Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजआजम खान के 'घर' की औरतें भी जगीं, शौहर के मुॅंह पर दे मारा...

आजम खान के ‘घर’ की औरतें भी जगीं, शौहर के मुॅंह पर दे मारा तीन तलाक का पेपर

"काउंसलिंग के दौरान महिला ने साहस दिखाते हुए पति से दो टूक कहा कि इस तरह वह उसे छोड़कर नहीं जाने वाली है और कागज के एक टुकड़े पर तीन बार तलाक लिख देने का कोई मतलब नहीं है।"

तीन तलाक को अपराध बनाने से मुस्लिम महिलाओं को किस कदर ताकत मिली है इसका एक प्रमाण आजम खान के संसदीय क्षेत्र रामपुर की एक महिला ने दिया है। 52 वर्षीय महिला ने काउंसलिंग के दौरान तीन तलाक का पेपर शौहर के सामने फाड़ते हुए दो टूक कहा कि अब यह नहीं चलने वाला है। दंपती को काउंसलिंग के लिए मुरादाबाद के नारी उत्थान केन्द्र में बुलाया गया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़ित महिला ने मुरादाबाद एसपी को शिकायत करते हुए पति पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। एक जुलाई को शौहर ने कागज पर तीन बार तलाक लिखकर उसे थमा दिया। इसके बाद एसपी ने इस दंपती को नारी उत्थान केन्द्र जाकर काउंसलर से मिलने को कहा।

मंगलवार को काउंसलर संध्या राउत ने काउंसलिंग के लिए दंपती को बुलाया था। काउसंलर दोनों की बात सुन ही रहे थे कि पत्नी ने तीन तलाक के पेपर को फाड़ दिया। बीवी के इस तेवर से शौहर के होश गुम हो गए और वह उसे साथ रखने को राजी हो गया। दोनों की शादी 26 साल पहले हुई थी और उनके तीन बच्चे हैं।

रावत ने बताया, “काउंसलिंग के दौरान महिला ने साहस दिखाते हुए पति से दो टूक कहा कि इस तरह वह उसे छोड़कर नहीं जाने वाली है और कागज के एक टुकड़े पर तीन बार तलाक लिख देने का कोई मतलब नहीं है। जब वह तीन तलाक के कागज को फाड़ रही थी तो हमने इसे मोबाइल में शूट कर लिया।”

उन्होंने कहा कि यह बेहद भावुक था। उम्मीद है कि भविष्य में यह वीडियो दिखाकर हम और दंपतियों के बीच सुलह करवाने में कामयाब होंगे।

तीन तलाक को अपराध बनाने वाले ऐतिहासिक बिल के अमल में आने के बाद इस तरह की यह दूसरी घटना है। इससे पहले सहारनपुर में मोहम्मद अली ने कानून के डर से अपनी पत्नी को अपना लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe