Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजमेरठ में हलाला के नाम पर मौलाना ने तीन तलाक पीड़िता का कराया गैंगरेप:...

मेरठ में हलाला के नाम पर मौलाना ने तीन तलाक पीड़िता का कराया गैंगरेप: उम्मेद और रिसायत गिरफ्तार, सरफराज फरार

मौलाना मूल रूप से मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना का रहने वाला है। लिसाड़ी गेट में वह काफी समय से रह रहा है और टोने-टोटके समेत झाड़-फूँक करता है।

उत्तर प्रदेश के मेरठ से हलाला के नाम पर तीन तलाक पीड़िता के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। पीड़िता के मुताबिक, टीपीनगर स्थित एक होटल में हलाला के नाम पर एक मौलाना ने उसका गैंगरेप कराया। महिला ने बताया, “वह अपने शौहर से दोबारा निकाह करना चाहती थी। इसके लिए मौलाना ने उसे हलाला करने के लिए कहा। इसके बाद उसने दो लोगों को बागपत से बुलाकर हलाला के नाम पर उसका गैंगरेप कराया।”

मेरठ के एसपी सिटी विनीत भटनागर के अनुसार, महिला की शिकायत पर पुलिस ने तीनों आरोपितों उम्मेद, रियासत और मौलाना सरफराज के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल मौलाना सरफराज फरार है। पुलिस ने उम्मेद व रियासत को जेल भेज दिया है और मौलाना की तलाश में जुट गई है।

बताया जा रहा है कि लिसाड़ी गेट निवासी महिला का 6 महीने पहले तलाक हो गया था। अब शौहर और बीवी में फिर से एक साथ रहने की सहमति बनी है। लिसाड़ी गेट की शाहजहाँ कॉलोनी में रहने वाले मौलाना सरफराज से जब उन्होंने इसके लिए पूछा तो उसने बताया कि महिला को पहले हलाला कराना होगा। इसके बाद ही वह अपने पहले शौहर से दोबारा निकाह कर सकती है।

इसके लिए मौलाना सरफराज ने बागपत के दोघट के गाँव मिलाना में रहने वाले अपने परिचित हाफिज उम्मेद और रियासत को 24 अक्टूबर को मेरठ बुलाया। रात करीब नौ बजे नूरनगर पुलिया के पास महिला को दोनों आरोपितों के साथ भेज दिया। महिला को बताया गया कि हाफिज निकाह करा देंगे और हलाला होने के बाद सुबह घर वापस आ जाना होगा। इसके बाद आरोपित उसे लेकर NH-58 पर स्थित एक होटल में लेकर पहुँच गए। यहाँ उन्होंने महिला के साथ गैंगरेप किया। पीड़िता ने होटल से ही अपने मौसेरे भाई को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद उसके भाई ने पुलिस को रात में ही गैंगरेप की सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुँचकर दोनों आरोपितों को धर दबोचा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मौलाना इससे पहले भी हलाला के नाम पर कई महिलाओं का गैंगरेप करा चुका है। मौलाना मूल रूप से मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना का रहने वाला है। लिसाड़ी गेट में वह काफी समय से रह रहा है और टोने-टोटके समेत झाड़-फूँक करता है। प्रारंभिक जाँच में पुलिस को कुछ साक्ष्य मिले हैं।

बता दें कि मौलाना सरफराज और हाफिज उम्मैद एक-दूसरे को काफी समय से जानते हैं। दोनों पहले एक साथ दोघट के मिलाना गाँव में इस्लामिया मदरसे में पढ़ाया करते थे। बाद में सरफराज मेरठ आ गया। पुलिस आसपास के क्षेत्र में दोनों की जानकारी जुटा रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe