बरेली धर्म परिवर्तन मामला: अजहर बना रहा है पीड़िता पर समझौता करने का दबाव, वरना फेंक देगा तेजाब

अजहर के ख़िलाफ़ शनिवार को मामला दर्ज होने के बाद से ही वो पीड़िता को धमका रहा हैं। उसे मुँह खोलने पर तेजाब डालने की धमकी दे रहा हैं। जिससे महिला काफ़ी परेशान हो गई है और सुरक्षा के लिए पुलिस के पास पहुँची है।

उत्तर प्रदेश के बरेली से कुछ दिन पहले इंसानियत को शर्मसार करने वाला धर्म परिवर्तन का एक मामला सामने आया था। जहाँ एक हिंदू महिला ने थाने पहुँचकर मोहम्मद अजहर नाम के शख्स पर आरोप लगाया था कि उसने पहले खुद को हिंदू बताकर महिला को प्रेम जाल में फँसाया, उससे शारीरिक संबंध बनाया, अपने दोस्त जीशान की मदद से उसका अश्लील mms बनवाया, फिर उसका धर्मपरिवर्तन करवाके उससे निकाह किया और बाद में उसे अपने दोस्तों के साथ सोने पर मजबूर करने लगा।

हालाँकि, पुलिस ने उस समय (शनिवार को) महिला की इस शिकायत पर मामले को दर्ज कर लिया था और अजहर समेत 4 लोगों के ख़िलाफ़ जाँच शुरू कर दी थी। लेकिन अब इस मामले में नया मोड़ आया है। बताया जा रहा है कि आरोपित अब महिला पर समझौता करने का न केवल दबाव बना रहा है बल्कि ऐसा न करने पर उस पर तेजाब डालने की भी धमकी दे रहा है। जिसके चलते महिला ने परेशान होकर फिर से पुलिस में शिकायत की हैं और डीआईजी ने बारादरी पुलिस को जाँच के आदेश दिए हैं।

खबरों की मानें तो अजहर के ख़िलाफ़ शनिवार को मामला दर्ज होने के बाद से ही वो पीड़िता को धमका रहा हैं। उसे मुँह खोलने पर तेजाब डालने की धमकी दे रहा हैं। जिससे महिला काफ़ी परेशान हो गई है और सुरक्षा के लिए पुलिस के पास पहुँची है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस मामले के संबंध में बता दें कि सोशल मीडिया पर लोग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी गुहार लगा रहे हैं कि वो खुद इस मामले का संज्ञान लें और पीड़िता को न्याय दिलवाएँ। ताकि ऐसे कुकर्म को अंजाम देने वालों के लिए एक उदहारण स्थापित हो सके।

जानकारी के लिए बता दें कि शनिवार को महिला की शिकायत के बाद पुलिस ने ये मामला धारा 323, 506 और 376 डी के तहत दर्ज कर लिया था। साथ ही कहा था कि इस मामले की विभिन्न एंगल से जाँच की जा रही हैं। जाँच पूरी होने पर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राम मंदिर
"साल 1855 के दंगों में 75 मुस्लिम मारे गए थे और सभी को यहीं दफन किया गया था। ऐसे में क्या राम मंदिर की नींव मुस्लिमों की कब्र पर रखी जा सकती है? इसका फैसला ट्रस्ट के मैनेजमेंट को करना होगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: