Thursday, May 30, 2024
Homeदेश-समाजअजमल ने आशीष बन कर 23 साल की चाची का किया रेप, 17 वर्षीय...

अजमल ने आशीष बन कर 23 साल की चाची का किया रेप, 17 वर्षीय भतीजी को बनाया गर्भवती, गिरफ़्तार

अजमल ने नाबालिग की 23 वर्षीय चाची के साथ भी बलात्कार किया था। उसने धोखे से एक सेक्स टेप रिकॉर्ड कर लिया था और उसे वायरल करने की धमकी दे रहा था। इसके बाद उसने 17 साल की किशोरी का भी बलात्कार किया, जिसके बाद वो गर्भवती हो गई।

मुंबई में 26 वर्षीय व्यक्ति को एक नाबालिग के साथ बलात्कार के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है। आरोप है कि अजमल लश्कर ने 17 साल की किशोरी का बलात्कार किया, जिसके बाद वो गर्भवती हो गई। वह मूल रूप से असम का है लेकिन फिलहाल मुंबई में रह रहा था। अजमल को रविवार (जनवरी 12, 2020) को मुंबई पुलिस ने गिरफ़्तार किया। अजमल ने नाबालिग की 23 वर्षीय चाची के साथ भी बलात्कार किया था। उसने धोखे से एक सेक्स टेप रिकॉर्ड कर लिया था और उसे वायरल करने की धमकी दे रहा था।

आरोपित अजमल ने चाची-भतीजी से जान-पहचान करने के लिए छद्म हिन्दू नाम का सहारा लिया। उसने उन दोनों को अपना नाम आशीष दुबे बताया। आरोपित से दोनों की मुलाक़ात एक पार्टी के दौरान हुई थी। उसने शादी का झाँसा देकर महिला के साथ बलात्कार किया और उसे फ़िल्मा लिया। बांगुर पुलिस स्टेशन में आरोपित से पूछताछ की गई।

अजमल को पश्चिमी मुंबई स्थित खार से गिरफ़्तार किया गया। उसके ऊपर बलात्कार और पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। अजमल नाबालिग को धमकी दे रहा था कि वो उसकी चाची के साथ शूट किए गए अंतरंग वीडियो को वायरल कर देगा।

नाबालिग के माता-पिता की शिकायत के आधार पर पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है। पॉस्को एक्ट के तहत आरोपित को 10 साल से लेकर आजीवन कारावास तक की सज़ा सुनाई जा सकती है।

13 साल की बच्ची से बार-बार संभोग की इच्छा, मना करने पर हुसैन ने किया रेप और एनल सेक्स

बंगाल में 17 साल की लड़की को गैंगरेप के बाद जलाया, मास्टरमाइंड महबूर मियाँ समेत 3 गिरफ्तार

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -