - ये महिलाओं-बच्चों...

‘मानव भक्षक तेंदुए…’: अहमदाबाद बम ब्लास्ट में कोर्ट की सख्त टिप्पणी – ये महिलाओं-बच्चों सबको खाते हैं, ‘सज़ा-ए-मौत’ ज़रूरी

कोर्ट ने ये भी याद दिलाया कि कैसे इन आतंकियों ने ये योजना भी बना ली थी कि बम ब्लास्ट को अंजाम देने के बाद कैसे बच कर निकलना है।

गुजरात के अहमदाबाद में 2008 में हुए बम ब्लास्ट के मामले में स्पेशल कोर्ट ने 38 आतंकियों को मौत की सज़ा सुनाई है। अदालत ने स्पष्ट कहा कि इन आतंकियों को मौत की सज़ा ही मिलनी चाहिए, क्योंकि इन्हें खुला छोड़ने का अर्थ होगा ‘मनुष्य भक्षक तेंदुओं’ को लोगों के बीच छोड़ देना। अदालत ने शनिवार (19 फरवरी, 2022) को इस फैसले की प्रति मुहैया कराई। इस मामले में कोर्ट ने आतंकियों के खिलाफ सख्त टिप्पणियाँ भी की। अदालत ने इसे ‘दुर्लभतम में भी सबसे दुर्लभ’ मामला माना।

अदालत ने कहा कि ऐसे लोगों को समाज के बीच छोड़ देना वैसा ही होगा, जैसे किसी तेंदुए को सार्वजनिक रूप से खुला छोड़ देना। अदालत ने कहा कि ये मनुष्य भक्षक तेंदुए ही तो हैं, जो समाज के निर्दोष लोगों का भक्षण करते हैं – जिनमें बच्चे-बूढ़े, युवा और महिलाएँ और शिशु तक भी शामिल हैं। कोर्ट ने कहा कि ऐसे लोग विभिन्न जाति और समुदायों के लोगों का भक्षण करते हैं। कोर्ट ने कहा कि देश में शांति और राष्ट्र के नागरिकों की सुरक्षा के लिए इन आतंकियों को ‘सज़ा-ए-मौत’ मिलनी आवश्यक है।

स्पेशल कोर्ट ने कहा कि देश में ऐसा कोई जेल नहीं है, जो इन्हें हमेशा के लिए रख सकता है। अदालत ने कहा, “पिछले 5 वर्षों में सुनवाई के दौरान ये कोर्ट के संज्ञान में आया है कि ये सभी आरोपित हर मामले में उच्च-स्तर के दक्ष हैं, शिक्षित हैं, जिनमें से कुछ प्रोफेसर, कम्प्यूटर विशेषज्ञ और डॉक्टर भी हैं। अन्य राज्यों में भी इन्होंने अपराध किए हैं, ऐसे में वहाँ भी मामले दर्ज हैं। ये आतंकी ऐसे हैं कि इनके बारे में सूचनाएँ जुटाना और अपराध की जड़ तक पहुँचना बहुत ही कठिन है।”

कोर्ट ने ये भी याद दिलाया कि कैसे इन आतंकियों ने ये योजना भी बना ली थी कि बम ब्लास्ट को अंजाम देने के बाद कैसे बच कर निकलना है। पुलिस की जाँच के बाद उन्हें भटकाने के लिए कैसी सूचनाएँ देनी हैं और क्या-क्या छिपाना है, ये सब इन आतंकियों ने पहले से तय कर लिया था। अदालत में अपना बचाव कैसे करना है, ये भी उन्हें पता था। बता दें कि देश में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में अपराधियों को ‘सज़ा-ए-मौत’ मिली है। अहमदाबाद में बम ब्लास्ट करने वाले 2022 गुजरात दंगे का ‘बदला’ लेना चाहते थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री की गोली मार कर हत्या की, 10 साल का भतीजा भी घायल: यासीन मलिक को सज़ा मिलने के बाद वारदात

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री अमरीना भट्ट की गोली मार कर हत्या कर दी है। ये वारदात केंद्र शासित प्रदेश के चाडूरा इलाके में हुई, बडगाम जिले में स्थित है।

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई...

यासीन मलिक को सजा सुनाए जाने के बाद श्रीनगर स्थित उसके घर के बाहर उसके समर्थकों ने अल्लाहु अकबर की नारेबाजी की। पत्थर भी बरसाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,823FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe