Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'पीटते थे घर वाले, अम्मी ने तो की जान लेने की कोशिश': बरेली की...

‘पीटते थे घर वाले, अम्मी ने तो की जान लेने की कोशिश’: बरेली की गुलफ्शा ने अपनाया हिन्दू धर्म, रोशनी पाल बन कर सूरज को चुना जीवन साथी

कक्षा 7 तक पढ़ीं गुलफ्शा ने बताया कि उनकी और सूरज की पहली मुलाकात लगभग 4 साल पहले हरियाणा के पानीपत जिले में हुई थी। यहाँ की एक फैक्ट्री में सूरज सिलाई का काम करते थे।

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में एक मुस्लिम लड़की ने घर-वापसी की है। लड़की का नाम गुलफ्शा बानो है। मूल रूप से UP के ही सीतापुर जिले की रहने वाली गुलफ्शा अब रोशनी पाल नाम से जानी जाएँगी। उन्होंने एक मंदिर में बदायूँ जिले के निवासी अपने प्रेमी सूरज से वैदिक विधि-विधान से शादी किया है। वैवाहिक कार्यक्रम सोमवार (3 जून, 2024) को सम्पन्न हुए हैं। शादी से बेहद खुश रोशनी ने अपना झुकाव पहले से ही हिन्दू धर्म की तरफ बताया है।

कक्षा 7 तक पढ़ीं गुलफ्शा ने बताया कि उनकी और सूरज की पहली मुलाकात लगभग 4 साल पहले हरियाणा के पानीपत जिले में हुई थी। यहाँ की एक फैक्ट्री में सूरज सिलाई का काम करते थे। इसी फैक्ट्री में गुलफ्शा झाड़ू-पोंछा लगाती थीं। वह बेहद गरीब परिवार की हैं। अम्मी-अब्बू के अलावा घर में 4 अन्य बहनें हैं। साथ काम करने के दौरान गुलफ्शा और सूरज पहले अच्छे दोस्त बने और बाद में एक दूसरे से प्यार करने लगे। गुलफ्शा ने अपने घर में सूरज से शादी की बात रखी तो सभी नाराज हो गए।

अब्दुल सलाम की बेटी गुलफ्शा का कहना है कि सूरज से रिश्तों की जानकारी होने के बाद उनके घर में सभी ने बातचीत बंद कर दी। गुलफ्शा की अम्मी किसमतुल ने तो अपनी ही बेटी को छत से धक्का दे कर जान से मार डालने की कोशिश की। लड़की के परिजनों ने सूरज पाल से बात करने पर उसे मार कर कहीं फेंक देने तक की बातें कहीं थीं। गुलफ्शा ने पहले से ही खुद को हिन्दू धर्म की तरफ आकर्षित बताया। उन्होंने खुद को बालिग़ बताते हुए सूरज पाल से अपनी मर्जी से विवाह करने की बात कही। शादी बाद गुलफ्शा अपने पति के साथ चली गईं।

गुलफ्शा और सूरज का विवाह बरेली के अगत्स्य मुनि आश्रम में हुआ है। शादी के लिए गुलफ्शा अपने पैतृक घर सीतापुर और सूरज बदायूँ से पहुँचे थे। दोनों ने वैदिक विधि विधान का पालन किया। गुलफ्शा ने हिन्दू परम्परा के हिसाब से कपड़े पहने थे। शादी के दौरान ही उन्होंने सूरज के नाम का सिन्दूर अपनी मांग में डाला। इस मौके पर आचार्य पंडित के के शंखधर से दोनों का विवाह सम्पन्न करवाया। शादी में सूरज के परिजनों के अलावा हिन्दू संगठन से जुड़े कुछ लोग भी शामिल हुए। इन सभी ने वर-वधू को सदा सुखी रहने का आशीर्वाद दिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -