Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजमुख्तार अंसारी की जज से जेल में मनोरंजन के लिए टीवी और फिजियोथेरेपी के...

मुख्तार अंसारी की जज से जेल में मनोरंजन के लिए टीवी और फिजियोथेरेपी के लिए डॉ की डिमांड, लगाया सौतेले व्यवहार का आरोप

''पूरे उत्तर प्रदेश में बंद कैदियों के मनोरंजन के लिए बैरकों में टेलीविजन की सुविधाएँ दी गई हैं। मेरे बैरक में भी टेलीविजन लगवा दें। मुझे बाँदा जेल प्रशासन तन्हाई में रख रहा है। अगर आप आदेश करेंगे तो मुझे टीवी की सुविधा मिल जाएगी।''

उत्तर प्रदेश की बाँदा जेल में बंद बसपा के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी की सोमवार (28 जून 2021) को एंबुलेंस मामले में बाराबंकी की सीजेएम (CJM) कोर्ट में दूसरी वर्चुअल पेशी हुई। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई सुनवाई के दौरान अंसारी ने नियमों का हवाला देते हुए अदालत से दो माँग की। पहली उसे डॉक्टरों की सलाह पर फिजियोथेरेपी कराने और दूसरी बैरक में मनोरंजन के लिए टेलीविजन लगाने की सुविधा दी जाए।

कोर्ट में मुख्तार अंसारी ने कहा, ”पूरे उत्तर प्रदेश में बंद कैदियों के मनोरंजन के लिए बैरकों में टेलीविजन की सुविधाएँ दी गई हैं। मेरे बैरक में भी टेलीविजन लगवा दें। मुझे बाँदा जेल प्रशासन तन्हाई में रख रहा है। अगर आप आदेश करेंगे तो मुझे टीवी की सुविधा मिल जाएगी।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मऊ से बसपा के पूर्व विधायक ने राज्य सरकार पर उसके साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया है। उसने सीजेएम कोर्ट से आगे कहा कि मेडिकल बोर्ड ने फिजियोथेरेपी की सलाह दी है। मुझे यह सुविधा भी यहाँ नहीं मिल रही है। डॉक्टरों की सलाह को भी बाँदा जेल प्रशासन मानने को तैयार नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राकेश कुमार ने सोमवार को मुकदमे के विवेचना अधिकारी के नहीं आने पर अगली सुनवाई 5 जुलाई को रखी है।

गौरतलब है कि अप्रैल 2021 में भी यूपी की बाँदा जेल में बंद अंसारी ने डॉक्टरों को अपनी कई नई बीमारियों के बारे में बताया था। उसने कहा था कि उसे आँखों से धुँधला दिख रहा है। इस पर डॉक्टरों ने कहा था कि उन्हें कोई दिक्कत नहीं है, सिर्फ चश्मा बदला जाना है। इससे दो दिन पहले उसने गले में दर्द की शिकायत की थी। इसके बाद डॉक्टरों की एक टीम ने उनकी मेडिकल जाँच की थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या नहीं है।

बता दें कि फर्जी एंबुलेंस मामले के अभियुक्त मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल में पेशी के दौरान फर्जी पते और दस्तावेजों के आधार पर एंबुलेंस UP-41 AT-7171 प्राप्त की थी। इसको लेकर मुख्तार अंसारी समेत 10 लोगों पर धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज बनाकर एंबुलेंस रजिस्टर्ड कराए जाने समेत एंबुलेंस से अवैध हथियारों की सप्लाई किए जाने के मामले में कई धाराओं में बाराबंकी नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe