Saturday, April 13, 2024
Homeदेश-समाजआर्यन को गिरफ्तार करने वाले NCB अधिकारी की छवि खराब करने को बॉलीवुड वेबसाइट...

आर्यन को गिरफ्तार करने वाले NCB अधिकारी की छवि खराब करने को बॉलीवुड वेबसाइट चला रहे भ्रामक खबर, पत्नी ने Koimoi को लताड़ा

क्रांति रेडकर वानखेड़े ने ट्वीट किया, “प्रिय @Koimoi आप यहाँ क्या कर रहे हैं? केवल कुछ व्यूज के लिए आपने भ्रामक शीर्षक दिया है, क्यों? इस कोस को मैं पहले ही अदालत में लड़कर जीत चुकी हूँ।"

एंटी-ड्रग्स एजेंसी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अधिकारी समीर वानखेड़े की टीम ने जब से कॉर्डेलिया क्रूज पर ड्रग्स पार्टी का भंडाफोड़ कर बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को गिरफ्तार किया है, तब से वो सुर्खियों में बने हुए हैं। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक द्वारा एनसीबी के जोनल निदेशक पर आरोप लगाने के बाद अब उनकी पत्नी क्रांति रेडकर वानखेड़े ने ट्विटर पर एक बॉलीवुड वेबसाइट को समीर और उनके परिवार की छवि खराब करने के इरादे से दुर्भावनापूर्ण और भ्रामक खबरें फैलाने के लिए फटकार लगाई है।

समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर वानखेड़े पेशे से मराठी एक्ट्रेस हैं। उन्होंने 6 अक्टूबर 2021 को बॉलीवुड वेबसाइट Koimoi.com द्वारा प्रकाशित एक समाचार की क्लिपिंग साझा की। इसमें उन्होंने न्यूज वेबसाइट पर उनकी और उनके पति की इमेज को खराब करने के इरादे से भ्रामक हेडलाइन देने का आरोप लगाया है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि यह रिपोर्ट शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी के तीन दिन बाद प्रकाशित हुई थी, जिसे सात अन्य लोगों के साथ 2 अक्टूबर को कॉर्डेलिया क्रूज से समीर वानखेड़े के नेतृत्व में एनसीबी टीम ने पकड़ा था।

Koimoi.com द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के शीर्षक का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए क्रांति रेडकर वानखेड़े ने ट्वीट किया, “प्रिय @Koimoi आप यहाँ क्या कर रहे हैं? केवल कुछ व्यूज के लिए आपने भ्रामक शीर्षक दिया है, क्यों? इस कोस को मैं पहले ही अदालत में लड़कर जीत चुकी हूँ। मैंने पूरी रिपोर्ट पढ़ी, इसमें गलत पहचान की बात कही गई है, फिर भी यह शीर्षक क्यों? मेरी या समीर की प्रतिष्ठा को चोट पहुँचाने के लिए। सिर्फ पैसे के लिए?”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “@Koimoi हर कोई पूरी रिपोर्ट नहीं पढ़ता है। आपके लापरवाह और असंवेदनशील लेखन के कारण लोग मुझे ट्रोल करते हैं। हम भावनाओं के साथ वास्तविकता में जीने वाले लोग हैं। आपके उपभोग की वस्तु नहीं। अगर मैं दोषी होती तो मैं दोष झेल लेती, लेकिन मैं नहीं दोषी हूँ, इसलिए मैं नहीं झेलूँगी।”

दरअसल, Koimoi.com की रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, “क्रांति रेडकर पर आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग विवाद में शामिल होने का आरोप लगा था। यह 2013 की बात है, जब एस श्रीसंत भी रडार पर आए थे। बाद में इसे ‘गलत पहचान’ का मामला करार दिया गया।” हालाँकि, जैसा कि मराठी अभिनेत्री ने बताया शीर्षक को इस तरह से बनाया गया कि इससे ऐसा लगता है कि क्रांति रेडकर मैच फिक्सिंग की दोषी हैं। रिपोर्ट का संग्रह संस्करण यहां देखा जा सकता है।

कोईमोई.कॉम के आर्टिकल का स्क्रीनशॉट

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, एनसीबी के निदेशक समीर वानखेड़े, जिन्होंने जून में अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के बाद ड्रग्स का मामला संभाला था, ने हाल ही में हाई-प्रोफाइल आर्यन खान मामले के कारण लोगों का आकर्षित किया है। छापेमारी के बाद आरोप लगे हैं कि वानखेड़े आर्यन खान को चुन कर निशाना बना रहे हैं। इसके बाद कई लोगों ने उनकी प्रतिष्ठा को धूमिल करने के लिए उनके व्यक्तिगत और पारिवारिक जीवन पर उँगली उठाना शुरू किया है।

इससे पहले एनसीबी नेता नवाब मलिक भी समीर वानखेड़े पर कई आरोप लगा चुके हैं, लेकिन कोई तथ्य नहीं पेश किए। मलिक ने आरोप लगाया कि समीर वानखेड़े महामारी के दौरान मालदीव में थे, जब कई बॉलीवुड हस्तियाँ वहाँ भी छुट्टियाँ मना रही थीं। उन्होंने आरोप लगाया कि मालदीव और दुबई में ‘वसूली’ (जबरन वसूली) हुई। उन्होंने दावा किया उनके पास इसका सबूत भी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe