Tuesday, September 22, 2020
Home देश-समाज ग्राम विकास के लिए आवाज बनकर आगे आया एक किसान, RTI के जवाब में...

ग्राम विकास के लिए आवाज बनकर आगे आया एक किसान, RTI के जवाब में माँग रहा अधिकारियों से सारा हिसाब

इस पूरे मामले में सारा खेल ग्राम प्रधान और सचिव तरुण वर्मा खेल रहे हैं। बाकी अधिकारी केवल फाइल बढ़ा रहे हैं। अगर, इस मामले को ढंग से सुन लिया जाए तो ये एक दिन में परेशानी सुलझ जाएगी। वे कहते हैं कि उन्होंने ग्रामीणों को ये तक बोला है कि अगर बीडीओ तक पहुँचने के बाद सुनवाई नहीं हो रही तो सीधे डीएम के पास चलिए।

उत्तर प्रदेश के मथुरा नगरी से 5 किलोमीटर दूर कल्याणपुर गाँव है। इस गाँव का एक किसान पिछले 2 साल से अपने गाँव में हुए विकास कार्यों का लेखा-जोखा जानने के लिए अधिकारियों के दरवाजे खटखटा रहा है। किसान का नाम शिवशंकर शुक्ला है। जिनकी माँग बस ये है कि उन्हें उनकी आरटीआई का जवाब मिल जाए। उनके मुताबिक, उन्होंने 2 साल पहले गाँव की स्थिति को देखते हुए ये जानना चाहा था कि आखिर सरकार जो राशि ग्राम विकास के लिए लगातार भेज रही है उसका उपयोग कहाँ हो रहा है।

40 वर्षीय शिवशंकर ऑपइंडिया से  बातचीत के दौरान बताते हैं कि उन्होंने अपनी किसी व्यक्तिगत समस्या के लिए आवाज नहीं उठाई है। वे सम्पूर्ण ग्राम का विकास चाहते हैं और इसी की खातिर पिछले 2 साल से भटक रहे हैं। लेकिन दुख ये है कि उन्हें उनकी RTI का जवाब अब तक नहीं मिला। इसके बदले उन्हें और उनके परिवार को गाँव में आते-जाते केस को वापस लेने के लिए धमकियाँ जरूर दी जानें लगीं।

कल्याणपुर गाँव की स्थिति

उनका आरोप है कि उनका ग्राम प्रधान जगदीश प्रसाद और ग्राम विकास अधिकारी तरुण वर्मा सरकारी पैसों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं और विकास के लिए आई राशि काम में नहीं लगा रहे। शिवशंकर की मानें तो, उनका ग्राम प्रधान दूसरे गाँव मदिरा मावली का है जिन्होंने कल्याणपुर में विकास कराने के नाम पर एक भी रुपया नहीं लगाया। लेकिन अपने इलाके में काम करवा लिया। वहीं ग्राम विकास अधिकारी तरुण शर्मा हैं- जो ज्यादा पूछने पर कहते हैं कि उनका इन सबसे कुछ नहीं बिगड़ेगा ज्यादा से ज्यादा बस पैसा खर्च होगा।

आरटीआई में पूछे गए सवाल

शिवशंकर के अनुसार उन्होंने इस संबंध में पहले बीडीओ स्तर पर शिकायत की थी। यहाँ से उन्हें जवाब मिला कि वो सारा लेखा-जोखा आरटीआई के जरिए जान सकते हैं। इसके बाद उन्होंने आरटीआई लगाई। पर, फिर भी मामला वैसे ही अटका रहा। उन्होंने एसडीएम और राज्यपाल तक अपनी बात पहुँचाई पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

अधिकारियों के पास लगाई गई शिकायत
- विज्ञापन -

गाँव की स्थिति पर बात करते हुए कल्याणपुर निवासी धीरज शुक्ला, विपिन और दशरथ भी अपनी परेशानियाँ बताते हैं। वे कहते हैं कि गाँव में जगह-जगह गंदा पानी भरा हैं और निकास के लिए भी कोई नाला नहीं है। इसके अलावा गाँव में कहीं कोई खड़ंजा तक नहीं है। मामले में आरटीआई पर पूछे जाने पर सभी ग्रामीण भी उन सभी आरोपों पर सहमति भरते हैं। साथ ही ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी की करतूतों पर भी बात रखते हैं।

अधिकारियों के पास लगाई गई शिकायत

आरटीआई लगाकर ग्राम विकास की राशि का ब्यौरा माँगने वाले शिवशंकर का केस इस समय जाँच के लिए जिला परियोजना परिवेक्षक अधिकारी पीडी बलराम कुमार के पास है। शिवशंकर कहते हैं कि इस मामले को पीडी बलराम के पास तक पहुँचे 4-5 महीने हो चुके हैं। अभी भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है। बड़े दुखी मन से अपनी परेशानी को साझा करते हुए शिवशंकर ये तक कह देते हैं कि अब अगर कार्रवाई नहीं हुई तो शायद वो कोई गलत कदम भी उठा लेंगे। 

अपील

जाँच कर रहे अधिकारी का क्या कहना है?

वहीं इस मामले की जाँच कर रहे मथुरा के परियोजना निदेशक बलराम कुमार इस विषय पर ऑपइंडिया को जानकारी देते हैं कि उनके पास 4-5 महीने से इस मामले पर जाँच जरूर है। लेकिन लॉकडाउन के कारण इसपर एक्शन नहीं लिया गया था। अभी शिकायत के आधार पर ग्राम पंचायत को नोटिस भेजा गया है और उन पर लगे आरोपों पर 7 दिन में जवाब माँगा गया है। कुछ दिन में ये अवधि पूरी होगी। जवाब आते ही जल्द से जल्द मामले पर रिपोर्ट भेज दी जाएगी।

हिंदू रक्षा सेना ने भी उठाया मामला

यहाँ बता दें कि इस मामले पर अब हिंदू रक्षा सेना के जिला प्रमुख ऋषि शर्मा ने भी संज्ञान लिया है। उन्होंने बताया कि उन्हें इस बारे में एक कार्यकर्ता से मालूम चला। इसके बाद उन्होंने शिवशंकर से मिलकर पूरा मामला जाना और उन्हें आश्वासन दिया कि वे लोग अपने स्तर पर उन्हें न्याय दिलाने की कोशिश करेंगे। 

करीब एक महीने पहले हुई मुलाकात के बाद हिंदू रक्षा सेना जिला प्रमुख इस मामले पर लगातार अधिकारियों से बात करते रहे। उन्होंने पिछले दिनों परियोजना अधिकारी से भी बात की और उन्हें इस मामले में स्पष्ट व निष्पक्ष होकर कार्रवाई करने की अपील की।

ऋषि शर्मा कहते हैं कि इस मामले में केवल कागजों को इधर से उधर फॉरवर्ड किया गया। पर, कार्रवाई कुछ नहीं हुई और जानकारी भी किसी ने कहीं से भी नहीं दी। ऐसे में संदेह तो इसी तरफ जाता है कि गाँव वाले जो बातें बोल रहे हों, वो सब सही हो।

आखिर क्यों कोई कुछ बताने को तैयार नहीं है। ऋषि का कहना है कि अगर आगे भी मामले में यही सब हुआ तो वे पीड़ित ग्रामीणों को लेकर सीएम के जनता दरबार तक जाएँगे।

उनके मुताबिक, इस पूरे मामले में सारा खेल ग्राम प्रधान और सचिव तरुण वर्मा खेल रहे हैं। बाकी अधिकारी केवल फाइल बढ़ा रहे हैं। अगर, इस मामले को ढंग से सुन लिया जाए तो ये एक दिन में परेशानी सुलझ जाएगी। वे कहते हैं कि उन्होंने ग्रामीणों को ये तक बोला है कि अगर बीडीओ तक पहुँचने के बाद सुनवाई नहीं हो रही तो सीधे डीएम के पास चलिए।

शिवशंकर शुक्ला का मामला क्यों है विचारणीय?

उल्लेखनीय है कि मथुरा नगर से थोड़ी दूर पर ये स्थित गाँव की हालत आज केवल इसलिए विचारणीय नही कि यहाँ पर अन्य जगहों की तरह अधिकारियों पर सरकार द्वारा भेजी राशि इधर-उधर करने का आरोप लगा है। बल्कि इसलिए विचार योग्य है क्योंकि एक किसान अपने गाँव के विकास की खातिर बुलंद आवाज बनकर सामने आया है। 

जहाँ आम तौर पर ग्रामीणों को सुध ही नहीं होती कि सरकार उनके लिए क्या कर रही है, क्या नहीं? वहीं ये किसान समूचे गाँव की स्थिति पर अधिकारियों के आमने-सामने आ खड़े हुए हैं और एक जागरूक नागरिक की तरह अपने अधिकार की माँग कर रहे है। लेकिन शायद उनकी सुनवाई इसलिए नहीं है क्योंकि वे संवैधानिक रूप से हर चरणबद्ध प्रक्रिया के जरिए इंसाफ़ माँग रहे हैं।

अगर आज ऐसे में भी शिवशंकर शुक्ला जैसे लोगों की बात अधिकारियों के दफ्तर से आई-गई कर दी गई या उसे अनसुना कर दिया गया। तो क्या कोई भी पिछड़े गाँव या तबके का व्यक्ति अपनी आवाज बुलंद कर पाएगा या अपने अधिकारों के मूल्य को समझ पाएगा। शायद नहीं…इसलिए जरूरत है कि इस केस में एक्शन लेकर ग्रामीणों को संतुष्ट किया जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

अगले जनम मोहे विपक्ष ही कीजो : किसान विरोधी इस फासिस्ट सत्ता की इमेज क्यों नहीं बिगड़ने देता विपक्ष

अगर सरकार कोई किसान विरोधी कदम उठाती है तो इसका फायदा तो विपक्ष को ही होना चाहिए. लेकिन विपक्ष है कि सरकार की इमेज ख़राब होने ही नहीं देता।

‘…तुम्हारा हश्र भी कमलेश तिवारी जैसा होगा’ – UP में अपने ही विभाग के मंत्री को शकील अहमद ने दी धमकी

आरोप है कि अधिकारी शकील अहमद ने यूपी में मंत्री राजेश्वर सिंह को धमकाया कि उनका भी हश्र हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी जैसा ही होगा।

तुम मुस्लिम नहीं हो… तुम तो मोदी का जन्मदिन और राम मंदिर पर खुश होते हो: AltNews का ‘कूड़ा फैक्ट चेक’

पीएम मोदी का जन्मदिन मनाने वाले और राम मंदिर का समर्थन करने वाले मुस्लिम प्रोपेगेंडा पोर्टल AltNews के हिसाब से मुस्लिम नहीं हैं।

‘कृष्ण जन्मभूमि के पास से हटे इस्लामी ढाँचा’ – मथुरा में 22 गिरफ्तार, कृष्ण जन्मभूमि आंदोलन के लिए उठ रही आवाज

हिंदू आर्मी ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर आंदोलन की शुरुआत करने का आह्वान किया था। सभी को श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर बुलाया गया था लेकिन...

जेल में मुझे ‘शिक्षित आतंकी’ कहते हैं, पुलिस देती है मानसिक प्रताड़ना: दिल्ली दंगा आरोपित MBA वाली गुलफिशा फातिमा

दिल्ली दंगे की आरोपित गुलफिशा फातिमा ने दावा किया कि उसे जब से जेल में लाया गया है, तभी से वो वहाँ भेदभाव का सामना कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

संघी पायल घोष ने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया – जया बच्चन

जया बच्चन का कहना है कि अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर पायल घोष ने जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया है।

प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह कोरोना जाँच: भारत का ₹500 वाला ‘फेलूदा’ 30 मिनट में बताएगा संक्रमण है या नहीं

दिल्ली की टाटा CSIR लैब ने भारत की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट विकसित की है। इसका नाम 'फेलूदा' रखा गया है। इससे मात्र 30 मिनट के भीतर संक्रमण का पता चल सकेगा।

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

माही, ऋचा, हुमा… 200 से भी ज्यादा लड़कियों से मेरे संबंध रहे हैं: पायल घोष का दावा- अनुराग कश्यप ने खुद बताया था

पायल घोष ने एक इंटरव्यू में दावा किया है कि अनुराग कश्यप के 200 लड़कियों से संबंध थे और अब यह संख्या 500 से ज्यादा हो सकती है।

दिल्ली दंगों और CAA विरोधी उपद्रव के लिए ₹1.61 करोड़ की फंडिंग: ताहिर और इशरत सहित 5 के खाते में आए थे रुपए

AAJMI को दंगे भड़काने के लिए कुल 7.6 लाख रुपए मिले थे। इनमें से 5.55 लाख रुपए विदेश में कार्यरत जामिया के पूर्व छात्रों ने भेजे।

सुशांत सिंह केस: अभी जेल में ही कटेंगे रिया और शौविक के दिन-रात, कोर्ट ने 6 अक्टूबर तक बढ़ाई न्यायिक हिरासत

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती को अभी जेल में ही रहना होगा। स्पेशल एनडीपीएस कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत की अवधि 6 अक्टूबर तक बढ़ा दी है।

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

सऊदी में गिरफ्तार आतंकी शोएब और गुल नवाज को NIA की टीम भारत लाई: दिल्ली और बेंगलुरु धमाकों के बाद से थी तलाश

इस कार्रवाई से पहले इन दोनों आतंकियों के ख़िलाफ़ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो चुका था। रियाद में इनके ख़िलाफ़ लुक आउट नोटिस जारी होने के बाद इन्हें भारत लाया गया।

अगले जनम मोहे विपक्ष ही कीजो : किसान विरोधी इस फासिस्ट सत्ता की इमेज क्यों नहीं बिगड़ने देता विपक्ष

अगर सरकार कोई किसान विरोधी कदम उठाती है तो इसका फायदा तो विपक्ष को ही होना चाहिए. लेकिन विपक्ष है कि सरकार की इमेज ख़राब होने ही नहीं देता।

बुलडोजर नहीं, अब डाइनामाइट से उड़ा दिया जाएगा अतीक अहमद का कोल्ड स्टोरेज, अब तक 11 सम्पत्तियाँ जमींदोज

अब तक अतीक अहमद की अवैध सम्पत्तियों को बुलडोजर से ध्वस्त किया जा रहा था लेकिन अब इसके लिए डायनामाइट से विस्फोट का सहारा लिया जाएगा।

‘…तुम्हारा हश्र भी कमलेश तिवारी जैसा होगा’ – UP में अपने ही विभाग के मंत्री को शकील अहमद ने दी धमकी

आरोप है कि अधिकारी शकील अहमद ने यूपी में मंत्री राजेश्वर सिंह को धमकाया कि उनका भी हश्र हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी जैसा ही होगा।

तुम मुस्लिम नहीं हो… तुम तो मोदी का जन्मदिन और राम मंदिर पर खुश होते हो: AltNews का ‘कूड़ा फैक्ट चेक’

पीएम मोदी का जन्मदिन मनाने वाले और राम मंदिर का समर्थन करने वाले मुस्लिम प्रोपेगेंडा पोर्टल AltNews के हिसाब से मुस्लिम नहीं हैं।

‘कृष्ण जन्मभूमि के पास से हटे इस्लामी ढाँचा’ – मथुरा में 22 गिरफ्तार, कृष्ण जन्मभूमि आंदोलन के लिए उठ रही आवाज

हिंदू आर्मी ने श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर आंदोलन की शुरुआत करने का आह्वान किया था। सभी को श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर बुलाया गया था लेकिन...

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,962FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements