Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजअपहरण, यौन उत्पीड़न कर मुंबई से बंगाल भागा मोहम्मद शेख, भेष बदल-बदल कर कुछ...

अपहरण, यौन उत्पीड़न कर मुंबई से बंगाल भागा मोहम्मद शेख, भेष बदल-बदल कर कुछ इस तरह दबोचा गया

तीन पुलिसकर्मी, जो शेख को गिरफ्तार करने गए थे, ने पुलिस की वर्दी के बजाय लुंगी, मफलर, टोपी और चेक वाली कमीजें पहनी। एक पुलिसकर्मी स्थानीय निवासी के रिश्तेदार के रूप में उसके पड़ोस में रहने लगा और..

मुंबई पुलिस अधिकारियों ने पिछले शुक्रवार को एक 24 वर्षीय सीरियल मॉलेस्टर को पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में दबोचा, जो पिछले फरवरी से ही फरार था। अभियुक्त मोहम्मद बादशाह मोहम्मद सलीम शेख को 2018 में एंटॉप हिल और डीएन नगर पुलिस स्टेशनों में दो नाबालिग लड़कियों के अपहरण और यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। हालाँकि, वह सत्र अदालत परिसर से भाग निकला, जब उसे फरवरी 02, 2019 को पेश किया जा रहा था।

समाचार पत्र ‘इन्डियन एक्सप्रेस’ की एक खबर के अनुसार, कोलाबा पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कहा, “हम तभी से उनकी तलाश में थे। हम जानते थे कि वह हुगली के बोन्ची क्षेत्र में अपने इलाके भाग गया होगा। लेकिन जब भी हम उसे गिरफ्तार करने के लिए वहाँ जाते, ग्रामीण उसे बता देते और वह बच जाता और हमारे जाते ही वापस लौट आता।”

दिसंबर के पहले सप्ताह ही पुलिस को सूचना दी गई थी कि शेख अपने मूल इलाके पर लौट आया है और अपने रिश्तेदार के साथ रह रहा है। एक टीम को वहाँ भेजा गया, लेकिन हर बार की तरह शेख बच निकला।

बाद में पुलिस को पता चला कि सलीम शेख के बांग्लादेश की सीमा पार करने की संभावना है, टीम ने उसके रिश्तेदारों से सम्पर्क करने के बजाए, एक ऐसे व्यक्ति से संपर्क साधा जिसके साथ आरोपित का एक बार झगड़ा हुआ था।

एक अधिकारी के अनुसार, “एक स्थानीय निवासी था, जिसका बादशाह शेख के साथ झगड़ा हुआ था और वह आरोपित के निवास से बस 20 फीट की दूरी पर रहता था। उन्होंने हमारे एक कॉन्सटेबल को अपने घर में रहने की अनुमति दी।”

उन्होंने बताया कि पुलिस की वर्दी से उन्हें पहले ही संकेत मिल जाता था कि हम शहर से आ रहे हैं। इसीलिए तीन पुलिसकर्मी, जो शेख को गिरफ्तार करने गए थे, ने लुंगी, मफलर, टोपी और चेक वाली कमीजें पहनी। एक पुलिसकर्मी स्थानीय निवासी के रिश्तेदार के रूप में उसके पड़ोस में रहने लगा।”

गत शुक्रवार (दिसंबर11, 2020) को जैसे ही शेख अपने रिश्तेदार के घर पहुँचा, पुलिसकर्मी निकुम ने, सब-इंस्पेक्टर सचिन मंडोले और डी भोसले के साथ, स्थानीय पुलिस की मदद से उसे गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद उसे मुंबई ले जाया गया और अब वह तलोजा सेंट्रल जेल में बंद है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

बैन लगने के बाद भी PFI को Twitter का ब्लू टिक: भारत और हिंदू-विरोधी रवैया है इस सोशल मीडिया साइट की पहचान, लग चुकी...

देश विरोधी गतिविधियों के कारण सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाने के बावजूद ट्विटर कर्नाटक PFI के हैंडल को वैरिफाइड बनाए रखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe