Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजमारा गया शार्प शूटर अमजद, साथी भी ढेर: मुख्तार अंसारी के लिए किया था...

मारा गया शार्प शूटर अमजद, साथी भी ढेर: मुख्तार अंसारी के लिए किया था काम, UP पुलिस से एनकाउटंर में काम तमाम

दोनों बदमाशों ने अपने साथियों के साथ बनारस के तत्कालीन डिप्टी जेलर अनिल कुमार त्यागी की हत्या की थी। दोनों पर ₹50000 का इनाम था।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में बुधवार (मार्च 3, 2021) को यूपी पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने दो शार्प शूटरों को मुठभेड़ में ढेर कर दिया। पड़ताल में पता चला कि इनका संबंध बाहुबली माफिया मुख्तार अंसारी से था। इन्होंने 8 साल पहले उसके साथ काम किया था। हाल में ये माफिया मुन्ना बजरंगी से भी जुड़े थे।

दोनों बदमाशों ने साल 2013 में अपने साथियों के साथ बनारस के तत्कालीन डिप्टी जेलर अनिल कुमार त्यागी की हत्या की थी। दोनों पर ₹50000 का इनाम था। ये प्रयागराज में किसी राजनीतिक व्यक्ति की हत्या करने के इरादे से आए थे।

यूपी पुलिस के साथ इन बदमाशों की मुठभेड़ नैनी थाना क्षेत्र के अरैल इलाके में उस समय हुई, जब एसटीएफ सोमेश्वर नाथ मंदिर तिराहा के पास चेकिंग कर रही थी।

सीओ एसटीएफ नवेन्दु सिंह ने बताया कि मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी गैंग के लिए काम करने वाले दो सुपारी किलर के बारे में उन्हें सूचना मिली थी। इसके बाद दोनों को पकड़ने के लिए नाकेबंदी की गई। जब उन्होंने पुलिस के चंगुल में खुद को फँसा पाया तो दोनों ने भागने की कोशिश की और पुलिस ने इन्हें पकड़ने के लिए पीछा किया

इसी बीच दोनों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी गोली चलाई, जिसमें दोनों घायल हो गए। पुलिस फौरन उन्हें अस्पताल लेकर पहुँची, पर डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस को इनके पास से 30 और 9MM की पिस्टल, जिंदा कारतूस और एक मोटरसाइकल मिली है।

घटना के बाद एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि एनकाउंटर में मारे गए दोनों बदमाशों के नाम राजीव पांडे उर्फ वकील पांडे और एसएच अमजद उर्फ अंगद हैं। ये दोनों आजकल मुन्ना बजरंगी और दिलीप मिश्रा गैंग के लिए काम कर रहे थे।

एसटीएफ के एडीजी ने यह भी जानकारी दी कि पिछले 28 मई को 1 लाख रुपए का इनामी नीरज सिंह गिरफ्तार हुआ था। उसने, मुठभेड़ में मारे गए वकील पांडे के साथ मिल कर आरएसएस के सुजीत सिंह और प्रयागराज के सपा नेता नन्हें खान के दामाद समील अहमद को मारने के लिए रेकी की थी। हालाँकि, नीरज को वारदात अंजाम देने से पहले पकड़ लिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के एक्शन के डर से 3 कुख्यात गैंगस्टर मोमीन, इन्तजार और मंगता हाथ उठाकर पहुँचे थाने, किया आत्मसमर्पण

मामला यूपी के शामली जिले का है। सभी गैंगस्टर्स ने कहा कि वो अपराध से तौबा कर भविष्य में अपराध न करने की कसम खाते हैं।

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe