Saturday, February 24, 2024
Homeदेश-समाजजाँच करने पहुँची मेडिकल टीम को मस्जिद के पास घेरा, पत्थरबाजी से डॉक्टर लहूलुहान

जाँच करने पहुँची मेडिकल टीम को मस्जिद के पास घेरा, पत्थरबाजी से डॉक्टर लहूलुहान

"हमला अचानक हुआ। ऐसा लग रहा था कि इसकी तैयारी पहले से की गई थी। जैसे ही हमने मरीज से बाहर निकलने को कहा पत्थरबाजी शुरू हो गई। हम वहाँ से भाग निकले, मगर कुछ डॉक्टर को उन्होंने पकड़ लिया है। हमारी गाड़ी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई।"

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में कोरोना संक्रमण की जॉंच करने पहुॅंची मेडिकल टीम पर हमला किया गया। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार भीड़ ने जमकर पत्थरबाजी की। डॉक्टर एससी अग्रवाल को गंभीर चोटें आई है। एंबुलेंस भी क्षतिग्रस्त हो गया।

घटना बुधवार दोपहर की है। मेडिकल टीम मुरादाबाद के नवाबपुरा इलाके में पहुॅंची थी। यहॉं कोरोना संक्रमण से दो युवक की मौत हो चुकी है। टीम इनके घर के आसपास रहने वाले लोगों की जॉंच करने के लिए पहुॅंची थी। इसी दौरान मस्जिद हाजी नेब के पास स्थानीय लोगों ने एंबुलेंस को घेर कर अचानक हमला कर दिया। ईंट, पत्थर के साथ लाठी-डंडों का भी इस्तेमाल किया गया।

इस दौरान कुछ पुलिसकर्मी भी टीम के साथ थे। लेकिन हमला इतना जबर्दस्त था कि उन्हें भी जान बचाकर भागना पड़ा। बाद में पुलिस की टीम दल-बल के साथ मौके पर पहुॅंची और हालात पर काबू पाया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दोषियों पर एनएसए के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के मुताबिक सोमवार को यहाँ एक व्यक्ति की मौत हुई थी। इससे दो दिन पहले उसके भाई की संक्रमण से मौत हो गई थी।

एंबुलेंस के ड्राइवर ने बताया, “हमें 108 नंबर से कॉल आई थी। हम कोरोना मरीज लेने गए थे। जब हम वहाँ गए तो कुछ डॉक्टर खड़े थे। उनकी सुरक्षा में 4 सिपाही थे। हमला अचानक हुआ। ऐसा लग रहा था कि इसकी तैयारी पहले से की गई थी। जैसे ही हमने मरीज से बाहर निकलने को कहा पत्थरबाजी शुरू हो गई। हम वहाँ से भाग निकले, मगर कुछ डॉक्टर को उन्होंने पकड़ लिया है। हमारी गाड़ी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई।”

दैनिक जागरण को एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पीवी रामाशास्त्री ने बताया कि मौके पर डीएम और एसएसपी पहुँच गए हैं। उन्होंने कहा कि यह जघन्य अपराध है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि समाज पूरी तरह से सहयोग कर रहा है, लेकिन कुछ लोग अफवाह के चक्कर में ऐसी हरकतें कर रहे हैं। आरोपितों की शिनाख्त कर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी।

बताया जा रहा है कि हमलावरों ने एंबुलेंस में मौजूद डॉ. एससी अग्रवाल को खींचकर बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया और चारों तरफ से पथराव भी शुरू हो गया। ऐसे में वहाँ मौजूद पुलिस के सिपाही किसी तरह अपनी जान बचाकर भाग निकले। साथ ही मौका देखकर मेडिकल स्टाफ भी जान बचाकर भागे। लेकिन भीड़ में फँसे डॉक्टर की लोगों ने जमकर पिटाई की।

बता दें, इस घटना की सूचना बाद में स्थानीय पुलिस और जिला प्रशासन को दी गई। मौके पर पुलिस अधिकारी और अन्य अधिकारी पहुँचे। अब मामले की जाँच जारी है। वहीं घायल डॉक्टर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर घटना के बाद एंबुलेंस स्टाफ ने काम करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा है कि अपनी जान इस तरह से जोखिम में डालकर वे काम नहीं करेंगे।

जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले पर खुद संज्ञान लिया है। दोषी व्यक्तियों के खिलाफ आपदा नियंत्रण अधिनियम और राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA) के तहत कार्रवाई की बात कही है। सीएम ने कहा कि जिला पुलिस प्रशासन ऐसे उपद्रवी तत्वों की तत्काल पहचान करें और हर नागरिक की सुरक्षा के साथ ही उपद्रवी तत्वों पर पूरी सख्ती करे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

UCC की दिशा में बढ़ा असम: मुस्लिम निकाह- तलाक वाला कानून निरस्त, बोले CM सरमा- बाल विवाह पर लगेगी रोक

असम मुस्लिम विवाह अधिनियम को राज्य की हिमंता बिस्वा सरकार ने रद्द कर दिया है। उन्होंने कहा है इससे बाल विवाह पर रोक लगेगी।

वायनाड में चर्च ने जमीन कब्जाया, सरकार ने ₹100 प्रति एकड़ पर दे दिया पट्टा: केरल HC ने रद्द किया आवंटन, कहा- यह जनजाति...

केरल हाई कोर्ट ने चर्च द्वारा अतिक्रमण की गई भूमि को उसे सिर्फ 100 रुपए के पट्टे पर किए गए आवंटन को रद्द कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe