Thursday, September 23, 2021
Homeदेश-समाजमंसूर ने चचेरे भाई अमिनूल की हत्या कर लाश को टंकी में डाला, 3...

मंसूर ने चचेरे भाई अमिनूल की हत्या कर लाश को टंकी में डाला, 3 साल बाद मिला कंकाल: हुआ गिरफ़्तार

दोनों भाई साथ में ही रहते थे, खाना-पीना भी साथ ही था। एक दिन अचानक किसी बात को लेकर उनके बीच आपसी झगड़ा हो गया। विवाद इस हद तक बढ़ गया कि मंसूर ने गुस्से में अपने ही भाई की हत्या कर दी।

महाराष्ट्र के पालघर ज़िले के वाडा थाना क्षेत्र में एक शख़्स ने अपने ही भाई की बेरहमी से हत्या कर दी और फिर उसकी लाश को शौचालय की टंकी में डाल दिया। तीन साल बाद उसी टंकी से उसका कंकाल मिलने से हत्या की गुत्थी सुलझ गई है। जानकारी के अनुसार, आरोपित को पुलिस ने केरल से गिरफ़्तार कर लिया है। पता चला है कि दोनों भाई नौकरी के सिलसिले में असम से महाराष्ट्र गए थे।

ख़बर के अनुसार, वाडा थाने के उसर इलाक़े में फकरुद्दीन ख़ान चितवाला का एक फॉर्म हाउस है, जहाँ अमिनूल हक मोहम्मद मुनताज अली वॉचमैन के तौर पर नौकरी करता था। उसी फॉर्म हाउस के बगल में एक और फॉर्म हाउस है जहाँ उसका चचेरा भाई सुई मंसूर मोहम्मद अकबर अली काम करता था। 

दोनों भाई साथ में ही रहते थे, खाना-पीना भी साथ ही था। एक दिन अचानक किसी बात को लेकर उनके बीच आपसी झगड़ा हो गया। विवाद इस हद तक बढ़ गया कि मंसूर ने गुस्से में अपने ही भाई की हत्या कर दी। हत्या की बात छिपाने और सज़ा के डर से उसने अमिनूल की लाश को ठिकाने लगाने के बारे में सोचा। 

ख़ुद को बचाने के लिए उसने भाई की लाश को शौचालय की टंकी में डाल दिया। अमिनूल के लापता होने पर उसके चाचा ने 28 दिसंबर 2016 को वाडा पुलिस स्टेशन में शिक़ायत दर्ज कराई। इस मामले की सूचना मिलने के बाद से ही पुलिस को मंसूर पर शक़ था। अपनी जाँच को उसने मंसूर पर ही केंद्रित कर रखा था। पुलिस को जाँच के दौरान यह भी पता चला कि मृतक की उम्र 17 साल थी। पुलिस ने 17 मार्च 2017 को अमिनूल के लापता होने के बजाए अपहरण का मामला दर्ज किया और केस पालघर के एटीएस को सौंप दिया।

ख़बर के अनुसार, पालघर के पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह ने आतंकवाद और नक्सली दस्ते के प्रभारी मानसिंह पाटिल को जाँच के लिए निर्देशित किया था। आख़िरकार, हत्या की इस गुत्थी को सुलझा लिया गया। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,821FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe