Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजपाकिस्तानी जेल में बंद है नोएडा से लापता हुआ कश्मीरी छात्र, पिता को आया...

पाकिस्तानी जेल में बंद है नोएडा से लापता हुआ कश्मीरी छात्र, पिता को आया कॉल

सैयद का परिवार कश्मीर के बांदीपोरा इलाके में रहता है। उसकी गुमशुदगी एक्सप्रेसवे पुलिस और बांदीपोरा थाने में दर्ज है। इसलिए छात्र के पिता ने कॉल की जानकारी एक्सप्रेसवे पुलिस को दी है।

उत्तर प्रदेश के नोएडा से कुछ समय पहले गायब हुए एक कश्मीरी छात्र के पाकिस्तान में बंद होने की ख़बर आई है। छात्र के परिवार ने बताया कि उन्हें पाकिस्तान से कॉल आई थी। कॉल करने वाले ने जानकारी दी कि उनका बेटा पाकिस्तान की जेल में बंद है।

गौरतलब है नोएडा के सेक्टर 125 स्थित एशियन बिजनेस स्कूल में पढ़ने वाला सैयद वाहिद नाम का छात्र 12 दिसंबर को गायब हो गया था।

पुलिस से बातचीच में सैयद के पिता ने बताया कि उन्हें पाकिस्तान से फोन आया था। ये कॉल उन्हें वहाँ की जेल से हाल ही में रिहा हुए एक कैदी ने किया था। उसने ही सैयद के वहाँ जेल में बंद होने की जानकारी दी। खबरों के मुताबिक रिहा हुए कैदी को सैयद ने अपने परिवार के नाम एक पत्र लिखकर दिया है। इसपर सैयद ने परिजनों का नाम और परिवार का पता भी लिखा है। फिलहाल, पुलिस मामले की सत्यता की जाँच कर रही है। उसके बाद ही विधिवत तरीके से आगे एक्शन लिया जाएगा।

सैयद का परिवार कश्मीर के बांदीपोरा इलाके में रहता है। उसकी गुमशुदगी एक्सप्रेसवे पुलिस और बांदीपोरा थाने में दर्ज है। इसलिए छात्र के पिता ने कॉल की जानकारी एक्सप्रेसवे पुलिस को दी है। सैयद के पिता नसीरुल हसन खुद भी कश्मीर पुलिस में दरोगा है। खबरों के मुताबिक सैयद को पाकिस्तान से वापस लाने के लिए परिजनों ने वहाँ जाने के लिए कागज़ी कार्रवाई शुरू कर दी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe