Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाज'मेरे पति गलत नहीं, ये हम बर्दाश्त नहीं करेंगे: नवाब मलिक को समीर वानखेड़े...

‘मेरे पति गलत नहीं, ये हम बर्दाश्त नहीं करेंगे: नवाब मलिक को समीर वानखेड़े की पत्नी का जवाब, शेयर की थी वसूली वाली चिट्ठी

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने ट्विटर पर एक पत्र साझा कर वानखेड़े पर नए आरोप लगाए हैं। उनका दावा है कि यह पत्र उन्हें एनसीबी के एक अनाम अधिकारी से मिला है। चार पन्नों के पत्र में वानखेड़े पर बॉलीवुड स्टारों से वसूली करने के आरोप लगाए गए हैं।

महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने ट्विटर पर एनसीबी के एक अनाम अधिकारी की चिट्ठी साझा की थी। इसमें एनसीबी के ज्वाइंट डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर बॉलीवुड स्टार्स से वसूली का आरोप लगाया गया है। इस मसले पर मलिक को वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडेकर ने जवाब दिया है।

क्रांति रेडेकर ने कहा है कि इस तरह के पत्र का कोई मतलब नहीं है। उनके पति गलत नहीं है और इसे वे बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने इस मसले पर कोर्ट जाने से इनकार करते हुए कहा कि जो लोग आरोप लगा रहे हैं उनको अदालत जाना चाहिए। क्रांति ने कहा, “हम करोड़पति नहीं हैं। हम साधारण लोग हैं। समीर एक ईमानदार अधिकारी हैं। कई लोग हैं जो चाहते हैं कि उनको हटा दिया जाए।”

वहीं मलिक द्वारा वानखेड़े के खिलाफ लगाए गए आरोपों पर एजेंसी के महानिदेशक मुथा अशोक जैन ने आवश्यक कार्रवाई का भरोसा दिया है। मुंबई में एनसीबी कार्यालय के बाहर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैंने उस पत्र को देखा है। हम आवश्यक कार्रवाई करेंगे।”

क्या है पूरा मामला

महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने ट्विटर पर एक पत्र साझा कर वानखेड़े पर नए आरोप लगाए हैं। उनका दावा है कि यह पत्र उन्हें एनसीबी के एक अनाम अधिकारी से मिला है। चार पन्नों के पत्र में वानखेड़े पर बॉलीवुड स्टारों से वसूली करने के आरोप लगाए गए हैं। मलिक ने अपने ट्वीट में बताया है कि वे इस पत्र को डीजी नारकोटिक्स को भेज रहे हैं। यह पत्र वानखेड़े के खिलाफ एनसीबी की जाँच का हिस्सा होना चाहिए। पत्र में अनाम अधिकारी ने कहा है कि वह बीते दो साल से एनसीबी के मुंबई कार्यालय में तैनात है।

पति की छवि खराब करने को लेकर कीर्ति ने Koimoi को लताड़ा था

हाल ही में समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर वानखेड़े ने वेबसाइट Koimoi.com द्वारा प्रकाशित एक समाचार की क्लिपिंग साझा की थी। इसमें उन्होंने न्यूज वेबसाइट पर उनकी और उनके पति की छवि खराब करने के इरादे से भ्रामक हेडलाइन देने का आरोप लगाया था। Koimoi.com द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के शीर्षक का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए क्रांति रेडकर ने ट्वीट किया, “प्रिय @Koimoi आप यहाँ क्या कर रहे हैं? केवल कुछ व्यूज के लिए आपने भ्रामक शीर्षक दिया है, क्यों? इस केस को मैं पहले ही अदालत में लड़कर जीत चुकी हूँ। मैंने पूरी रिपोर्ट पढ़ी, इसमें गलत पहचान की बात कही गई है, फिर भी यह शीर्षक क्यों? मेरी या समीर की प्रतिष्ठा को चोट पहुँचाने के लिए। सिर्फ पैसे के लिए?”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe