Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजगोगामेड़ी के हत्यारों ने मोहाली से लूटी थी कार, गोल्डी बराड़ जैसी जिंदगी का...

गोगामेड़ी के हत्यारों ने मोहाली से लूटी थी कार, गोल्डी बराड़ जैसी जिंदगी का मिला था लालच: जानिए अपने ही साथी शेखावत को भी क्यों मार डाला

नितिन फौजी और रोहित राठौर विदेश भागने की फिराक में थे। इन सभी को रोहित गोदारा गैंग से लॉरेंस विश्नोई का समर्थन, कनाडा का पासपोर्ट वीजा, कैश और हथियारों का लालच दिया गया था।

सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड को अंजाम देने वाले 2 शूटरों रोहित राठौर और नितिन फौजी को उनके तीसरे सहयोगी उधम के साथ राजस्थान पुलिस ने रविवार (10 दिसंबर, 2023) को चंडीगढ़ से गिरफ्तार किया था। इन सभी ने पूछताछ में कई अहम खुलासे किए हैं। इन शूटरों को रोहित गोदारा ने कनाडा में बसाने और गोल्डी बराड़ जैस जिंदगी का लालच दिया था। इन्हीं दोनों शूटरों ने ही सुखदेव सिंह की हत्या में शामिल अपने तीसरे साथी नवीन शेखावत को मार डाला था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नितिन फौजी और रोहित राठौर विदेश भागने की फिराक में थे। इन सभी को रोहित गोदारा गैंग से लॉरेंस विश्नोई का समर्थन, कनाडा का पासपोर्ट वीजा, कैश और हथियारों का लालच दिया गया था। सुखदेव सिंह की हत्या के एवज में दोनों शूटरों को गोल्डी बराड़ जैसी जिंदगी के सपने दिखाए गए थे। फ़िलहाल सुखदेव हत्याकांड के मास्टरमाइंड रोहित गोदारा के यूरोप के किसी देश और उसके साथियों के कनाडा में छिपे होने की आशंका है। इन सभी को पासपोर्ट आदि तैयार होने में 15 से 20 दिन का समय बताया गया था।

दोनों शूटरों के साथ पुलिस ने अब तक उनके 2 सहयोगियों को भी अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया है। इनके नाम रामवीर जाट और उधम हैं। इन दोनों को सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या से पहले और बाद में शूटरों के रहने-खाने व फरार होने के इंतजाम देखने के लिए कहा गया था। खबर यह भी है कि दोनों सहयोगियों को इसी काम के लिए 50-50 हजार रुपए दिए भी गए थे। पुलिस शूटरों का सहयोग करने वाले रामवीर जाट और उधम से भी सवाल-जवाब में जुटी है।

पूछताछ में यह जानकारी भी निकल कर सामने आई है कि शूटर नितिन फौजी का रोहित गोदारा से परिचय भवानी सिंह नाम के एक व्यक्ति के माध्यम से हुआ। भवानी उर्फ़ रॉनी पहले ही गोदारा और उसके वीरेंद्र चरण जैसे साथियों के सम्पर्क में था। भवानी ने ही नितिन फौजी की बात रोहित गोदारा और उसकी गैंग से करवाई थी। इसी बातचीत के बाद नितिन फौजी सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के लिए तैयार हो गया था।

अपने ही साथी को मार डाला दोनों शूटरों ने

अब तक हुई पूछताछ में यह निकल कर सामने आया है कि 5 दिसंबर को रोहित राठौर और नितिन फौजी की मुलाकात हुई थी। दोनों नवीन शेखावत के वाहन से सुखदेव सिंह गोगामेड़ी को मारने के लिए निकले। घटना को अंजाम देने के बाद दोनों ने अपने ही साथी नवीन को भी गोली मार दी। बताया जा रहा है कि नवीन शेखावत को भी मारने का आदेश शूटरों को उनके आकाओं से मिला था। नवीन काफी समय से सम्पत नेहरा और रोहित गोदारा के लिए काम कर रहा था। नवीन ने ही सुखदेव गोगामेड़ी की पूरी रेकी की थी और शूटरों से मीटिंग करवाई थी।

इस बीच नवीन घटनाओं को अंजाम देने की एवज में ज्यादा पैसे माँगने लगा था। पैसे न मिलने पर वह अपने ही आकाओं को गिरफ्तार करवाने की धमकियाँ देता था। शूटरों ने यह भी बताया कि उन्हें लगा कि नवीन शेखावत सुखदेव सिंह को गोलियाँ मारने के दौरान उनको रोकने का प्रयास कर रहा था। हत्यारों ने चंडीगढ़ में एक टैक्सी ड्राइवर जतिंदर सिंह से स्विफ्ट डिजायर कार भी लूटी थी। हरभजन सोसाइटी जाने के लिए इन्होंने टैक्सी बुक की थी। अब तक गाड़ी नहीं मिली है। जतिंदर को शक है कि ये गोगामेड़ी के हत्यारे ही थे, वो चेहरे से पहचान सकता है। पुलिस उसका बयान दर्ज करेगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K में योग दिवस मनाएँगे PM मोदी, अमरनाथ यात्रा भी होगी शुरू… उच्च-स्तरीय बैठक में अमित शाह का निर्देश – पूरी क्षमता लगाएँ, आतंकियों...

2023 में 4.28 लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा अमरनाथ का दर्शन किया था। इस बार ये आँकड़ा 5 लाख होने की उम्मीद है। स्पेशल कार्ड और बीमा कवर दिया जाएगा।

परचून की दुकान से लेकर कई हजार करोड़ के कारोबार तक, 38 मुकदमों वाले हाजी इक़बाल ने सपा-बसपा सरकार में ऐसी जुटाई अकूत संपत्ति:...

सहारनपुर में मिर्जापुर का रहने वाला मोहम्मद इकबाल परचून की दुकान से काम शुरू कर आगे बढ़ता गया। कभी शहद बेचा, तो फिर राजनीति में आया और खनन माफिया भी बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -