Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजरहीसु के ‘अवैध निर्माण’ को अधिकारियों ने गिराया, 100 से ज़्यादा झुग्गियाँ के साथ...

रहीसु के ‘अवैध निर्माण’ को अधिकारियों ने गिराया, 100 से ज़्यादा झुग्गियाँ के साथ धार्मिक स्थल को लगा दी आग

बताया जा रहा है कि गुस्साई भीड़ ने कैंट बोर्ड के एक कर्मचारी को पीट दिया। बवाल बढ़ने की सूचना मिलने पर पहुँची सदर थाने की पुलिस से भी हाथापाई हुई। इसके बाद बवाल बढ़ता ही चला गया।

उत्तर प्रदेश के मेरठ के सदर थाना क्षेत्र की भूसा मंडी में अवैध निर्माण तोड़ने पर बवाल और आगजनी की घटना सामने आई है। भूसा मंडी में अतिक्रमण हटाने के लिए गई कैंटोमेंट बोर्ड और पुलिस की टीम से स्थानीय लोगों ने बदतमीजी करते हुए हाथापाई शुरू कर दी। यहाँ तक कि पुलिसकर्मियों का वायरलेस भी छीन लिया।

इतना ही नहीं, इसके बाद वहाँ उपद्रवियों ने करीब 100 से ज्यादा झुग्गी झोपड़ी में आग लगा दी। बताया जा रहा है कि एक धार्मिक स्थल भी आग की चपेट में आ गया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मकानों में बड़ी संख्या में रखे सिलेंडर विस्फोट में विस्फोट से आग और भी ज़्यादा आक्रामक हो गई। यहाँ तक कि उपद्रवियों ने कई दुकानों में लूटपाट भी शुरू कर दी। जिससे अफरा-तफरी मच गई और पूरे शहर में दंगे की अफवाह फैल गई। कई बसों और वाहनो में तोड़फोड़ करने के साथ उन्हें आग के हवाले कर दिया गया।

मीडिया के अनुसार पूरा मामला कुछ यूँ है कि, भूसा मंडी में बड़ी संख्या में झुग्गी-झोंपडी सहित पक्के मकान बने हुए हैं। बताया जा रहा है कि रहीसु नाम का व्यक्ति अपने मकान का निर्माण कर रहा था। बुधवार (मार्च 6,2019) दोपहर कैंटोमेंट बोर्ड के सीईई और सदर थाने की पुलिस ने निर्माण को अवैध बताकर ध्वस्त कर दिया। इसे लेकर वहाँ रहने वाले लोगों और टीम के अधिकारियों में झड़प शुरू हो गई।

बताया जा रहा है कि गुस्साई भीड़ ने कैंट बोर्ड के एक कर्मचारी को पीट दिया। बवाल बढ़ने की सूचना मिलने पर पहुँची सदर थाने की पुलिस से भी हाथापाई हुई। इसके बाद बवाल बढ़ता ही चला गया। आग से घरों में बड़ी संख्या में बकरियों और अन्य पशु जो बँधे रह गए आग में जलकर मर गए।

बताया जा रहा है कि डीएम-एसएसपी सहित पूरे जिले का पुलिस-प्रशासनिक अमले ने मौके पर पहुँचकर भीड़ को शांत कराया। अभी तक कि सूचना के आधार पर फिलहाल आग लगी हुई है और उसे बुझाने के प्रयास जारी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe